मध्यप्रदेश, बिहार, तेलंगाना में कुछ जिलों को कोविड-19 से है सबसे अधिक खतरा- स्टडी

By भाषा पीटीआई
July 18, 2020, Updated on : Sat Jul 18 2020 07:31:37 GMT+0000
मध्यप्रदेश, बिहार, तेलंगाना में कुछ जिलों को कोविड-19 से है सबसे अधिक खतरा- स्टडी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत में कई संवेदनशील जिलों की पहचान की गई है जहां अभी कोविड-19 के ज्यादा मामले नहीं है लेकिन वे इस महामारी से बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं।

Lessons from coronavirus

सांकेतिक चित्र



नयी दिल्ली, दुनिया की सबसे पुरानी और प्रसिद्ध चिकित्सा पत्रिकाओं में से एक ‘द लांसेट’ के एक अध्ययन के अनुसार मध्य प्रदेश के कुछ जिले कोविड-19 वैश्विक महामारी के लिहाज से सबसे अधिक संवेदनशील हो सकते हैं और उनके बाद बिहार तथा तेलंगाना के कुछ जिलों में इस वैश्विक महामारी का सबसे बुरा असर पड़ सकता है। अध्ययन में इन राज्यों में आवास, स्वच्छता और स्वास्थ्य प्रणाली जैसे अहम मानकों का विश्लेषण किया गया है।


नयी दिल्ली स्थित जनसंख्या परिषद के राजीव आचार्य समेत वैज्ञानिकों के अनुसार अनुसंधान में संवेदनशीलता का मतलब संक्रमण के नतीजों के खतरों से है जिसमें संक्रमण का प्रसार, मरीजों की संख्या, मृत्यु दर और महामारी के सामाजिक एवं आर्थिक प्रभाव शामिल हैं।


अध्ययन में कहा गया है कि 30 बड़े राज्यों में नौ राज्यों मध्य प्रदेश, बिहार, तेलंगाना, झारखंड, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और गुजरात में कोविड-19 महामारी का सबसे बुरा असर पड़ा है।





वैज्ञानिकों ने अध्ययन में कहा,

‘‘हमारे सूचकांक का मकसद नीति निर्माताओं को कोविड-19 महामारी से निपटने में बेहतर तैयारी के लिए संसाधनों का आवंटन करने और जोखिम दूर करने की रणनीतियां बनाने के लिए क्षेत्रों का चयन करने में मदद करना है।’’

उन्होंने भारत में कई संवेदनशील जिलों की पहचान की है जहां अभी कोविड-19 के ज्यादा मामले नहीं है लेकिन वे इस महामारी से बुरी तरह प्रभावित हो सकते हैं।


अध्ययन में जहां इस संक्रामक रोग के लिहाज से मध्य प्रदेश को सबसे अधिक संवेदनशील बताया गया है, वहीं सिक्किम में इसका सबसे कम असर पड़ेगा।


शोधकर्ताओं ने कहा कि इस अध्ययन में इस्तेमाल डाटा दो से पांच साल पुराना है और ऐसा हो सकता है कि उन जिलों में संवेदनशीलता का सटीक आकलन न हो जहां अभी तक बहुत तेजी से बदलाव हुए हैं।