Twitter के बाद अब Meta के कर्मचारियों पर गिरेगी गाज! हजारों को बाहर का रास्ता दिखाने की तैयारी

ट्विटर में हुई छंटनी में वहां के लगभग आधे कर्मचारियों को निकाला जा चुका है.

Twitter के बाद अब Meta के कर्मचारियों पर गिरेगी गाज! हजारों को बाहर का रास्ता दिखाने की तैयारी

Monday November 07, 2022,

3 min Read

ट्विटर (Twitter) में कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाए जाने के बाद फेसबुक की मूल कंपनी मेटा (Meta) भी बड़े पैमाने पर छंटनी की योजना बना रही है. मीडिया की एक खबर में यह जानकारी देते हुए कहा गया है कि यह संभवत: पिछले एक साल में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी मेटा में सबसे बड़ी छंटनी होगी.

‘द वॉल स्ट्रीट जर्नल’(WSJ) की रिपोर्ट के अनुसार, मेटा से हजारों कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है. मेटा के कुल कर्मचारियों की संख्या 87,000 है. कर्मचारियों की छंटनी की शुरुआत बुधवार से हो सकती है. रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी के अधिकारियों ने कर्मचारियों से कहा है कि वे इस सप्ताह से किसी गैरजरूरी यात्रा पर नहीं जाएं.

18 साल के इतिहास में सबसे बड़ी छंटनी!

कंपनी के 18 साल के इतिहास में यह कर्मचारियों की सबसे बड़े स्तर पर छंटनी होगी. हालांकि प्रतिशत के आधार पर, पिछले हफ्ते ट्विटर इंक में की गई छंटनी की तुलना में कम होगी. ट्विटर में हुई छंटनी में वहां के लगभग आधे कर्मचारियों को निकाला जा चुका है. ट्विटर अब एलन मस्क की कंपनी है. मेटा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) मार्क जुकरबर्ग ने कहा है कि कंपनी उच्च प्राथमिकता वाले वृद्धि क्षेत्रों में छोटी संख्या में निवेश पर ध्यान केंद्रित करेगी. उन्होंने कहा, ‘‘2023 के अंत में हमारे संगठन का आकार आज के बराबर ही होगा या उससे कुछ छोटा होगा.’’ जून के आखिर में जुकरबर्ग ने एक कंपनीवाइड मीटिंग में अपने कर्मचारियों से कहा था कि कंपनी में शायद ऐसे लोग भी हैं, जिन्हें यहां नहीं होना चाहिए.

महामारी काल में हुई थी जमकर हायरिंग

WSJ की रिपोर्ट के मुताबिक, महामारी के दौरान मेटा में जमकर हायरिंग हुई थी क्योंकि जीवन और व्यवसाय, ऑनलाइन पर अधिक शिफ्ट हो गए थे. मेटा ने 2020 और 2021 के महामारी वर्षों में 27,000 से अधिक कर्मचारियों को जोड़ा और इस वर्ष के पहले नौ महीनों में और 15,344 को जोड़ा गया. मेटा का स्टॉक इस साल 70 प्रतिशत से अधिक गिर गया है. कंपनी ने बिगड़ते मैक्रोइकॉनॉमिक रुझानों को उजागर किया है, लेकिन निवेशक इसके खर्च और कंपनी के मुख्य सोशल-मीडिया व्यवसाय के लिए खतरों से भी डरे हुए हैं.

रिपोर्ट में कहा गया कि कई बाजारों में इस व्यवसाय के लिए ग्रोथ्स, टिकटॉक से कड़ी प्रतिस्पर्धा के बीच रुक गई है, और एप्पल इंक कहती है कि यूजर्स अपने डिवाइसेज की ट्रैकिंग करें. इससे विज्ञापनों को टार्गेट करने की सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की क्षमता कम हो गई है.


Edited by Ritika Singh