कश्‍मीर फाइल एकेडमी अवॉर्ड शॉर्टलिस्‍ट में नहीं, 301 फिल्‍मों की रिमाइंडर लिस्‍ट में है

By yourstory हिन्दी
January 12, 2023, Updated on : Thu Jan 12 2023 09:55:18 GMT+0000
कश्‍मीर फाइल एकेडमी अवॉर्ड शॉर्टलिस्‍ट में नहीं, 301 फिल्‍मों की रिमाइंडर लिस्‍ट में है
रिमाइंडर लिस्‍ट में दुनिया भर की 301 फिल्‍में शामिल हैं, जिसमें भारत की भी चार फिल्‍में हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस साल एकेडमी अवॉर्ड्स को लेकर काफी उलझन है. कई निर्देशक दावा कर रहे हैं कि उनकी फिल्‍म एकेडमी अवॉर्ड के लिए शॉर्टलिस्‍ट हुई है. ‘द कश्मीर फाइल्स’ के निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री ने ट्विटर पर यह दावा किया है कि उनकी फिल्म को एकेडमी अवॉर्ड्स 2023 के लिए नॉमिनेट की गई पांच फिल्‍मों की सूची में शॉर्टलिस्ट  किया गया है. उनका दावा है कि यह फिल्‍म पांच भारतीय फिल्मों में से एक थी.


आइए इस दावे की हकीकत को समझते हैं. दरअसल कश्‍मीर फाइल्‍स एकेडमी अवॉर्ड के लिए शॉर्टलिस्‍ट नहीं हुई है, बल्कि उसे रिमाइंडर लिस्‍ट में शामिल किया गया है.


 एसएस राजामौली की फिल्‍म ‘आरआरआर’, रिषभ शेट्टी की फिल्‍म ‘कांतारा’, संजय लीला भंसाली की फिल्‍म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ और विवेक रंजन अग्निहोत्री की फिल्‍म ‘द कश्मीर फाइल्स’ 2022 में बनी वो हिंदुस्‍तानी फिल्में हैं, जिन्‍हें एकेडमी ऑफ मोशन पिक्चर आर्ट्स एंड साइंसेज (एएमपीएएस) ने 301 फीचर फिल्मों की सूची में शामिल किया है.


ये वो लिस्‍ट है, जिसे रिमाइंडर लिस्‍ट कहा जाता है. इस लिस्‍ट में दुनिया भर से आई 301 फिल्‍में शामिल हैं.  


इस तरह देखा जाए तो बेस्‍ट फॉरेन लैंग्‍वेज फिल्‍म कैटेगरी में नॉमिनेट होने और शॉर्टलिस्‍ट होने वाली एकमात्र फिल्‍म पैन नलिन की गुजराती भाषा में बनी फिल्‍म ‘छेलो शो’ है. बाकी फिल्‍में सिर्फ रिमाइंडर लिस्‍ट में शामिल हैं. उन्‍हें ऑस्‍कर अवॉर्ड के लिए नामित नहीं किया गया है.


एकेडमी अवॉर्ड हर साल दुनिया भर से इस अवॉर्ड के लिए फिल्‍में आमंत्रित करता है. इसमें सभी देश अपनी तरफ से एक ऑफिशियल एंट्री भेजते हैं. भारत की तरफ से इस बार ऑफिशियली जिस फिल्‍म को भेजा गया, वह छेलो शो है. इसके अलावा लोग स्‍वतंत्र रूप से भी अपनी फिल्‍में इस अवॉर्ड के लिए भेज सकते हैं.


एकेडमी अवॉर्ड में फिल्‍में भेजने के लिए उसका चुनाव फिल्‍म फेडरेशन ऑफ इंडिया (FFI) के द्वारा किया जाता है. FFI भी फिल्‍म चयन के लिए पहले फिल्‍में आमंत्रित करती है. फिल्‍म फेडरेशन की अपनी एक जूरी होती है, जो सभी फिल्‍मों को देखती है और अंत में किसी एक फिल्‍म का चुनाव किया जाता है. इस चयन के पीछे फेडरेशन का अपना क्राइटेरिया होता है. फिल्‍म अंत में चुनी गई किसी एक फिल्‍म को भारत की तरफ से ऑफिशियली एकेडमी अवॉर्ड के लिए भेजा जाता है.


एकेडमी अवॉर्ड के नियमों के मुताबिक बेस्‍ट फॉरेन लैंग्‍वेज कैटेगरी में वह फिल्‍में शामिल होती हैं, जो अमेरिका में नहीं बनी हैं. जिनकी भाषा अंग्रेजी नहीं है और जो अपने देश में पहले रिलीज हो चुकी है. हर देश की तरफ से आधिकारिक रूप से सिर्फ एक ही फिल्‍म भेजी जा सकती है.


विभिन्‍न देशों की ऑफिशियल एंट्री के उलट मोशंस पिक्‍चर्स की रिमाइंडर लिस्‍ट में बहुत सारी ऐसी फिल्‍में शामिल होती हैं, जो लास्‍ट फाइव में भी सेलेक्‍ट नहीं होतीं. यानि की आखिरी शॉर्टलिस्टिंग की प्रक्रिया में वो छांट दी जाती हैं. रिमाइंडर लिस्‍ट में शामिल फिल्‍मों को एकेडमी मोशंस पिक्‍चर्स की जूरी देखती है.

 

2022 में रिलीज हुई जिन फिल्‍मों को एकेडमी अवॉर्ड से सम्‍मानित किया जाएगा, उसकी घोषणा आगामी 12 मार्च, 2023 को लॉस एंजेल्स के डॉलबी थिएटर में आयोजित होने वाले एक समारोह में होगी.


Edited by Manisha Pandey