एडटेक कंपनियों के भ्रामक विज्ञापनों पर लगेगी रोक, गाइडलाइंस बनाने में मदद करेगी मदद सरकार

IAMAI ने कहा कि उपभोक्ता मामलों के सचिव ने एडटेक इकोसिस्टम को बेहतर तरीके से काम करने के लिए विज्ञापन दिशानिर्देशों को निर्धारित करने के लिए एक संयुक्त कार्य समूह का गठन करने के लिए IEC का समर्थन करने पर सहमति व्यक्त की.

एडटेक कंपनियों के भ्रामक विज्ञापनों पर लगेगी रोक, गाइडलाइंस बनाने में मदद करेगी मदद सरकार

Tuesday November 22, 2022,

3 min Read

केंद्र सरकार ने सोमवार को एडटेक कंपनियों से सेगमेंट में भ्रामक विज्ञापनों पर अंकुश लगाने के लिए दिशानिर्देशों को औपचारिक रूप देने में इंडस्ट्री को समर्थन देने के साथ-साथ अनुचित व्यापार प्रथाओं को खत्म करने के लिए कहा.

इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) ने एक बयान में कहा कि सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी इंडियन एडटेक कंसोर्टियम (IEC) ने उपभोक्ता मामलों के सचिव रोहित कुमार सिंह से मुलाकात की और उन्हें सेल्फ रेगुलेशन की प्रगति के बारे में जानकारी दी.

IAMAI ने कहा कि उपभोक्ता मामलों के सचिव ने एडटेक इकोसिस्टम को बेहतर तरीके से काम करने के लिए विज्ञापन दिशानिर्देशों को निर्धारित करने के लिए एक संयुक्त कार्य समूह का गठन करने के लिए IEC का समर्थन करने पर सहमति व्यक्त की.

गौरतलब है कि 1 जुलाई को उपभोक्ता मामलों के सचिव ने एडटेक कंपनियों की बैठक बुलाई थी और उन्हें भ्रामक विज्ञापनों सहित अनुचित व्यापार प्रथाओं में लिप्त होने के खिलाफ चेतावनी दी थी.

उस समय केंद्र ने एडटेक कंपनियों से यह भी कहा था कि अगर इंडस्ट्री से जुड़ी संस्थाओं और कंपनियों द्वारा सेल्फ रेगुलेशन नहीं किया गया तो वह कड़े दिशानिर्देश लाने के लिए मजबूर होगी. बढ़ती फेक रिव्यूज की समस्या भी चिंता का एक प्रमुख बिंदु रही है.

IAMAI के बयान में सोमवार को सचिव के हवाले से कहा गया है कि हम चाहते हैं कि भारतीय एडटेक का विकास हो, लेकिन जब तक हम गलत कामों को पूरी तरह खत्म नहीं कर देते, तब तक हम अपने मिशन को हासिल नहीं कर पाएंगे.

बैठक को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि हम एडटेक कंपनियों के लिए सेट टेम्प्लेट को औपचारिक रूप देने और विज्ञापन और संचार के भीतर अनैतिक प्रथाओं को दूर रखने के लिए आईईसी के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं. यह ग्रोथ और लर्निंग के उचित अवसर की पेशकश करने के लिए कंपनियों और ग्राहकों दोनों के लिए एक समग्र वातावरण को बढ़ावा देगा.

बैठक में IAMAI के प्रतिनिधियों के साथ-साथ IEC सदस्य कंपनियों के साथ upGrad, BYJU'S, Unacademy, Times Professional Learning और Great Learning शामिल थे.

बता दें कि, IEC, IAMAI के तहत आने वाली एक सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी है. IAMAI ने 12 जनवरी, 2022 को इसके गठन की घोषणा की थी. इसके गठन के लिए विभिन्न एडटेक कंपनियां एक साथ आई थीं. यह 95 फीसदी भारतीय एडटेक कंपनियों का प्रतिनिधित्व करती है.

2004 में स्थापित इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (आईएएमएआई) गैर लाभकारी संस्था है. यह डिजिटल सर्विस इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करने वाला देश का एकमात्र संगठन है. इसकी 400 से अधिक भारतीय और बहुराष्ट्रीय कंपनियां सदस्य हैं.