मिलें ‘द फैमिली मैन’ के जेके तलपड़े से, स्ट्रगल और सफलता के बीच की अपनी कहानी बयां कर रहे हैं शारिब हाशमी

एक्टर शारिब हाशमी बोले- ‘ओटीटी प्लेटफॉर्म ने मेरे करियर में फिर से जान फूँक दी’
8 CLAPS
0

"योरस्टोरी के साथ हुई एक बातचीत में, हिट वेब सीरीज़ द फैमिली मैन में जेके तलपड़े की भूमिका निभाने वाले अभिनेता शारिब हाशमी ने यश चोपड़ा के साथ काम करने के साथ ही अपनी फिल्म यात्रा के बारे में बात करते हुए बताया है कि शुरुआत करना क्यों जरूरी है।"

ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेज़न प्राइम की सीरीज़ द फैमिली मैन के जेके तलपड़े या 'जस्ट जेके' के रूप में शारिब हाशमी अब हर घर तक पहुंच चुके हैं। जासूसी थ्रिलर के दूसरे सीज़न का प्रीमियर जून में हुआ था और इस दौरान यह पूरे भारत में विभिन्न सूचियों में शीर्ष पर रहा है। यह ओटीटी प्लेटफॉर्म पर सबसे ज्यादा देखी जाने वाली वेब सीरीज में से एक है और यहां तक कि एक पोल में एक आईएमडीबी रिकॉर्ड भी बनाया जिससे पता चलता है कि यह शो दुनिया भर में चौथा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला शो है। शारिब के लिए द फैमिली मैन के दो हिट सीज़न उनके लिए कई चीजों को बदलने वाले रहे हैं।

शारिब ने योरस्टोरी के साथ बातचीत में कहा,

“मैंने कुछ समय पहले फिल्मिस्तान को समाप्त किया था और कुछ प्रोजेक्ट्स भी थे, लेकिन एक बड़ी खामोशी थी। फिल्म उद्योग में, यदि आपके पास प्रोजेक्ट नहीं हैं, तो यह मुश्किल हो जाता है। जब मुझे क्रिएटर्स राज एंड डीके द्वारा द फैमिली मैन के ऑडिशन के लिए बुलाया गया, तो मैं वास्तव में प्रार्थना कर रहा था और उम्मीद कर रहा था कि मैं सफल हो जाऊं।”

यह मानते हुए कि रिजेक्शन इस फील्ड में खेल का एक हिस्सा है, शारिब कहते हैं,

"आप केवल रिजेक्शन से अपने आत्मविश्वास को प्रभावित नहीं होने दे सकते। कई मामलों में, यह केवल अपने आप में आपके विश्वास को तोड़ देता है, लेकिन कहीं न कहीं आपको यह समझने की आवश्यकता है कि रिजेक्शन आपके या आपके क्राफ्ट के लिए नहीं, बल्कि कैरेक्टर के लिए है। और ऑडिशन का हिस्सा बनना किसी भी अभिनेता के लिए एक ट्रेनिंग ग्राउंड की तरह होता है,जहां आपको एक में कई भूमिकाएँ निभाने को मिलती हैं।”

शारिब ने बताया कि द फैमिली मैन के सीजन 2 की शूटिंग लॉकडाउन से पहले फरवरी 2020 में पूरी की गई थी और पोस्ट-प्रोडक्शन का काम लॉकडाउन के दौरान हुआ था।

वह कहते हैं,

"अगर कोई एक चीज है जो मैंने सीखी है और किसी को भी सलाह दूंगा जो कुछ भी शुरू करना चाहता है तो वह इसे अभी करें। अब से बेहतर कोई समय नहीं है। और महामारी ने हमें सिखाया है कि सब कुछ कितना अनिश्चित है, इसलिए अभी कड़ी मेहनत करें, अभी शुरू करें, उस अभिनय वर्ग में अभी शामिल हों। आप शुरू करें और चीजें ठीक हो जाएंगी।”

सपनों के साथ बढ़ते हुए

कई लोगों के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री में सफल होने का सपना उन्हें मुंबई ले जाता है। शारिब के लिए, मुंबई पहले से ही घर था और बॉलीवुड से उनका एक दूर का रिश्ता था। मलाड की चॉल में पले-बढ़े, शारिब के पिता ज़ेडए जौहर एक प्रसिद्ध फिल्म पत्रकार थे। फिल्मों, पार्टियों और जौहर की स्थिति से जुड़ी चकाचौंध ने शारिब को काफी प्रभावित किया था।

10 साल के युवा के रूप में, वह अपने कमरे में गोविंदा के गीतों पर नाचते थे और पड़ोसी के टेलीविजन पर चल रही फिल्म देखने के लिए उनके घर पहुंच जाते थे।

वे याद करते हैं कि किस तरह उन्होने उनके पड़ोसी के वीसीआर पर ‘घर एक मंदि’र और ‘तवायफ’ फिल्में करीब 50 बार देखी हैं। फिल्मों से नजदीकी ने उन्हें सिनेमा की दुनिया में और गहराई से जोड़ दिया था।

एक औसत छात्र रहे शारिब ने भवन कॉलेज, अंधेरी से अर्थशास्त्र में अपनी डिग्री पूरी की है। उनके पिता चाहते थे कि वह एक अभिनेता बनें, लेकिन शारिब को हमेशा लगता था कि उनका कद उन्हें इसे पूरा करने में मदद नहीं करेगा। उन्होंने पहले सहायक निर्देशन और एमटीवी के लेखक के रूप में अपनी किस्मत आजमाई।

शारिब मज़ाक करते हुए कहते हैं,

“जबकि मेरे माता-पिता मानना था कि मैं अच्छा दिखता हूँ, हालांकि मुझे ऐसा कोई भ्रम नहीं था। साथ ही मुझे लगा कि मेरी ऊंचाई एक समस्या होगी। मैंने भोलेपन से अपने सपनों को पूरा किए बिना ही उसे छोड़ दिया था।”

कॉलेज के दोस्त राजुल मिश्रा ने 1998 में फिल्म ‘हम तुमपे मरते हैं’ के लिए नाभ कुमार राजू के सहायक निर्देशक के रूप में शारिब को उनकी पहली नौकरी दिलाने में मदद की थी। उनकी पहली फिल्म के सेट पर अराजकता और व्यवस्था का संयोजन एक ऐसा अनुभव है जिसे शारिब कभी नहीं भूलेंगे।

शारिब कहते हैं,

“यह कुछ ऐसा है जिसने मुझे फिल्म निर्माण की कला के बारे में बहुत कुछ सिखाया। मेरे पास अभिनय या निर्देशन का कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं है, इसलिए मैं सेट पर सब कुछ सीखता हूं। और जिस पहली फिल्म में मैंने काम किया उसमें गोविंदा, उर्मिला मातोंडकर, डिंपल कपाड़िया और परेश रावल जैसे बेहतरीन कलाकार थे। मेरे जैसे फिल्म प्रेमी के लिए यह एक सपने के सच होने जैसा था। मैं निर्देशक बनना चाहता हूं।”

लेखन से स्लमडॉग मिलेनियर तक

फिल्म जब तक है जान में शाहरुख खान के साथ शारिब

2003 और 2006 के बीच एमटीवी के साथ काम करने के दौरान शारिब ने अपनी लेखन प्रोजेक्ट्स को आगे बढ़ाया। उन्होंने एक साल के लिए एमटीवी प्रतिद्वंद्वी चैनल वी के लिए भी काम किया। 2007 के अंत में, एक दोस्त ने उन्हें डैनी बॉयल की स्लमडॉग मिलियनेयर के ऑडिशन के लिए कहा।

फिल्म में एक छोटी सी भूमिका निभाने वाले शारिब याद करते हैं,

“मैं अभी भी बहुत उत्सुक नहीं था। मुझे उस कांस्टेबल की भूमिका के लिए ऑडिशन देना था जो सौरभ सक्सेना ने निभाया था। एडी चाहता था कि मैं एक पुलिस वाले के रूप में तैयार हो जाऊं और भूमिका के लिए डैनी बॉयल का मजाक उड़ाऊं। लेकिन मुझे लगा कि यह बहुत बड़ा काम है और मैंने अभी तक अभिनय को एक गंभीर विकल्प के रूप में नहीं माना था, इसलिए मैं बस उस एक छोटी भूमिका के लिए गया।"

शारिब फिर नौकरी लेकर दुबई चले गए, लेकिन बचपन में बोये गए सपनों के बीज ने उन्हें मुंबई आने के लिए मजबूर कर दिया।

शारिब याद करते हैं,

"मुझे पता था कि अगर मुझे अभिनय करना है तो मुझे मुंबई में रहना होगा और किसी भी कीमत पर यह कोशिश करना चाहता था। यह भारत से बाहर मेरी पहली यात्रा थी। मैंने उस नौकरी के लिए अपना पासपोर्ट बनवाया, लेकिन फिर मैं वापस आना चाहता था और एक महीने के भीतर मैं वापस आ गया।”

शारिब ने 2008 के अंत में फिल्म धोबी घाट के ऑडिशन के लिए बुलाए जाने से पहले एक चैनल के लिए एक क्रिएटिव कंटेन्ट हेड के रूप में काम किया था। यह प्रतीक बब्बर के भाई की भूमिका के लिए था और जब शारिब ने शुरुआत में भूमिका निभाई, तो पटकथा एक अलग तरह के व्यक्तित्व की मांग कर रही थी और आखिरकार शारिब ने वह भूमिका खो दी। 

शारिब कहते हैं, 

“हालांकि यह सही कॉल था क्योंकि कोई भी निर्देशक अपनी फिल्म को ध्यान में रखते हुए सही फैसले लेगा, लेकिन मैं बिखर गया था। मैंने इसे थोड़ा व्यक्तिगत रूप से लिया और फुल टाइम एक्टिंग में आने का फैसला कर लिया।"

फिल्मों की दुनिया

वहीं से शारिब के लिए एक संघर्षरत अभिनेता के रूप में शुरुआत हुई। टीवी विज्ञापनों, लघु फिल्मों, स्वतंत्र फिल्मों और प्रोग्रामिंग के एवीपी के रूप में शारिब काम करते रहे और फिर उन्हें यश राज फिल्म्स की ‘जब तक है जान मिली।

शारिब कहते हैं,

"मैं काम कर रहा था इसलिए मेरे पास कुछ कुशनिंग थी। लेकिन कुछ ही दिनों में, मुझे वाईआरएफ का फोन आया और मुझे एक और ऑडिशन के लिए आने के लिए कहा गया। मैं वाईआरएफ कार्यालय गया और एक ऑडिशन दिया और आधे घंटे के भीतर, मुझे एक कॉल आया जिसमें मुझे अगले दिन शूटिंग के लिए आने के लिए कहा गया। यह एक अचानक आया हुआ बड़ा बदलाव था क्योंकि मैंने फिर से अपना सपना छोड़ दिया था।”

यहाँ से किस्मत ने साथ देना शुरू कर दिया क्योंकि लगभग उसी समय, शारिब को फिल्म फिल्मिस्तान में एक और भूमिका मिली, जिसने उन्हें कॉमिक रोल स्क्रीन अवार्ड में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार भी दिलाया।

शारिब विशेष रूप से अनुभवी निर्देशक और स्टार-निर्माता यश चोपड़ा के साथ काम करने के अवसर को खजाने की तरह मानते हैं, जिसके लिए शारिब को अपनी फुल टाइम नौकरी भी छोड़नी पड़ी। यह यश चोपड़ा की आखिरी फिल्म भी थी, इसलिए वे इतिहास का हिस्सा भी बन गए।

शारिब ने स्वीकार किया कि उनके संघर्ष के दिनों ने उन्हें आज ये मुकाम दिलाया है।

संघर्ष कर रहे अन्य लोगों को सलाह देते हुए शारिब कहते हैं, 

"जीवन में उतार-चढ़ाव आते हैं, यह सामान्य है। आप दोनों में से किसी को भी अपने पास नहीं आने दे सकते। लेकिन हमेशा उस पर काम करते रहें- अपने सपनों का व्यवसाय शुरू करें, अभिनय पाठ शुरू करें क्योंकि पछतावे के लिए जीवन बहुत छोटा है।"


Edited by Ranjana Tripathi

Latest

Updates from around the world