जीवन कौशल - राष्ट्र के नागरिकों के समग्र विकास को बढ़ावा देता है...

जीवन कौशल पर ध्यान भारत में अपनी यात्रा के उत्साहजनक चरण पर है. यह जरूरी है कि हम इस गति को तेज करें और हमारे देश के युवाओं की समग्र भलाई सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले जीवन कौशल पर प्रकाश डालें.

जीवन कौशल - राष्ट्र के नागरिकों के समग्र विकास को बढ़ावा देता है...

Saturday July 15, 2023,

4 min Read

समग्र विकास का तात्पर्य किसी व्यक्ति के समग्र विकास के लिए मानसिक, सामाजिक, भावनात्मक और बौद्धिक क्षमताओं के पोषण से है. यहीं पर जीवन कौशल (Life Skills) की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है. जीवन कौशल आवश्यक क्षमता और पारस्परिक कौशल हैं जो व्यक्तियों को सामाजिक विवेक के साथ सूचित निर्णय लेने में सक्षम बनाते हैं, सकारात्मक व्यवहार लागू करते हैं, और सबसे महत्त्वपूर्ण रूप से उन्हें जीवन में अनिश्चितताओं से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए तैयार करते हैं. आज के तेजी से बदलते और अत्यधिक अप्रत्याशित वातावरण में, जीवन कौशल विकसित करना व्यक्तियों की मूलभूत प्रगति के लिए एक महत्वपूर्ण निर्माण खंड बन गया है.

विकास के 2 प्रमुख क्षेत्र हैं जिनमें जीवन कौशल स्वयं को उधार देता है - भावनात्मक, सामाजिक भलाई, युवाओं की भविष्य की तैयारी और रोजगार क्षमता. इन दोनों क्षेत्रों में विकास एक युवाओं व्यक्ति के लिए समृद्ध और संपन्न जीवन के लिए महत्वपूर्ण है.

भावनात्मक और सामाजिक कल्याण की आवश्यकता

महामारी के कारण आए बदलावों के बीच, इसने स्पष्टता के साथ दोहराया कि हमारे जीवन में जीवन कौशल विकसित करने और पोषण करने की तत्काल आवश्यकता है, खासकर बच्चों और युवाओं के लिए.

इंडियन जर्नल ऑफ साइकोलोजी द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार मनोरोग उस महामारी के विनाशकारी मनोवैज्ञानिक प्रभाव को रेखांकित करता है जिसने अवसाद, चिंता, नींद से लेकर महत्वपूर्ण मानसिक बीमारियों में वृद्धि को जन्म दिया है. डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी एक वैज्ञानिक वाद में बताया गया है कि कैसे महामारी ने दुनिया भर में चिंता और अवसाद में 25% की खतरनाक वृद्धि की है.

दुनिया भर के व्यक्तियों के मानस में एक स्थिर और व्यवस्थित बदलाव भी आया है. राष्ट्र भर के नागरिक जटिल व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन को नेविगेट करने के भावनात्मक और मानसिक प्रभाव से निपटने का प्रयास कर रहे हैं,और आने वाले सभी आँकड़े और डेटा एक दिशा में इंगित करते हैं. अब पहले से कहीं अधिक, जीवन कौशल जैसे लचीलापन, अनुकूलनशीलता, और तनाव से निपटने के लिए एक प्रभावी तंत्र विकसित करना नागरिकों के लिए पूर्ण जीवन जीने के लिए महत्वपूर्ण हो गया है.

life-skills-promotes-overall-development-of-the-nation

सांकेतिक चित्र (साभार: freepik)

भविष्य की तैयारी और भविष्य में रोजगार

 21वीं सदी में जीवन कौशल तेजी से समग्र और सर्वांगीण विकास की कुंजी बनते जा रहे हैं. उन्हें एक शक्तिशाली राष्ट्र के लिए मजबूत नागरिक विकसित करने के लिए तैयार किया जा सकता है. संचार, जिम्मेदारी और नेतृत्व के गुण जैसे जीवन कौशल न केवल व्यक्तिगत विकास के लिए बल्कि पेशेवर विकास के लिए भी महत्वपूर्ण हैं. 2021 में वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि 50% से अधिक नियोक्ताओं ने समस्या-समाधान, सहयोग और संचार को अपने कर्मचारियों में सबसे बेशकीमती कौशल के रूप में सूचीबद्ध किया है. इसके अतिरिक्त, तेजी से आगे बढ़ने वाली टेक्नोलॉजी के आगमन ने हमारे आसपास की दुनिया को छोटा कर दिया है. आज के युवाओं को सामाजिक और सांस्कृतिक अंतरों को समझने के लिए डिजिटल रूप से साक्षर होने के अलावा विविधता का सम्मान करने और संबंध प्रबंधन जैसे कौशल से लैस होने की आवश्यकता है.

शिक्षा में जीवन कौशल की भूमिका उपर्युक्त महत्वपूर्ण क्षेत्रों को आधार बनाती है

यह तेजी से स्पष्ट हो गया है कि जीवन कौशल प्रशिक्षण को अपने दैनिक पाठ्यक्रम के ताने-बाने में समाहित करने के लिए शैक्षिक पारिस्थितिक तंत्र को एक परिवर्तन से गुजरना होगा. नई शिक्षा नीति 2020 (एनईपी 2020) अनुकूलनशीलता, नवीनता और महत्वपूर्ण सोच जैसे "21वीं सदी के कौशल" को शामिल करने के लिए भारत के शैक्षिक परिदृश्य को पुनर्गठित करने की आवश्यकता पर जोर देती है. यह रेखांकित करने के साथ कि शिक्षा को "अधिक अनुभवात्मक, समग्र, एकीकृत और पूछताछ-संचालित" होना चाहिए.

एनईपी 2020 के अध्यक्ष डॉ के कस्तूरियांगन ने हाल ही में लाइफ स्किल्स कोलैबोरेटिव (Life Skills Collaborative) द्वारा आयोजित इंडिया लाइफ स्किल्स समिट 2022 में अपने विचार साझा किए, उन्होंने कहा, "शिक्षा प्रणाली का उद्देश्य अच्छे इंसानों को विकसित करना है, जो तर्कसंगत विचार और कार्यवाही करने में सक्षम हैं, करुणा और सहानुभूति रखना, वाक् नैतिकता और मूल्यों के साथ साहस और लचीलापन प्रदर्शित करना. ये सभी जीवन कौशल हैं और इन्हें हर बच्चे में विकसित किया जाना चाहिए." 

इस दृष्टि को एक ठोस वास्तविकता में बदलने के लिए, जीवन कौशल को मुख्यधारा में लाने के लिए स्वीकृति, अभिस्वीकृति और कार्यवाही अनिवार्य है. हमारे बच्चों और युवाओं को सशक्त बनाने के लिए शैक्षणिक पाठ्यक्रम को समग्र मनो-सामाजिक दक्षताओं और पारस्परिक कौशल के साथ पूरक बनाने की आवश्यकता है. एक मजबूत, आत्मनिर्भर राष्ट्र की नींव उसके व्यक्तिगत नागरिकों की सफलता में निहित है.

जीवन कौशल पर ध्यान भारत में अपनी यात्रा के उत्साहजनक चरण पर है. यह जरूरी है कि हम इस गति को तेज करें और हमारे देश के युवाओं की समग्र भलाई सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले जीवन कौशल पर प्रकाश डालें.

(लेखक ‘Life Skills Collaborative’ से बतौर Lead जुड़े हुए हैं. आलेख में व्यक्त विचार लेखक के हैं. YourStory का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है.)

यह भी पढ़ें
जानिए बुजुर्गों के लिए क्यों खास है सरकार की अटल वयो अभ्युदय योजना...


Edited by रविकांत पारीक