भारत में मुंबई, पुणे और हैदराबाद हैं प्रॉपर्टी मार्केट सर्चेज में सबसे आगे: रिपोर्ट

इन शहरों को बाजार में तेज गतिविधि का एपिसेंटर बताया गया है. यह आने वाले महीनों में सेक्‍टर की कहानी को महत्‍वपूर्ण ढंग से आकार देंगे.

भारत में मुंबई, पुणे और हैदराबाद हैं प्रॉपर्टी मार्केट सर्चेज में सबसे आगे: रिपोर्ट

Wednesday December 27, 2023,

4 min Read

Housing.com की ताजा रिपोर्ट में घर खरीदारों की ऑनलाइन एक्टिविटी के डेटा विश्‍लेषण का लाभ उठाया गया है. इस रिपोर्ट में भारतीय आवासीय रियल एस्‍टेट सेक्‍टर की 2024 में अपेक्षित जारी वृ‍द्धि का श्रेय मुंबई, पुणे और हैदराबाद को दिया गया है. इन शहरों को बाजार में तेज गतिविधि का एपिसेंटर बताया गया है. यह आने वाले महीनों में सेक्‍टर की कहानी को महत्‍वपूर्ण ढंग से आकार देंगे.

Housing.com के आईआरआईएस इंडेक्‍स से मिल रहे प्रोत्‍साहक संकेत: Housing.com का आईआरआईएस इंडेक्‍स (Buy) भारत के प्रमुख शहरों में भविष्‍य की मांग का एक महत्‍वपूर्ण संकेतक है. दिसंबर 2023 में वह 131 पॉइंट्स पर ट्रेंड कर रहा है. अपने ऐतिहासिक पीक पर इसने 83 प्रतिशत हासिल किये हैं. यह ट्रेंड आने वाले महीनों के लिये बाजार की सकारात्‍मक संभावना का संकेत है.

2024 के ट्रेंड्स: बड़े घरों की मांग में तेजी- बड़े होम कॉन्फिग्‍युरेशंस के लिये, खासकर 3+BHK अपार्टमेंट्स के लिये ट्रेंड गति पकड़ रहा है. काफी जगह वाले इन घरों के लिये खोज 2023 में सालाना छह गुना बढ़ी है. यह रहने के लिये बड़ी जगहों का आकर्षण दिखाता है.

लक्‍जरी लिविंग के लिये बढ़ता आकर्षण: 2024 के लिये स्‍पॉटलाइट में हैं हाई-एंड अपार्टमेंट्स- उम्‍मीद है कि 2024 में लक्‍जरी अपार्टमेंट्स, खासकर 1-2 करोड़ और उससे ज्‍यादा के ब्रैकेट, के लिये मांग बढ़ेगी. इस सेगमेंट में 2023 में ऑनलाइन प्रॉपर्टी सर्च वॉल्‍यूम सालाना 7.5 गुना बढ़ा है.

Housing.com, PropTiger और Makaan के ग्रुप सीईओ ध्रुव अगरवाला ने कहा, "भारतीय रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में 2023 एक महत्‍वपूर्ण साल रहा. इस साल अभूतपूर्व वृद्धि और मजबूती देखने को मिली. बढ़ी हुई ब्‍याज दरों और वैश्विक अनिश्चितताओं जैसी चुनौतियों के बावजूद उद्योग ने मजबूती दिखाई है. अप्रैल में दामों में बढ़ोतरी रोकने के लिये आरबीआई के फैसले और महामारी के बाद बढ़ी हुई मांग ने खरीदारों का भरोसा उल्‍लेखनीय ढंग से बढ़ाया. बाजार के विभिन्‍न सेगमेंट्स में आवासीय मांग साफ तौर से बढ़ी हुई दिख रही है. यह 2024 के लिये आशाजनक है."

Housing.com, PropTiger.com और Makaan.com में हेड ऑफ रिसर्च अंकिता सूद ने कहा, "2024 में सेक्‍टर आगे बढ़ेगा. हमें प्रॉपर्टी खरीदने और किराये पर देने में अच्‍छी तेजी की उम्‍मीद है, क्‍योंकि आने वाली मांग का पता लगाने वाले हमारे आईआरआईएस इंडेक्‍स ने तेजी का आकलन किया है. प्रॉपर्टी के दाम कोविड से पहले के दामों से 15-20% बढ़े हैं और शहरों के महत्‍वपूर्ण इलाकों में मासिक किराये 25-50% बढ़े हैं. इसका कारण सर्विस इंडस्‍ट्री है. हम देख रहे हैं कि 2024 में वृद्धि सिर्फ मेट्रोज तक सीमित नहीं रहेगी. टीयर-2 शहर इकोनॉमी और रियल्‍टी के नये एपिसेंटर हैं."

2024 में नजर रखने लायक इलाके: ग्रेटर नोएडा वेस्‍ट (ग्रेटर नोएडा), मीरा रोड़ पूर्व, मलाड पश्चिम (मुंबई), कोंडापुर (हैदराबाद), और व्‍हाइटफील्‍ड (बेंगलुरु) जैसे इलाकों का हमारे पोर्टल पर ऑनलाइन हाई-इंटेन्‍ट घर खरीदारी गतिविधि में सबसे बड़ा हिस्‍सा रहा.

Housing.com

टीयर 2 शहरों का रेंटल मार्केट और उभरते ट्रेंड्स: ऑनलाइन सर्च ट्रेंड्ज़ बताते हैं कि 2024 में रेंटल मार्केट अच्‍छी वृद्धि करेगा, खासकर गुरुग्राम, मुंबई, बेंगलुरु और पुणे में. इसका कारण है ऑफिस से ही काम करने की पॉलिसी का बहाल होना. इन शहरों के महत्‍वपूर्ण इलाकों में 2023 में किराया महामारी के पहले की तुलना में 25-30 प्रतिशत बढ़ा है. 

इसके अलावा, टीयर 2 शहर, जैसे कि जयपुर, इंदौर, लखनऊ, मोहाली और वडोदरा आवासीय गतिविधि के लिये महत्‍वपूर्ण बाजारों के रूप में उभर रहे हैं. यह खरीदारी के लिये ऑनलाइन प्रॉपर्टी सर्च वॉल्‍यूम में सबसे बड़ी सालाना बढ़ोतरी से पता चलता है.

गेटेड कम्‍युनिटीज और उपभोक्‍ता के रुझान का महत्‍व: उम्‍मीद है कि रहने के लिये तैयार संपत्तियों वाली गेटेड कम्‍युनिटीज 2024 में घरों की खरीदारी में एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएंगी. इसके अलावा, कंज्‍यूमर सेंटिमेंट आउटलुक के मुताबिक, ज्‍यादातर खरीदार सीधे डेवलपर्स से खरीदना पसंद कर रहे हैं. इस प्रकार रीसेल प्रॉपर्टीज की तुलना में नये प्रॉपर्टी डेवलपमेंट्स पर नया भरोसा बना दिख रहा है.

कुल मिलाकर, यह ट्रेंड्स 2024 के लिये भारत के आवासीय रियल एस्‍टेट बाजार में घर के खरीदार की पसंद और उम्‍मीदों का एक जीवंत और उभरता परिदृश्‍य दिखाते हैं. यह व्‍यापक विश्‍लेषण घरों के खरीदारों और डेवलपर्स के लिये महत्‍वपूर्ण जानकारियाँ देता है. उनके लिये यह बाजार के गतिशील वातावरण में अच्‍छी तरह से सूचित फैसले करना संभव बनाता है.