1 जून से लागू हो गए रुपये-पैसे से जुड़े ये 6 बदलाव, आपकी जेब पर ऐसे होगा असर

By Ritika Singh
June 01, 2022, Updated on : Wed Jun 01 2022 09:46:29 GMT+0000
1 जून से लागू हो गए रुपये-पैसे से जुड़े ये 6 बदलाव, आपकी जेब पर ऐसे होगा असर
रुपये-पैसों से जुड़े 6 नए नियम या बदलाव 1 जून 2022 से देश में लागू हो चुके हैं. इन बदलावों के चलते आपको कहीं फायदा होगा तो कहीं जेब से ज्यादा पैसे जाएंगे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश में हर महीने की पहली तारीख से कुछ नए नियम या बदलाव लागू होते हैं. जून 2022 की शुरुआत में भी ऐसा होने जा रहा है. रुपये-पैसों से जुड़े 6 नए नियम या बदलाव 1 जून 2022 से देश में लागू (New Rules from June 1) हो चुके हैं. इन बदलावों के चलते आपको कहीं फायदा होगा तो कहीं जेब से ज्यादा पैसे जाएंगे. आइए जानते हैं जून माह से लागू हुए इन बदलावों के बारे में...

कमर्शियल LPG सिलेंडर सस्ता

1 जून से देश में 19 किलोग्राम वाला कमर्शियल LPG सिलेंडर 135 रुपये सस्ता हो गया है. अब राजधानी दिल्ली में इसकी कीमत 2219 रुपये प्रति सिलेंडर रह गई है. वहीं कोलकाता में यह 2322 रुपये, मुंबई में 2171.50 रुपये, चेन्नई में 2373 रुपये प्रति सिलेंडर में मिलेगा. नई कीमतें 1 जून से ही लागू हो गई हैं. 

SBI होम लोन और एजुकेशन लोन महंगा

SBI का होम लोन (Home Loan) और एजुकेशन लोन (Education Loan) 1 जून से महंगा हो गया है. SBI ने एक्सटर्नल बेंचमार्क रेट (EBR) और रेपो रेट लिंक्ड लेंडिंग रेट (RLLR) में इजाफा किया है. EBR 1 जून से बढ़कर 7.05 फीसदी हो गई है, जो पहले 6.65 फीसदी थी. इसके चलते एक्सटर्नल बेंचमार्क लिंक्ड लेंडिंग रेट यानी EBLR भी बढ़ गई. EBR में क्रेडिट रिस्क प्रीमियम जोड़ने के बाद EBLR प्राप्त होती है. वहीं RLLR 1 जून से बढ़कर 6.65 फीसदी+CRP हो गई है, जो पहले 6.25 फीसदी थी. EBLR और RLLR में बढ़ोतरी किए जाने से बैंक के इन रेट से लिंक्ड लोन 1 जून से महंगे हो गए हैं. SBI, EBLR से लिंक्ड होम लोन और एजुकेशन लोन प्रॉडक्ट्स की पेशकश करता है. SBI में अब होम लोन रेट 7.05 फीसदी सालाना से शुरू होंगे.

एक्सिस बैंक के नए नियम

एक्सिस बैंक ने 1 जून से नया नियम जारी करते हुए अर्ध शहरी/ग्रामीण इलाकों में ईजी सेविंग्स और सैलरी प्रोग्राम्स के तहत खोले गए खातों के लिए एवरेज मिनिमम मंथली बैलेंस को बढ़ा दिया है. अब अर्धशहरी और ग्रामीण इलाकों में इन एक्सिस बैंक खातों में 15 हजार की जगह 25 हजार रुपये न्यूनतम बैलेंस रखना होगा या फिर 1 लाख रुपये का टर्म डिपॉजिट रखना जरूरी होगा. इससे कम बैलेंस होने पर ग्राहक से शुल्क लिया जाएगा. वहीं लिबर्टी सेविंग अकाउंट में मिनिमम अकाउंट बैलेंस लिमिट को 15,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दिया गया है या फिर 25,000 रुपये खर्च करना होगा.


new-rules-from-june-1-finance-and-business-related-changes-effective-from-1st-june-2022

PMJJBY और PMSBY के लिए प्रीमियम बढ़ा

सरकार ने प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (PMJJBY) और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY) के लिए प्रीमियम में इजाफा किया है. ये दोनों स्कीम्स साल 2015 से लागू हैं और 7 सालों में पहली बार इनके प्रीमियम में बदलाव किया गया है. अब PMJJBY के लिए सालाना प्रीमियम 436 रुपये कर दिया गया है, जो पहले 330 रुपये था. PMSBY के लिए सालाना प्रीमियम 12 रुपये से बढ़ाकर 20 रुपये कर दिया गया है. नए प्रीमियम रेट्स 1 जून से लागू हो गए हैं.

व्हीकल इंश्योरेंस

1 जून से टूव्हीलर, प्राइवेट फोरव्हीकलर और कमर्शियल व्हीकल्स के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी. हालांकि, शैक्षणिक संस्थानों की बसों, विंटेज यानी पुरानी कारों, इलेक्ट्रिक वाहन और हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रीमियम में छूट दी गई है. विंटेज कार के थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में 50 फीसदी, शैक्षणिक संस्थानों की बसों के प्रीमियम में 15 फीसदी, इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रीमियम में 15 फीसदी और हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रीमियम में साढ़े सात फीसदी की छूट रहेगी.

अनिवार्य गोल्ड हॉलमार्किंग का दूसरा चरण शुरू

भारत में सोने के आभूषण (Gold Jewellery) और कलाकृतियों की अनिवार्य हॉलमार्किंग (Gold Hallmarking) का दूसरा चरण 1 जून 2022 से शुरू हो रहा है. गोल्ड हॉलमार्किंग 16 जून 2021 तक स्वैच्छिक थी, उसके बाद सरकार ने सोने की अनिवार्य हॉलमार्किंग को चरणबद्ध तरीके से लागू करने का फैसला लिया. पहले चरण में देश के 256 जिलों को इसके दायरे में लाया गया. अभी ज्वेलर्स की ओर से बिक्री से पहले 14 कैरेट, 18 कैरेट, 22 कैरेट शुद्धता वाली गोल्ड ज्वेलरी के लिए हॉलमार्किंग अनिवार्य है. दूसरे चरण के दायरे में गोल्ड ज्वेलरी के तीन अतिरिक्त कैरेट 20, 23 और 24 कैरेट भी आएंगे. साथ ही 32 नए जिले भी दूसरे चरण के दायरे में आएंगे. इसका अर्थ हुआ कि 1 जून से ज्वेलर केवल हॉलमार्क वाली गोल्ड ज्वेलरी ही बेच सकेंगे, फिर चाहे उसकी शुद्धता कुछ भी हो.