Feildproxy ने Y Combinator के नेतृत्व में जुटाए 6 करोड़ रुपये

By रविकांत पारीक
July 13, 2022, Updated on : Fri Jul 15 2022 06:42:46 GMT+0000
Feildproxy ने Y Combinator के नेतृत्व में जुटाए 6 करोड़ रुपये
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फील्ड पर काम करने वाली टीमों की प्रोडक्टिविटी में सुधार के लिए काम कर रहे No-Code SaaS (Software-as-a-Service) प्लेटफॉर्म Fieldproxy ने घोषणा की कि उसने अपने प्री-सीरीज ए राउंड में 6 करोड़ रुपये जुटाए हैं. इस राउंड का नेतृत्व Y-Combinator (W22 Batch) ने किया था.


मौजूदा राउंड में Number Capital (Indonesian Fintech Payfazz Founders' Fund), Mars Shot Ventures (Indian Unicorn Razorpay Founders' Fund), Kevin Moore, President KRM Interests और अभीक बसु, सीईओ, Tachyon ने भी भाग लिया.


मौजूदा निवेशक LetsVenture, 2am VC, Magic.fund (जिसने Feildproxy में निवेश के साथ भारत में प्रवेश किया) और अन्य मार्की एंजेल निवेशक जैसे Tata Industries के कार्यकारी निदेशक KRS जामवाल, Marqeta Inc में डिमांड जनरेशन के वाइस-प्रेसीडेंट अजीत देशपांडे, KIFS Housing Finance Limited के डायरेक्टर कुशल खंडवाला, SAT Industries के डायरेक्टर असद दाउद, Cisco Systems के प्रिंसिपल नीलेश पटेल, Sigma Byte के मैनेजिंग डायरेक्टर केतन कोठारी, AZB & Partners की पार्टनर श्रेया राव, ने भी इस राउंड में भाग लिया.

no-code-saas-platform-feildproxy-raises-rs-6-crore-led-by-y-combinator-pre-series-a-funding

Fieldproxy की टीम

IIM Kozhikode के पूर्व छात्र स्वरूप विजयकुमार और बिट्स पिलानी (BITS Pilani) के पूर्व छात्र बालकृष्ण बी द्वारा 2020 में शुरू किया गया Feildproxy एक वेब-बेस्ड नो-कोड बिल्डर प्रोवाइड करता है. यह बिजनेसेज के लिए फील्ड में काम करने वाली टीमों के साथ अपनी आंतरिक बातचीत को सुव्यवस्थित और सरल बनाने देता है.


Razorpay के को-फाउंडर और Mars Shot Ventures के पार्टनर शशांक कुमार ने कहा, “हम Feildproxy और टीम के विजन को आसान फील्ड फोर्स मैनेजमेंट को सक्षम करने के लिए समर्थन करने के लिए उत्साहित हैं. फील्ड फोर्स मैनेजमेंट इंडस्ट्री में बड़ा अवसर है. और हम मानते हैं कि Feildproxy अपने नो-कोड प्लेटफॉर्म के जरिए इस स्पेस धूम मचाने के लिए तैयार है.”


कंपनी, जिसने अब तक 8.3 करोड़ रुपये (US$1,040,000) जुटाए हैं, इस फंडिंग का उपयोग मुख्य रूप से अपने गो-टू-मार्केट (GTM) प्रयासों को बढ़ाने के लिए करेगी.


फंडरेज़ पर बोलते हुए Feildproxy के को-फाउंडर और सीईओ स्वरूप विजयकुमार ने कहा, “हम विश्व स्तरीय निवेशकों के साथ जुड़ने से रोमांचित हैं. जैसा कि हम अपने जीटीएम प्रयासों को आगे बढ़ा रहे हैं, Feildproxy न केवल अधिक एंटरप्राइज कस्टमर्स की सेवा करने का लक्ष्य रखता है, बल्कि बिजनेसेज को ऑनबोर्ड करने और मिनटों के भीतर अत्याधुनिक समाधान बनाने में मदद करने के लिए हमारी तैयार टेम्प्लेट लाइब्रेरी को बढ़ाने के लिए भी काम कर रहा है.”


Fieldproxy के को-फाउंडर और सीटीओ बालकृष्ण बी ने कहा, “फील्ड टीमों को मैनेज करने के लिए नो-कोड अप्रोच एक इंडस्ट्री है और एफएमसीजी, फार्मा और फील्ड सर्विसिंग जैसी इंडस्ट्रीज में पारंपरिक व्यवसाय में मदद करता है. एक अलग डेवलपमेंट टीम को चलाने और मैनेज करने के लिए ओवरहेड्स के बिना अपने ऑन-ग्राउंड वर्कफोर्स को सुव्यवस्थित करने के लिए ऐप्लीकेशंस को जल्दी से डिप्लॉय करना होता है. इससे उन्हें अपने मुख्य व्यवसायों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है."