FIFA World Cup 2022: फुटबॉल के मेगा ईवेंट के लिए इस भारतीय MSME ने सप्लाई किए हैं पावर ट्रांसफॉर्मर

MSME यूनिट बीएमसी इलेक्ट्रोप्लास्ट ने फीफा विश्व कप 2022 के लिए करंट और वोल्टेज ट्रांसफार्मर की आपूर्ति की है, जो बिजली वितरण प्रणाली में महत्वपूर्ण घटक हैं.

FIFA World Cup 2022: फुटबॉल के मेगा ईवेंट के लिए इस भारतीय MSME ने सप्लाई किए हैं पावर ट्रांसफॉर्मर

Monday November 07, 2022,

2 min Read

भारत के लिए एक बेहद ही गर्व की खबर है. कोलकाता की एक MSME कंपनी BMC Electroplast द्वारा निर्मित लगभग 3,000 ट्रांसफॉर्मर, कतर में आगामी फुटबॉल विश्व कप (FIFA World Cup 2022) के लिए सप्लाई किए जा रहे हैं. ये ट्रांसफॉर्मर फुटबॉल विश्व कप के दौरान स्टेडियम और संबंधित इंफ्रास्ट्रक्चर में बिजली वितरण को सुरक्षित रखने में मदद करेंगे. न्यूज एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के एक अधिकारी ने कहा कि MSME यूनिट बीएमसी इलेक्ट्रोप्लास्ट ने फीफा विश्व कप 2022 के लिए करंट और वोल्टेज ट्रांसफार्मर की आपूर्ति की है, जो बिजली वितरण प्रणाली में महत्वपूर्ण घटक हैं.

BMC Electroplast के निदेशक सिद्धार्थ मित्रा का कहना है, “हमने सॉकर इवेंट के लिए आवश्यक कुल वोल्टेज और करंट ट्रांसफॉर्मर के 50 प्रतिशत की आपूर्ति की है. ये उपकरण बिजली वितरण आंतरिक नियंत्रण और सुरक्षा के लिए उपयोग किए जाने वाले स्विचगियर बोर्डों में रहते हैं. कॉन्ट्रैक्ट की वैल्यू से अधिक, यह हमें संतुष्टि और गर्व देता है कि हमारा इंजीनियरिंग उत्पाद एक वैश्विक कार्यक्रम का हिस्सा है.

35 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट

बता दें कि कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू 35 करोड़ रुपये थी, और कंपनी के उत्पाद को मंजूरी देने वाली एजेंसी कतर बिजली एवं जल निगम है, जिसे आमतौर पर 'कहरामा' के नाम से जाना जाता है. ऑर्डर के बारे में बताते हुए मित्रा ने आगे कहा, यह प्रक्रिया 2010 में टैमको स्विचगियर (मलेशिया) से शुरू हुई थी, जो कि पहले एलएंडटी की एक कंपनी थी, लेकिन वर्तमान में बिजली उपकरण प्रमुख, बहुराष्ट्रीय कंपनी श्नाइडर द्वारा नियंत्रित है. कहरामा से प्रोटोटाइप को मंजूरी मिलने में BMC Electroplast को दो साल लग गए. फीफा विश्व कप कतर 2022, 20 नवंबर से 18 दिसंबर तक खेला जाएगा. 32 टीमों के साथ टूर्नामेंट के 64 मैच आठ स्थानों पर होंगे.

फीफा वर्ल्ड कप के लिए ऑर्डर मिलने के बाद क्या बदला

मित्रा ने कहा, "यह परियोजना हमें मध्य पूर्व के देशों तक पहुंचने में एक बड़ा प्रोत्साहन देगी. कहरामा से अनुमोदन इस क्षेत्र में सबसे कठिन था और इसने उस क्षेत्र के अन्य सभी देशों से लगभग स्वचालित अनुमोदन प्राप्त करने में मदद की. पहले हम अपनी बिक्री के तहत लगभग 25-30 प्रतिशत निर्यात करते थे. विश्व कप के लिए ऑर्डर मिलने के बाद, हमें सीरियस एक्सपोर्ट इंक्वायरीज मिलीं, लेकिन आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान और भारी माल ढुलाई लागत के कारण महामारी ने हमारे व्यापार को प्रभावित किया है. हालांकि, हम अगले वित्त वर्ष से निर्यात को रिवाइव करने की उम्मीद करते हैं.


Edited by Ritika Singh

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors