ZestMoney को नहीं खरीदेगी PhonePe, डील कैंसिल होने की वजह?

यह कदम ZestMoney के लिए एक झटके के रूप में आया, क्योंकि यह एक ऐसे इकोसिस्टम में पैसों की कमी से जूझ रहा है जहां VCs और निवेशक बड़े चेक पर हस्ताक्षर करते समय ज्यादा सतर्क हो गए हैं.

भारत के सबसे बड़े फिनटेक प्लेटफॉर्मों में से एक फोनपे (PhonePe) ने बेंगलुरु स्थित BNPL (बाय नाउ पे लेटर) प्लेटफॉर्म जेस्टमनी (ZestMoney) का अधिग्रहण करने की अपनी योजना को रोक दिया है. यह डील 200-300 करोड़ डॉलर में आंकी गई थी.

इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, BNPL स्टार्टअप के साथ महीनों की चर्चा के बाद, डिजिटल पेमेंट्स प्लेटफॉर्म ने जेस्टमनी के साथ डील कैंसिल कर दी है. सूत्रों ने बताया है कि जांच के दौरान खामी पाए जाने, वैल्यूएशन को लेकर एक राय नहीं बनने, बिजनेस की सस्टेनिबिलिटी और जेस्टमनी के शेयरहोल्डिंग स्ट्रक्चर जैसे कुछ कारणों के चलते इस डील को रद्द कर दिया गया है.

इसके अलावा, रिपोर्ट में कहा गया है कि डील कैंसिल हो गई है, और कंपनी के बोर्ड और निवेशकों को पिछले कुछ दिनों में इस के बारे में बताया गया था.

यह कदम ZestMoney के लिए एक झटके के रूप में आया, क्योंकि यह एक ऐसे इकोसिस्टम में पैसों की कमी से जूझ रहा है जहां VCs और निवेशक बड़े चेक पर हस्ताक्षर करते समय ज्यादा सतर्क हो गए हैं.

बता दें कि ZestMoney की स्थापना साल 2016 में लिज़ी चैपमैन, प्रिया शर्मा और आशीष अनंतरामन ने की थी. कंपनी के पास कुल 170 लाख कस्टमर्स हैं. कंपनी हर महीने 400 करोड़ रुपये का लोन बांटने में सक्षम है. कंपनी के 10,000 ऑनलाइन ब्रांड्स और 75,000 ऑफलाइन स्टोर्स हैं. इसके साथ ही कंपनी के 27 लेंडिंग पार्टनर्स हैं.

पहले की रिपोर्ट्स के अनुसार, ZestMoney पहले पाइन लैब्स और BharatPe के साथ अधिग्रहण की बातचीत कर रही थी, लेकिन सौदे विफल हो गए.

ZestMoney ने अब तक PayU, Zip, Ribbit Capital, Quona Capital, Xiaomi, Omidyar Network, Goldman Sachs, सहित अन्य प्रमुख निवेशकों से लगभग 140 करोड़ डॉलर जुटाए हैं. ZestMoney ने 22 सितंबर को ऑस्ट्रेलियाई BNPL स्टार्टअप Zip कंपनी से 5 करोड़ डॉलर जुटाए थे.

वित्तीय वर्ष 2022 के दौरान, ZestMoney ने अपने राजस्व में वित्त वर्ष 21 में ₹89 करोड़ से ₹145 करोड़ की वृद्धि देखी, जबकि घाटा एक साल पहले ₹125.8 करोड़ से बढ़कर ₹398.8 करोड़ हो गया.

ZestMoney के ज़रिए डिजिटल लोन लिया जा सकता है, लेकिन फोनपे में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है. हालांकि, फोनपे में अन्य फाइनेंशियल सर्विसेज जैसे इंश्योरेंस, म्यूचुअल फंड और डिजिटल गोल्ड और सिल्वर से जुड़ी सेवाएं उपलब्ध हैं. अपने डिजिटल लोन सेगमेंट को मजबूत करने के लिए PhonePe ने नवंबर में ZestMoney को खरीदने के लिए बातचीत शुरू की थी. इस सौदे के करीब 200-300 मिलियन डॉलर में होने की उम्मीद जताई गई थी.

यह भी पढ़ें
Poshn की कहानी: कैसे बायर, सेलर और एजेंट्स को मुनाफा कमाने में मदद करता है ये स्टार्टअप

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors