लाइव स्ट्रीमिंग पर यूजर्स को गेमिंग से लेकर एस्ट्रॉलजी, इवेंट्स और सोशल इंटरैक्शन का मौका देती है EloElo

सीईओ सौरभ पांडे के मुताबिक ये एक सोशल लाइव एंटरटेनमेंट प्रॉडक्ट है, जहां यूजर्स को एंटरटेनमेन्ट, एंस्ट्रॉलजी और गेमिंग के जरिए एंगेज होने का मौका मिलता है. लाइव चैट रूम में क्रिएटर्स और यूजर्स एक दूसरे से कनेक्ट होते हैं बात करते हैं और कनेक्शन बनाते हैं.

लाइव स्ट्रीमिंग पर यूजर्स को गेमिंग से लेकर एस्ट्रॉलजी, इवेंट्स और सोशल इंटरैक्शन का मौका देती है EloElo

Saturday January 21, 2023,

7 min Read

शुरुआती दिनों में सोशल मीडिया यानी लोगों को डिजिटली एक दूसरे से जोड़ने का माध्यम माना जाता था. समय के साथ टेक्नोलॉजी एडवान्स हुई तो सोशल मीडिया के तौर-तरीके भी बदले. टेक्स्ट की जगह वीडियो ने ले ली. फिर शॉर्ट वीडियो का ट्रेंड आया और अब वीडियो के बाद जमाना आ गया है लाइव स्ट्रीमिंग का.

कुछ वीडियो गेम तो काफी पहले से लाइव स्ट्रीमिंग फीचर दे रहे थे लेकिन अब लाइव स्ट्रीमिंग का दायरा काफी बढ़ चुका है. अब यह सोशल मीडिया पर लोगों को कनेक्ट करने का नए लोगों से कनेक्शन बनाने का एक नया जरिया बन गया है.

सौरभ पांडे और अक्षय दूबे नाम के दो शख्स को लाइव स्ट्रीमिंग में आगे इतना स्कोप नजर आया कि उन्होंने इस आइडिया के साथ एक कंपनी ही शुरू कर दी, जिसका नाम है Eloelo.

सौरभ के मुताबिक ये एक सोशल लाइव एंटरटेनमेंट प्रॉडक्ट है, जहां यूजर्स को एंटरटेनमेन्ट, एंस्ट्रॉलजी और गेमिंग के जरिए एंगेज होने का मौका मिलता है. लाइव चैट रूम में क्रिएटर्स और यूजर्स एक दूसरे से कनेक्ट होते हैं बात करते हैं और कनेक्शन बनाते हैं.

कहां से आया आईडिया

सौरभ योरस्टोरी के साथ इंटरैक्शन में बताते हैं कि 2019-20 में जब लॉकडाउन के समय वो अपनी मॉम का यूट्यूब चैनल मैनेज करते थे, जिसका नाम था स्वास्थ्य साधना. मैंने देखा कि आजकल नए क्रिएटर के लिए ऑडियंस बनाना कितना मुश्किल हो गया है. ना ही कोई प्लैटफॉर्म इस प्रॉबल्म को सॉल्व करने की कोशिश कर रहा है.

एक वीडियो डालने के बाद आपको महीनों इंतजार करना होता है, मेरे फॉलोअर बनेंगे या नहीं? मुझे इस प्रॉब्लम का एकमात्र समाधान नजर आया लाइव स्ट्रीमिंग. मुझे समझ आया कि लाइव ही एक तरीका है जिससे तुरंत ऑडियंस बन सकती है. फॉलोअर बनेंगे, कनेक्शन बनेंगे और अंत में रेवेन्यू भी जेनरेट होगा.

सौरभ ने अपने पुराने सहकर्मी अक्षय के साथ मिलकर सितंबर 2020 में EloElo की शुरुआत की. अक्षय और सौरभ ने 5 साल एक दूसरे के साथ फ्लिपकार्ट में काम किया है. अक्षय आईआईटी खड़गपुर से 2015 -16 के बैच से हैं. जबकि सौरभ 2015 से फ्लिपकार्ट में जुड़े थे, जहां उनको कैटगरीज, मार्केटिंग, प्रॉडक्ट मार्केटिंग का एक्सपीरियंस मिला. 

कैसी रही शुरुआत

सितंबर 2020 में EloElo एक सामान्य सा विडियो ऐप था. उस समय कंपनी में 6-7 लोग ही थी. सौरभ बताते हैं ना हमें टेक्नोलॉजी के बारे में अधिक कुछ मालूम भी नहीं था. इसलिए सिर्फ वीडियो प्लैटफॉर्म की तरह इसकी शुरुआथ हुई.

शुरुआत में ऐप नहीं इंस्टाग्राम पेज बनाया, जहां वो क्रिएटर्स को आकर लाइव करने को कहते. बिना किसी कंटेंट के ही 2 महीनों में उनके 20,000 फॉलोअर हो गए थे.

उसी समय कंपनी ने सीड फंड रेज किया था, जिसमें वॉटरब्रिज वेन्चर्स, सी स्काउट और कई एंजल इनवेस्टर्स ने निवेश किया. फंडिंग मिलने के साथ कंपनी ने जनवरी से फरवरी 2021 में लाइव फीचर शुरू किया. 

क्या थे फीचर

लाइव में यूजर्स के पास ढेरों ऑप्शन थे. यूजर्स लाइव चैट रूम में कनेक्ट होकर इवेंट्स अटेंड कर सकते हैं, गेम खेल सकते हैं, एस्ट्रोलॉजर्स से बात कर सकते हैं. इस समय यूजर्स के लिए प्लैटफॉर्म पर 16 फॉरमैट हैं.

इस समय प्लैटफॉर्म पर लगभग 15-16 गेम्स हैं. सारा प्रॉडक्ट भारतीय यूजर्स को ध्यान में रखकर बनाया गया है. तंबोला, सांप सीढ़ी, चिड़िया उड़, तोल मोल के बोल, अंताक्षरी, इस तरह के गेम्स हैं.

फंडिंग

सौरभ बताते हैं कि हम खुद को सोशल मीडिया का अगला फेज मानते हैं. पहले फेज 1.0 आया, जिसमें फ्रेन्डस और फर्स्ट पर्सन नेटवर्क का ट्रेंड था. फिर 2.0 आया, जो शॉर्ट वीडियो पर बना है. अब 3.0 का दौर है जिसमें स्ट्रेंजर नेटवर्किंग को पॉपुलैरिटी मिल रही है.

इस पॉपुलैरिटी को देखते हुए निवेशकों ने भी कंपनी में अच्छा खास निवेश किया है. आंकड़ों के मुताबिक कंपनी को प्री सीरीज राउंड में बेटर कैपिटल लूमिकाई फंड से निवेश मिला. जून-जुलाई, 2022 में सीरीज ए राउंड में कलारी कैपिटल ने पैसे लगाए. वहीं मौजूदा निवेशकों ने अपना निवेश बढ़ा दिया. सौरभ बताते हैं कि फिलहाल कंपनी के पास अच्छा खासा कैपिटल है. बर्न रेश्यो भी कम है. 

मकसद क्या है

सबसे पहला टारगेट क्रिएटर्स और यूजर्स को कनेक्ट करने का है. दूसरी वजह थी ऐसे बहुत सारे लोग थे जो अकेलेपन के शिकार थे और लोगों से जुड़ने का एक नया जरिया ढूंढ रहे थे. हमने महसूस किया इंडिया ही नहीं दुनिया भर में ऐसे गिने चुने प्रोडक्ट हैं जो इस प्रॉब्लम को सॉल्व कर रहे हों.

इसी परेशानी को देखते हुए हमें लगा कि अब एक न्यू एज सोशल कंपनी की जरूरत है. कंपनी को यूजर्स से भी काफी अच्छा रेस्पॉन्स मिला है. 5-6 महीने के अंदर प्लैटफॉर्म पर 15 मिलियन यूजर्स हैं. मंथली ऐक्टिव यूजर बेस कुछ 7-8 मिलियन तक पहुंच गया है. लगभग हम दिन के कुछ 12,000 से 15,000 लाइव स्ट्रीम करते हैं. हर दिन 200 से 300 लाइव मार्केट होते हैं यही हमारा प्रॉडक्ट है.

हमारा फोकस क्रिएटर्स पर है ना कि इन्फ्लूएन्सर्स पर. यानी कोई भी लाइव कॉन्टेन्ट क्रिएट कर सकता है. इसमें बड़े इंफ्लुएंसर नहीं छोटे नैनो माइक्रो फॉलोअर्स भी हो सकते हैं. इसी स्ट्रैटजी की बदौलत आज प्लैटफॉर्म पर दस हजार से ज्यादा क्रिएटर्स हैं.

वीडियो के मुकाबले लाइव ज्यादा कामयाब

इंस्टाग्राम, यूट्यूब के एल्गोरिद्म को भेदना मुश्किल हो गया है. सारे प्लैटफॉर्म आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड हो गए हैं. 1 दिन रील वायरल होती है. फिर यूजर्स ग्रो करने के लिए परेशान होते हैं. जबकि लाइव स्ट्रीमिंग एक बहुत प्रेडिक्टेबल तरीका है. 

लाइव स्ट्रीम में 400, 500 लोग आने तय हैं, फॉलोअर भी बढ़ते हैं. हमारा फोकस नैनो और माइक्रो क्रिएटर्स पर रहता है और उन्हें हमारा प्लैटफॉर्म पसंद भी आ रहा है. आज हमारे प्लैटफॉर्म पर 70,000 से 80,000 क्रिएटर्स इस ऐप पर मौजूद हैं.

हमारे प्लैटफॉर्म पर फिलहाल 6 स्थानीय भाषाओं में लाइव कर सकते हैं. यूजर अपनी पसंद की भाषा में लाइव भी कर सकते हैं. इसके अलावा आपको प्लैटफॉर्म पर ढेरों ऑप्शन मिलते हैं. गेम, लाइव चैट, इवेंट अटेंड, एस्ट्रोलॉजी.

अभी हमें ऐप शुरू किए हुए डेढ़ से दो साल हुए हैं. फिलहाल ये प्रोडक्ट सभी को फ्री में उपलब्ध है. यूजर क्रिएटर को फॉलो करके बाद में उनके साथ चैट कर सकते हैं. यूजर के अगर 10,000 से ज्यादा फॉलोअर हो गए हैं तो एक फॉर्म भरके क्रिएटर भी बन सकते हैं.

हालांकि ये क्राइटेरिया सभी के लिए अलग-अलग है. अगर क्रिएटर किसी अन्य सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर पहले से क्रिएटर है तो उसे सिर्फ फॉर्म भरना होगा. अगर वो प्लैटफॉर्म पर नया यूजर है तो उसे यहां कुछ फॉलोअर्स जुटाने होंगे.

बिजनेस मॉडल

यूजर ऐप पर जो भी एक्टिविटी करेंगे उसके बदले उन्हें कुछ कॉइन मिलते हैं. उसके जरिए वो वर्चुअल चीजें खरीदकर क्रिएटर्स को गिफ्ट करते हैं. प्लैटफॉर्म उसमें से अपना कमिशन लेता है.

आने वाले समय में टिपिंग, गिफ्टिंग या चैटिंग किसी भी एक्टिविटी के लिए यूजर को कुछ अमाउंट पे करनी होगी. उसका कुछ हिस्सा हम कमीशन लेंगे बाकी क्रिएटर्स को जाएगा.

दूसरा रेवेन्यू सोर्स होगा ऐडवर्टाइजमेंट्स. हमारा प्रॉडक्ट बहुत अच्छा चल रहा है।तो हम रेवेन्यू एक्सपेरिमेंट से डबल डाउन कर रहे हैं और इस साल उस पर काफी फोकस होगा.

आगे का रोडमैप

जल्दी हम एक से डेढ़ महीने में पूरे इंडिया के लिए कंटेंट क्रिएशन करने वाले हैं. इसके अलग अलग लेवल होंगे. फॉलोअर्स बढ़ने के साथ आप लेवल अनलॉक करते जाएंगे. प्लैटफॉर्म पर टीवीएफ, एमेजॉन शो के सेलेब्रिटीज, कई सेलेब्रिटीज हमारे प्लैटफॉर्म पर आ चुके हैं. आगे भी आने वाले हैं.

शुरू में हमने गिफ्टिंग फीचर को फ्री रखा हुआ है. यूजर इनवाइट बेसिस पर दूसरे यूजर को लाते हैं जिसके बदले उन्हें कॉइन मिलते हैं. क्रिएटर्स को भी काफी पॉपुलैरिटी मिलती है. आगे जाकर वर्चुअल गिफ्टिंग को मॉनेटाइज कर देंगे.

लाइव के अंदर गेम्स खिलाना और दूसरा है कनेक्शन और क्लीन एंटरटेनमेंट हमारी खासियत है. ये आपको हमें दूसरे प्लैटफॉर्म से अलग रखता है. एक साल में 6 भाषा को बढ़ाकर 10 करने की प्लानिंग कर रहे हैं. जहां जहां स्कोप दिखा वहां वहां बढ़ाएंगे.ट्रस्ट और सेफ्टी पर हमारा फोकस रहा है.


Edited by Upasana