NortonLifeLock ऑनलाइन ट्रैकिंग से बेहतर बचाव के लिए भारत में लॉन्च किया Norton AntiTrack

By रविकांत पारीक
October 12, 2022, Updated on : Wed Oct 12 2022 06:05:19 GMT+0000
NortonLifeLock ऑनलाइन ट्रैकिंग से बेहतर बचाव के लिए भारत में लॉन्च किया Norton AntiTrack
नॉर्टन एंटीट्रैक, मैक और विंडोज़ पीसी के लिए एक ऐप और ब्राउज़र एक्सटेंशन है जिससे लोगों को अपनी ऑनलाइन प्राइवेसी को कंट्रोल करने और अपने डेटा को प्राइवेट रखने का मौका मिलता है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कंज्यूमर साइबर सुरक्षा के क्षेत्र की वैश्विक स्तर की अग्रणी कंपनी NortonLifeLock ने भारत में बिल्कुल नई ऑनलाइन प्राइवेसी पेशकश Norton AntiTrack को रिलीज़ करने की घोषणा की. थर्ड-पार्टी कंपनियां और वेबसाइट, उपभोक्ताओं की ऑनलाइन सर्च को ट्रैक करती हैं और उनके व्यक्तिगत डेटा जुटाती हैं. नॉर्टन एंटीट्रैक की मदद से लोग इस पर कंट्रोल रख सकते हैं कि क्या उन्हें डिजिटल फुटप्रिंट छोड़ना है या नहीं. इसकी वजह है ऐसा सॉल्यूशन जो ट्रैकर की तत्काल पहचान कर लेता है और उस पर तुरंत ही रिएक्शन करता है और एडवांस्ड एंटी-फिंगरप्रिंटिंग टैक्नोलॉजी की मदद से उन्हें ब्लॉक करता है.


नॉर्टन एंटीट्रैक, मैक और विंडोज़ पीसी के लिए एक ऐप और ब्राउज़र एक्सटेंशन है जिससे लोगों को अपनी ऑनलाइन निजता को कंट्रोल करने और अपने डेटा को निजी रखने का मौका मिलता है. यह ट्रैकिंग और फिंगरप्रिंटिंग की कोशिशों से उपयोगकर्ताओं की पहचान सुरक्षित रखने में मदद करता है, एंटी-फिंगरप्रिंटिंग टैक्नोलॉजी की मदद से यह उन साइटों को अनट्रेसेबल डेटा वापस भेजता है जहां उपयोगकर्ता गया था और इस दौरान उनके मैक या पीसी की स्पीड कम नहीं होती है और न ही उनके ब्राउज़िंग अनुभव में कोई बाधा आती है और न ही वेब फंक्शन में.


ऋतेश चोपड़ा, नॉर्टन डायरेक्टर भारत एवं सार्क देश, नॉर्टनलाइफलॉक ने कहा, "हालांकि ढेर सारे ऑनलाइन प्राइवेसी टूल उपलब्ध हैं, लेकिन ज़्यादातर कंपनियां हमें अनोखी खूबियों के माध्यम से हमारी पहचान कर सकती हैं जिससे फिंगरप्रिंट बनते हैं. हमारे शोध के मुताबिक, बड़े ट्रैकर लगभग सभी ऑनलाइन उपयोगकर्ताओं की करीब दो-तिहाई ब्राउज़िंग हिस्ट्री के बारे में जानते हैं. इस विशेषज्ञ शोध के परिणामस्वरूप हम जानते हैं कि हर सप्ताह ग्राहकों को 177 अलग-अलग तरह के ट्रैकर का सामना करना पड़ता है. इनमें से 84 फीसदी ट्रैकर का सामना ऑनलाइन जाने के पहले 12 घंटों के दौरान करना पड़ता है." 


"चूंकि लोग पहले के मुकाबले कहीं अधिक समय ऑनलाइन बिता रहे हैं, ऐसे में हम देख रहे हैं कि लोग अपनी निजता पर भी कहीं अधिक ज़ोर दे रहे हैं. नॉर्टन एंटीट्रैक के साथ हम ऐसे नए रास्ते बता रहे हैं जिससे कंट्रोल फिर से ग्राहकों के हाथों में रहे और वे अपनी ऑनलाइन निजता की सुरक्षा कर सकें. नॉर्टन एंटीट्रैक ने पहले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किए जाने वाले ट्रैकिंग के अरबों प्रयासों को ब्लॉक किया है."


ग्राहकों को हर दिन ऑनलाइन ट्रैक किया जा रहा है. उपयोगकर्ता जिस भी वेबसाइट पर जाते हैं, वहां वे व्यक्तिगत डेटा का डिजिटल ट्रेल छोड़ जाते हैं जिसे कुकीज़, फिंगरप्रिंटिंग और प्रोफाइलिंग टैक्नोलॉजी की मदद से जुटाया जाता है. इस डेटा का इस्तेमाल अलग-अलग तरह से किया जा सकता है जिस पर उपयोगकर्ता का कोई कंट्रोल नहीं रहता. इस डेटा का इस्तेमाल उपयोगकर्ताओं के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए मार्केटिंग के उद्देश्य से किया जाए, खास विज्ञापनों और कुछ खास लोगों तक सूचनाएं पहुंचाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाए या उपयोगकर्ताओं के ऑनलाइन व्यवहार और यहां तक कि व्यक्तिगत विचारों को प्रभावित करने के लिए किया जाता है. इस डेटा को अन्य डेटा के साथ जोड़ा भी जा सकता है, ताकि किसी व्यक्ति की ऑनलाइन दिलचस्पी से जुड़ी एक व्यापक प्रोफाइल बनाई जा सके.


2022 नॉर्टन साइबर सेफ्टी इनसाइट्स रिपोर्ट1 के मुताबिक, सर्वे में शामिल पांच में से चार भारतीयों (82 फीसदी) का मानना है कि वे अपनी ऑनलाइन निजता के लिए पहले के मुकाबले कहीं अधिक जागरूक हैं और 86 फीसदी लोग अपनी निजता को सुरक्षित रखने के लिए और भी चीज़ें करना चाहते हैं. करीब आधे लोगों (47 फीसदी) का मानना है कि निजता को सुरक्षित रखना असंभव है. नॉर्टन लैब्स रिसर्च से पता चलता है कि इस बात से फर्क नहीं पड़ता है कि सप्ताह के अंत में आपका सामना कितने ट्रैकर्स से होता है, उनमें से ज़्यादातर आपके बारे में ब्राउज़िंग के कुछ ही घंटों में जान जाते हैं.


नॉर्टन एंटीट्रैक से उपयोगकर्ताओं को थर्ड पार्टी की डेटा जुटाने की कोशिशों को देखने और उन पर नज़र रखने में मदद मिलती है जिसका मतलब है कि वे ट्रैकिंग की उन कोशिशों को कंट्रोल कर सकते हैं और उनके बारे में जानकारी पा सकते हैं जिन्हें ब्लॉक किया गया है. इस्तेमाल करने के लिहाज़ से आसान डैशबोर्ड ने उपयोगकर्ता यह चुन सकते हैं कि वे किसी साइट पर थर्ड पार्टी द्वारा ट्रैक होना चाहते हैं या नहीं.


नॉर्टन एंटीट्रैक, सामान्य प्राइवेट ब्राउजर्स के मुकाबले अधिक प्रभावी है जिससे उपयोगकर्ताओं की प्रोफाइलिंग को इस तरह रोकने में मदद मिलती है जैसी अन्य टूल्स से नहीं मिलती है. इसकी खूबियां इस प्रकार हैं:


  • एंटी-फिंगरप्रिंटिंग क्षमताएं: लॉन्च के समय से ही नॉर्टन एंटीट्रैक टैक्नोलॉजी की डिजिटल फिंगरप्रिंट को रोकने की खूबियों से उपयोगकर्ताओं की ओर से लाखों डिजिटल फिंगरप्रिंट को ब्लॉक करने में मदद मिली है. एंटी-फिंगरप्रिंटिंग टैक्नोलॉजी, उपयोगकर्ताओं के यूनीक आइडेंटिफायर्स का इस्तेमाल करती है जिसमें उनके डिवाइस और ऑपरेटिंग सिस्टम, फॉन्ट साइज़, स्क्रीन रेज़ोल्यूशन और ऐसी अन्य चीज़ें होती हैं जिससे कंपनियों को उपयोगकर्ताओं का डिजिटल फिंगरप्रिंट प्रोफाइल बनाने से रोकने में मदद मिलती है.


  • ट्रैकर ब्लॉकिंग: बेहतरीन ट्रैकर डिटेक्शन क्रॉलिंग तकनीकों का इस्तेमाल करके, ट्रैकर्स की सूची बनाकर और उन्हें अपडेट करके, नॉर्टनलाइफलॉक के शोध के मुताबिक, नॉर्टन एंटीट्रैक ने कुछ मामलों में 400 फीसदी से ज़्यादा ट्रैकर्स की पहचान की है.


  • कुकी ब्लॉकिंग: इससे कुकीज़ को ब्लॉक करने में मदद मिलती है जो ब्राउज़िंग हिस्ट्री को ट्रैक करने और निजी जानकारी जुटाने की कोशिश करते हैं.


  • तेज़ ब्राउज़िंग: वेबपेज ब्रेकेज से बचने के लिए एल्गोरिद्म का इस्तेमाल करने से वेबपेज के लोड होने से पहले ही ट्रैकर को ब्लॉक करने में मदद मिलती है, इसका मतलब है कि वेबपेज को तेज़ी से लोड होने के लिए तैयार किया गया है.


  • ट्रैकिंग डैशबोर्ड: इससे ट्रैकिंग करने की थर्ड-पार्टी की कोशिशों पर नज़र रखने और उनके बारे में जानकारी पाने में मदद मिलती है और उन्हें खतरे के हिसाब से रैंकिंग करने में मदद मिलती है.      


नॉर्टन एंटीट्रैक, मैक, विंडोज़ 10 और विंडोज़ 11 (एस मोड में विंडोज़ 10 और एआरएम प्रोसेसर पर चलने वाले विंडोज़ को छोड़कर) के लिए उपलब्ध है और यह सफारी, गूगल क्रोम, मोज़िला फायरफॉक्स और माइक्रोसॉफ्ट एज ब्राउज़र्स पर काम करता है.