Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

योरस्टोरी के द मेटावर्स समिट और ब्लॉकचैन इकोनॉमी फ्रैंचाइज़ी के लॉन्च पर हुईं कुछ खास बातें

योरस्टोरी के द मेटावर्स समिट और ब्लॉकचैन इकोनॉमी फ्रैंचाइज़ी के लॉन्च पर हुईं कुछ खास बातें

Monday December 20, 2021 , 6 min Read

योरस्टोरी ने बीते शनिवार को आधिकारिक तौर पर द मेटावर्स समिट की शुरुआत की है, यह एक फ्लैगशिप प्रोग्राम है जो ग्लोबल ब्लॉकचैन और वेब 3.0 इकोसिस्टम को एक साथ लाकर एक डिसेंट्रलाइज्ड भविष्य और मेटावर्स के निर्माण में इनोवशन को गति देने का काम करेगा।


योरस्टोरी की संस्थापक और सीईओ श्रद्धा शर्मा ने कहा, "भारत में बहुत सारे अद्भुत, युवा बिल्डर्स हैं जो इस नई वेब 3.0 दुनिया में आए इन अवसरों को लेकर उत्साहित हैं। मेटावर्स समिट, द डिक्रिप्टिंग स्टोरी और योरस्टोरी की ब्लॉकचैन इकोनॉमी फ्रैंचाइज़ी में अन्य पहलों के साथ हम उनके को प्रोत्साहित करने के साथ ही इसे सेलिब्रेट भी कर रहे हैं। हम एक डिसेंट्रलाइज्ड भविष्य की दिशा में आवाज उठा रहे हैं।”


संस्थापक श्रद्धा शर्मा ने योरस्टोरी की एकदम नई ब्लॉकचैन इकोनॉमी फ्रैंचाइज़ी के हिस्से के रूप में द मेटावर्स समिट की शुरुआत की है, जिसमें विकेंद्रीकृत नेटवर्क बनाने वाले इनोवेटर्स, डेवलपर्स, उद्यमियों और टेक्नालजिस्ट के लिए एक सक्षम वातावरण को बढ़ावा देने के लिए महत्वपूर्ण पहलों की एक सिरीज़ शामिल है, जो डिजिटल इकॉनमी के अगले युग को ताकत देगी।

ये हैं मुख्य हाइलाइट्स:

पॉलीगॉन: मेटावर्स निर्माण के लिए एक प्लेग्राउंड

क

योरस्टोरी के द मेटावर्स समिट के लॉन्च के मौके पर पॉलीगॉन के सह-संस्थापक और चीफ ऑपरेशंस ऑफिसर संदीप नेलवाल ने बताया कि कैसे उनका वेब 3.0 स्टार्टअप का नेटवर्क सभी मेटावर्स-बिल्डिंग गतिविधियों के लिए एक प्लेग्राउंड बन रहा है और ब्लॉकचेन तकनीक इसमें इनोवेशन को बढ़ावा दे सकती है।


पॉलीगॉन एथेरियम-कंपेटिबल ब्लॉकचेन नेटवर्क के निर्माण और कनेक्ट करने के लिए गो-टू प्रोटोकॉल और फ्रेमवर्क के रूप में उभरा है।

इसके बढ़ते उत्पादों और स्केलिंग समाधानों ने 3000 से अधिक एप्लिकेशन को होस्ट करने के साथ ही 1 बिलियन से अधिक ट्राइकजैक्शन, 100 मिलियन से अधिक यूनिक यूजर्स एड्रेस और 5 बिलियन डॉलर से अधिक के एसेट्स पर काम किया है।


बढ़ती मांग के बावजूद संदीप ने कहा,

"हमें अभी भी लगता है कि ब्लॉकचैन उद्योग के विकास के मामले में हम थोड़ा जल्दी में हैं। इसमें से बहुत कुछ मीडिया प्रचार है। हम वहाँ अभी तक नहीं पहुँचे हैं। लेकिन हम हमेशा से स्पष्ट रहे हैं कि हम वास्तविक दुनिया के ऐप्स बनाने के लिए डेवलपर्स को अपनाने और सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करने जा रहे हैं।"


पूरी स्टोरी इधर पढ़ें

ब्लॉकचेन, क्रिप्टो, NFT और DAO के जरिये साझा दुनिया का निर्माण

क

इस साल फेसबुक की मेटा के लिए रीब्रांडिंग और मेटावर्स कंपनी बनने की दिशा में इसके बदलाव ने इस कॉन्सेप्ट में रुचि को नया कर दिया है।

मेटावर्स समिट के लिए योरस्टोरी के लॉन्च इवेंट में वेब 3.0 और ब्लॉकचेन स्पेस के विशेषज्ञों का एक पैनल उन प्रमुख बिल्डिंग ब्लॉक्स पर चर्चा करने के लिए एक साथ आया जो इस तरह के मेटावर्स के निर्माण की ओर काम कर रहे हैं।


कोवैलेंट के सीईओ गणेश स्वामी और लुमोस लैब्स की सीओओ काव्या प्रसाद, नियर प्रोटोकॉल के सह-संस्थापक इलिया पोलोसुखिन, ब्रू फाइनेंस के सीईओ और सह-संस्थापक आशीष आनंद इस पैनल में शामिल हुए, जहां शेयर्ड ऑनलाइन दुनिया के भविष्य को लेकर चर्चा हुई।


कोवैलेंट के सीईओ गणेश स्वामी ने कहा, 

"मेटावर्स एक अवसर है और दशकों से 2D और 3D ऑनलाइन वर्चुअल स्पेस के कुछ प्रकार रहे हैं। अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप दुनिया में कहां हैं, आप इससे बंधे हुए नहीं हैं। यही कारण है कि सात अरब लोगों के लिए एक साथ काम करना और बेहतर भविष्य का निर्माण करना रोमांचक है।”


पूरी स्टोरी इधर पढ़ें

मेटावर्स को इंटरनेट की तरह मुख्यधारा में लाना

क

मेटावर्स समिट लॉन्च इवेंट में CoinDCX के सह-संस्थापक और सीटीओ नीरज खंडेलवाल ने कहा, "हमारा उद्देश्य है कि भारत मेटावर्स पर शानदार उत्पादों के निर्माण में सफल हो। हम इसे इंटरनेट की तरह मुख्यधारा बनाना चाहते हैं। स्टार्टअप्स को इस पर उत्पाद बनाने की जरूरत है और इसी तरह मेटावर्स का विकास होगा।"


उनके अनुसार, मेटावर्स ने अब गति पकड़नी शुरू कर दी है, उद्योग के पास अगले 20 से 30 वर्षों के लिए बड़े पैमाने पर और आगे बढ़ने के लिए जगह है।CoinDCX बी कैपिटल के नेतृत्व में 90 मिलियन डॉलर की फंडिंग के साथ यूनिकॉर्न क्लब में प्रवेश करने वाला पहला क्रिप्टो स्टार्टअप बन गया है।


नीरज ने योरस्टोरी की द डिक्रिप्टिंग स्टोरी भी लॉन्च की है जो इस स्पेस में सर्वश्रेष्ठ ब्लॉकचेन स्टार्टअप, इनोवेटिव सोल्यूशंस और BUIDLers को फीचर करने के लिए एक डिजिटल मल्टीमीडिया प्रॉपर्टी है। प्लेटफॉर्म पर भारत के विकासशील ब्लॉकचेन और क्रिप्टो ईकोसिस्टम पर विस्तृत इनसाइट, विश्लेषण और संसाधन भी होंगे।


पूरी स्टोरी इधर पढ़ें

भारत में हैं ग्लोबल क्रिप्टो हब बनने की अपार संभावनाएं 

क

भारत के पहले वेब 3.0 कॉन्फ्रेंस, योरस्टोरी के द मेटावर्स समिट के लॉन्च इवेंट में निवेशकों ने कहा, ‘भारत में वैश्विक क्रिप्टो हब बनने की जबरदस्त संभावनाएं हैं, लेकिन देश में क्रिप्टो परियोजनाओं के संचालन में मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए क्रिप्टो स्टार्टअप को क्रिप्टो के साथ कारोबार स्थापित करने और संचालित करने के लिए एक स्पष्ट प्लेबुक विकसित करने की जरूरत है।’


एक पैनल चर्चा के दौरान बुडलर्स ट्राइब और लुमोस लैब्स के सह-संस्थापक और सीईओ रघु मोहन ने क्रिप्टो स्टार्टअप इकोसिस्टम हितधारकों जैसे बायोनॉमी के सह-संस्थापक अनिकेत जिंदल, वुडस्टॉक फंड के फाउंडिंग पार्टनर प्रणव शर्मा, यूनिफार्म की सह-संस्थापक और सीईओ तरुषा मित्तल और CoinDCX की कार्यकारी वीपी ग्रोथ एंड स्ट्रैटेजी मीनल ठुकराल से बात करते हुए भारत को एक वैश्विक क्रिप्टो हब बनाने और वेब 3.0 द्वारा संचालित एक डिसेंट्रलाइज्ड भविष्य के निर्माण पर चर्चा की।


वुडस्टॉक फंड के प्रणव शर्मा कहते हैं, "वेब 3.0 को रोका नहीं जा सकता है। भारत के इसमें आगे बढ़ने के लिए जो अधिक महत्वपूर्ण है, वह है इन उद्योगों या इकॉनमी पर समग्र रूप से कब्जा करना। एक और महत्वपूर्ण सवाल यह है कि क्या हम बड़े पैमाने पर रोजगार पैदा कर सकते हैं? इस प्रकार, यह सभी सक्षम फ्रेमवर्क को बनाने के बारे में है ताकि भारत भारी मूल्य हासिल कर सके।”


पूरी स्टोरी इधर पढ़ें

वेब 3.0 इनोवेशन के लिए स्केलेबल ब्लॉकचेन

क

चूंकि ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी को लेकर सभी क्षेत्रों में इसके एप्लिकेशन में वृद्धि देखी जा रही है। क्रॉस-ब्लॉकचैन ब्रिजिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की आवश्यकता भी अब तेज हो गई है।


भारत के पहले वेब 3.0 सम्मेलन में योरस्टोरी के द मेटावर्स समिट के लॉन्च पर ब्लॉकचैन स्टार्टअप राउटर प्रोटोकॉल के सीईओ रमानी रामचंद्रन ने वेब 3.0 इनोवेशन की अगली लहर के लिए स्केलेबल इंफ्रास्ट्रक्चर की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।


यह समझाते हुए कि वेब 3.0 में ब्लॉकचेन की गति और मापनीयता हमेशा उच्च नहीं होती है, उन्होने कहा, "पारंपरिक दुनिया में आपके पास प्रति सेकंड हजारों लेनदेन करने वाले वीज़ा और मास्टरकार्ड हैं।" 


उन्होंने कहा, “लेयर 2 प्रोटोकॉल और रोलअप ब्लॉकचेन पर मापनीयता की एक परत जोड़ रहे हैं। ये जो करने की कोशिश करते हैं वह एक चेन की कोर लेयर किए गए लेन-देन की मात्रा को कम करके लेन-देन के एक समूह को लेकर और उन्हें लेयर 2 चेन पर परफॉर्म करता है।"


पूरी स्टोरी इधर पढ़ें


Edited by Ranjana Tripathi