बिजली के बिना हर दिन 500 लीटर तक पानी फिल्टर कर सकता है कम लागत वाला यह वॉटर प्यूरीफायर

By yourstory हिन्दी
July 03, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:33:06 GMT+0000
बिजली के बिना हर दिन 500 लीटर तक पानी फिल्टर कर सकता है कम लागत वाला यह वॉटर प्यूरीफायर
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"भारत में कई राज्य सरकारें, संगठन और व्यक्ति पानी की कमी के मुद्दे का समाधान करने के लिए इनोवेटिव तरीके लेकर आ रहे हैं। इन्हीं में से एक हैं राजस्थान के मूल निवासी 25 वर्षीय जितेंद्र चौधरी , जिन्होंने एक पानी फिल्टर का आविष्कार किया है। यह फिल्टर बिजली की सहायता के बिना, इस्तेमाल किए गए पानी को पुन: इस्तेमाल करने लायक बना सकता है।"


Jitendra Chaudhary

जितेंद्र चौधरी, फोटो साभार: Efforts For Good



ऐसा लगता है कि अब जल संकट का कोई अंत नहीं है। पर्यावरणविदों ने चेतावनी दी है कि सूखती झीलों, गिरते भूजल स्तर और कम बारिश के कारण जल्द ही जल युद्ध हो सकता है। डे जीरो पहली बार केप टाउन में देखा गया था जब शहर के अधिकांश नल पानी की खपत के लिए बंद कर दिए गए थे। भारत में भी, कई राज्य सरकारें, संगठन और व्यक्ति पानी की कमी के मुद्दे का समाधान करने के लिए इनोवेटिव तरीके लेकर आ रहे हैं। इन्हीं में से एक राजस्थान के मूल निवासी 25 वर्षीय जितेंद्र चौधरी हैं, जिन्होंने एक पानी फिल्टर का आविष्कार किया है, जो बिजली की सहायता के बिना, इस्तेमाल किए गए पानी को पुन: इस्तेमाल करने लायक बना सकता है। इसे वे 'शुद्धम' कहते हैं। यह फिल्टर हर दिन 500 लीटर पानी तक छान सकता है; फिल्टर की कीमत 7,000 रुपये है।


हम रोज अनुमानित 20 प्रतिशत पानी को पीने और खाना पकाने में इस्तेमाल करते हैं; बाकी पानी - यानी की 80 प्रतिशत पानी का इस्तेमाल हम सफाई, स्नान, फ्लशिंग और अन्य कामों में करते हैं। फिल्टर के बारे में बात करते हुए, जितेंद्र ने कहा, “शुद्धम एक अपनी तरह का पहला पानी फिल्टर है, जो प्रति दिन 500 लीटर तक गंदे पानी को छान सकता है और इसे पीने या खाना पकाने के अलावा सभी घरेलू उद्देश्यों के लिए उपयुक्त बना सकता है। मशीन की कीमत 7,000 रुपये है। इसके रखरखाव के लिए हर साल केवल 540 रुपये खर्च करने पड़ेंगे।”





फिल्टर गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत पर काम करता है, और काफी सारे फिल्ट्रेशन प्रोसीजर के जरिए से वॉशरूम में इस्तेमाल किए गए पानी को पुन: इस्तेमाल करने योग्य बनाता है। रिसाइकल्ड पानी को उसके सबसे निचले सेगमेंट के माध्यम से छोड़ा जाता है।


Shuddham Water Filter

शुद्धम वॉटर फिल्टर (सोर्स: Efforts For Good)


जितेंद्र बताते हैं कि यह ग्रेन्युअल्स सिस्टम आधारित है। ऊपर से गंदा पानी डालने पर नीचे फिल्टर शुद्ध पानी मिलता है। इसमें एक्टिव कार्बन पार्टिकल का उपयोग हुआ है जो पानी में मिले सोडा या अन्य केमिकल्स आब्जर्व कर लेता है और फिर पानी फिल्टर होकर शुद्ध हो जाता है। 


2017 में मैकेनिकल इंजीनियरिंग पूरी करने वाले जितेंद्र ने महाकाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) में रिसर्च स्कॉलर के रूप में काम किया। इसके बाद उन्होंने उज्जैन में MIT ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस में एक शोध सहायक के रूप में काम किया। उनका फिल्टर अब MIT कॉलेज के हॉस्टल में स्थापित किया गया है जहाँ यह हर दिन लगभग 500 लीटर पानी की रीसाइक्लिंग कर रहा है। जब फिल्टर 90,000 लीटर पानी रिसाइकिल कर देता है तो हर छह महीने में ग्रैन्यूल्स को बदल दिया जाता है।


जितेंद्र को मध्य प्रदेश विज्ञान और प्रौद्योगिकी परिषद द्वारा सबसे कम उम्र के वैज्ञानिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। अब तक, उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में चार पेपर भी प्रकाशित किए हैं। अब, जितेंद्र लागत को कम करने के लिए फिल्टर के डिजाइन और तकनीकी पहलुओं पर काम कर रहे हैं, और भारत में सूखाग्रस्त गांवों के लिए इसे और अधिक किफायती बनाने में लगे हैं।