बौद्धिक रूप से दिव्यांग बच्चे की मां कुछ इस तरह कर रही हैं मानसिक दिव्यांग लोगों की देखभाल

By Apurva P & रविकांत पारीक
January 31, 2022, Updated on : Mon Jan 31 2022 05:22:22 GMT+0000
बौद्धिक रूप से दिव्यांग बच्चे की मां कुछ इस तरह कर रही हैं मानसिक दिव्यांग लोगों की देखभाल
सुलोचना बेरू और उनके पति नीरज शंकर बेरू ने बौद्धिक रूप से दिव्यांग बच्चों और वयस्कों की सहायता और देखभाल के लिए 1989 में बेरू मतिमंद प्रतिष्ठान की शुरुआत की।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

80 के दशक में, सुलोचना शंकर बेरू और उनके पति नीरज शंकर बेरू को पता चला कि उनका बेटा अन्य बच्चों की तरह नहीं है। यह ऐसे समय में था जब बौद्धिक दिव्यांग लोगों के प्रति और भी अधिक जागरूकता की कमी थी।


सुलोचना YourStory को बताती हैं, “हमें उसे सर्वोत्तम संभव जीवन देने के लिए बहुत कुछ सीखना पड़ा, और माता-पिता के रूप में, हमें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हमें जल्द ही एहसास हुआ कि हमारे जैसे और भी बहुत से परिवार हैं जिन्हें मार्गदर्शन और मदद की ज़रूरत है। कम आय वाले परिवारों से भी ऐसे लोग थे जिनके पास अपने प्रियजनों की देखभाल करने का कोई साधन नहीं था जो बिस्तर पर पड़े थे या बौद्धिक रूप से अक्षम थे।”

Beru Matimand Pratishthan

इसने दोनों को अपने बेटे जैसे अन्य बच्चों के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित किया। जल्द ही, उन्होंने पुणे में 1989 में बेरू मतिमंद प्रतिष्ठान (Beru Matimand Pratishthan) नामक एक सहायता प्राप्त आवास शुरू किया। कुछ वर्षों में, वे अधिक लोगों को समायोजित करने के लिए महाराष्ट्र के बदलापुर में एक बड़े परिसर में चले गए।

समाज का उपेक्षित हिस्सा

सुलोचना बताती हैं कि बौद्धिक अक्षमता वाले लोगों के साथ अक्सर भेदभाव किया जाता है, उन्हें छोड़ दिया जाता है और यहां तक कि उनके साथ दुर्व्यवहार भी किया जाता है। ज्यादातर मामलों में, उन्हें जीवित रहने के लिए आवश्यक समर्थन नहीं मिलता है।


वह आगे कहती हैं कि चूंकि मानसिक रूप से दिव्यांग होना एक स्थायी बाधा है, जिसके ठीक होने की बहुत कम या कोई संभावना नहीं है, किसी भी परिवार का जीवन तब उल्टा हो जाता है जब बच्चा बौद्धिक रूप से दिव्यांग हो जाता है।


वह और उनके पति इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि कैसे लोगों को स्थायी सहायता और मदद की जरूरत है, जब तक वे अपने जीवनकाल में स्थायी रूप से निर्भर रहते हैं।


जबकि बेरू मतिमंद प्रतिष्ठान बौद्धिक दिव्यांग लोगों की मदद करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था, उन्होंने जल्द ही और अधिक लोगों को लेने का फैसला किया।


सुलोचना कहती हैं, "मानसिक रूप से दिव्यांग व्यक्तियों के लिए एक संस्था शुरू करने के बाद, हमने वृद्ध दादा-दादी, शारीरिक रूप से दिव्यांग व्यक्तियों और असाध्य रोगों वाले परिवारों की समस्याओं के बारे में सोचना शुरू कर दिया।"

विश्वास बनाए रखना

सुलोचना ने दशकों से बौद्धिक दिव्यांग लोगों की देखभाल की है।


सुलोचना कहती हैं, "मानसिक दिव्यांग बच्चों को जीवन भर मदद की आवश्यकता होती है क्योंकि वे स्वतंत्र रूप से कुछ भी खरीदने या किसी से कुछ कहने के लिए बाहर नहीं जा सकते हैं। यही कारण है कि उन्हें जीवन भर देखभाल की आवश्यकता होती है।”


आज, ट्रस्ट बौद्धिक दिव्यांग लोगों, वरिष्ठ नागरिकों और लाइलाज बीमारियों वाले लोगों को लेता है। उनके पास वर्तमान में 100+ निवासी हैं जिनकी देखभाल बदलापुर में उनके आश्रय में मुफ्त में प्यार और देखभाल के साथ की जाती है।

Beru Matimand Pratishthan

वह आगे कहती हैं, “ये लोग समाज द्वारा पूरी तरह से उपेक्षित हैं। उनके पास सबसे बुनियादी जरूरतों तक पहुंच नहीं है और यहां तक ​​कि उनके परिवारों द्वारा उन्हें छोड़ दिया जाता है। यहाँ, बेरु मतिमंद प्रतिष्ठान में, हम उम्र, लिंग, जाति, पंथ या धर्म की परवाह किए बिना सभी को लेते हैं। हम उन्हें नवीनतम सुविधाओं और चिकित्सा देखभाल के साथ सबसे आरामदायक जीवन देने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं। सबसे बढ़कर, हम उन्हें एक प्यारा घर और एक परिवार देते हैं जिसे अपना कह सकते हैं।"


वर्तमान में, दो एकड़ में फैले परिसर में शारीरिक और बौद्धिक रूप से दिव्यांग लोगों के लिए एक छात्रावास और अस्पताल है, कार्यशालाओं और गतिविधियों की मेजबानी करता है, और एक अच्छी तरह से सुसज्जित फिजियोथेरेपी कक्ष, मनोचिकित्सक और भी बहुत कुछ प्रदान करता है।


अपनी स्थापना के बाद से, बेरू मतीमंद प्रतिष्ठान ग्राहकों की खुशी, गुणवत्ता, सहानुभूति, सहायक समर्थन और धैर्य पर ध्यान केंद्रित कर रहा है, जिससे केंद्र मानसिक और बौद्धिक दिव्यांग लोगों के लिए संपर्क के एकल बिंदु के रूप में काम कर सके।


सुलोचना कहती हैं कि क्योंकि समय पर दवा और भोजन देना निवासियों की समग्र भलाई के लिए महत्वपूर्ण है, 20 देखभाल करने वालों के अलावा, केंद्र में ऑन-कॉल डॉक्टर भी हैं।


सुलोचना का संगठन मुख्य रूप से DonateKart जैसे क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से दान किए गए फंड या आवश्यक चीजों पर काम करता है।


Edited by Ranjana Tripathi