Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

MakeMyHouse.com ने मिडिल ईस्‍ट में अपने विस्तार के चलते दर्ज की 33% वृद्धि

MakeMyHouse.com ने मिडिल ईस्‍ट में अपने विस्तार के चलते दर्ज की 33% वृद्धि

Wednesday July 27, 2022 , 4 min Read

Make My House ऑनलाइन आर्किटेक्चरल और इंटीरियर डिजाइनिंग सर्विस प्लेटफॉर्म है जो ग्राहकों को उनकी पसंद के मुताबिक़ और यूनिक इंटीरियर डिजाइन आइडियाज़ और कस्‍टमाइज्‍़ड आर्किटेक्चरल एक्सपीरियंस देता है. यह डिजिटल प्लेटफॉर्म अपने ग्राहकों को उनके घरों, को-वर्किंग स्‍पेस, कमर्शियल इमारतों आदि को अपने तरीके से डिजाइन करने के लिए 10,000 से अधिक प्री-डिजाइन टेम्पलेट देता है.

Makemyhouse.com अब तक 14,000 से अधिक प्रोजेक्ट्स को पूरा कर चुका है. इस प्‍लेटफार्म ने मिडल ईस्‍ट के देशों में उद्योग में विस्तार के चलते जबर्दस्‍त बिज़नेस ग्रोथ दर्ज कराने के साथ-साथ स्‍मार्ट सर्विस डिजाइन और डिलीवरी की हाल में घोषणा की है. Makemyhouse.com ने पिछले वर्ष की तुलना में वर्तमान ग्राहक ARR में 36% की वृद्धि सहित ARR में 60% की वृद्धि दर्ज की है. उनकी भावी विकास रणनीति कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर राजस्व बढ़ाना है. वित्त वर्ष 2022-23 में Makemyhouse.com की आय सालाना आधार पर 8% की CAGR से बढ़ने की उम्मीद है.

makemyhousecom-registers-33growth-fueled-by-its-expansion-in-the-middle-east

सांकेतिक चित्र

इस प्लेटफॉर्म ने हाल ही में अपने ग्राहकों को एक व्यक्तिगत सहायक प्रदान करने का फैसला किया है. साथ ही उन्होंने अपने एप्लीकेशन पर एक चैट फीचर भी लांच किया है जिसका उपयोग ग्राहक किसी भी मोबाइल फ़ोन डिवाइस से कर सकते है. यह पहल ग्राहकों और प्रोफेशनल्‍स के बीच तालमेल की कमी को दूर करने के लिए की गई है.

इसके लॉन्च के बारे में चर्चा करते हुए Makemyhouse.com के सीईओ और को-फाउंडर मुस्तफा जौहर ने कहा, "हमने देखा है कि लगभग 4.5 मिलियन लोग हैं जो हमारी वेबसाइट पर घर के कस्‍टमाइज्‍़ड डिजाइन आइडिया के लिए आते हैं. हम चाहते है की इनमें से कुछ प्रतिशत हमारे ग्राहकों में परिवर्तित हो और जिसके लिए हमने अपनी सेवाओं का दायरा बढ़ाया है. हम अपने ग्राहकों को 100% संतुष्टि प्रदान करना चाहते हैं और इस लक्ष्य तक पहुँचने के लिए हम कुछ नीतियों और सुविधाओं को पेश कर रहे हैं. हम समझते हैं कि किसी भी समस्या को संचार के माध्यम से हल किया जा सकता है." 

उन्होंने आगे कहा, "इसी विचार को लेकर आगे बढ़ते हुए हमने क्लाइंट फीडबैक को सुधारने की पहल पर काम करना शुरू किया. अत्यधिक कुशल व्यक्तियों की एक पूरी नई सहायता टीम स्थापित की गई है जो एप्लिकेशन, चैट, कॉल और मेल के माध्यम से ग्राहकों का समर्थन करेगी. हमने एक नई आर एंड डी टीम भी स्थापित की है जो नई तकनीकों की खोज करती है और डिजाइन में सुधार करती है. इसके अलावा, एक इन-हाउस परियोजना प्रबंधन प्रणाली विकसित की गई है. यह 'HUMUJ PMS' प्रणाली सभी परियोजनाओं के लिए कर्मचारियों को बिना किसी रूकावट के ट्रैक करने योग्य जानकारी प्रदान करता है. यह सभी पहल का असर रोजगार के अवसरों पर बड़ा प्रभाव दाल रहा है. पिछले 3 महीनों में 120 से 170 कर्मचारियों तक बढ़कर 40% से अधिक हो गया."

इसी के चलते यह स्टार्टअप एक पार्टनर प्रोग्राम शुरू करने जा रही है. जिसके अंतर्गत स्थानीय ठेकेदार और इंजीनियर, Makemyhouse.com के साथ पार्टनरशिप कर सकते है. सुचारू संचालन के लिए, यह स्टार्टअप जल्द ही अपने पहले चरण में भारत के 60 शहरों में नए स्थानीय कार्यालय स्थापित करना शुरू कर देगा. ग्राहक इन भागीदारी केंद्र पर जा सकते हैं और अपनी जरूरत की सभी सहायता प्राप्त कर सकते हैं. इस पहल को जल्द ही डिजिटल किया जाएगा जिसके लिए एप्लिकेशन को अपग्रेड किया गया है. ग्राहक अब एक पूरा ऐप-आधारित चैट सिस्टम का अनुभव कर सकते हैं जहां वे अत्यधिक कुशल व्यक्तियों के साथ आसानी से जुड़ सकते हैं.

रियल एस्टेट उद्योग के आवासीय क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि होने की उम्मीद है. आर्किटेक्ट्स, इंटीरियर डिजाइनर और सिविल ठेकेदारों सहित उद्योग के पेशेवरों के लिए अवसर बहुत बड़ा है. केंद्र सरकार का लक्ष्य केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय की प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) योजना के तहत 2022 के अंत तक देश भर के शहरी क्षेत्रों में 20 मिलियन किफायती घर बनाना है. इससे वाणिज्यिक और खुदरा कार्यालय स्थान की मांग में वृद्धि होगी और रियल एस्टेट, निर्माण और डिजाइनिंग उद्योगों में बड़ी मांग होगी.


Edited by रविकांत पारीक