वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता के बीच भारत विश्व अर्थव्यवस्था में एक चमकता हुआ स्थान है: पीयूष गोयल

By रविकांत पारीक
November 21, 2022, Updated on : Mon Nov 21 2022 07:41:55 GMT+0000
वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता के बीच भारत विश्व अर्थव्यवस्था में एक चमकता हुआ स्थान है: पीयूष गोयल
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि वैश्विक आर्थिक अनिश्चितता के बीच भारत विश्व अर्थव्यवस्था में एक चमकते हुए स्थान पर है. गोयल मुंबई में 21वीं वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स को संबोधित कर रहे थे.


केंद्रीय वाणिज्य मंत्री ने कहा कि भारत ने प्रदर्शित किया है कि दुनिया में मौजूदा अस्थिरता, अनिश्चितता, जटिलता और अस्पष्टता के बावजूद, हमारे देश के पास नेतृत्व, क्षमताएं और कौशल है जो आर्थिक सुधार को नेविगेट करने के लिए आवश्यक है. उन्होंने कहा, “महामारी की चुनौतियों के बावजूद, भारतीय अर्थव्यवस्था को बनाए रखने के लिए बहुत ही उचित उपाय किए गए थे जहाँ व्यापक आर्थिक बुनियादी बातों पर एक मजबूत ध्यान केंद्रित किया गया था. हमारी सरकार ने समाज के सभी वर्गों के समावेशी कल्याण पर ध्यान केंद्रित किया है.”

piyush-goyal-says-india-is-a-bright-shining-spot-in-the-world-economy-amidst-global-economic-uncertainty

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री ने कहा कि दुनिया आज विकास को गति देने और रास्ता दिखाने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था की ओर देख रही है. "दुनिया भारत के मजबूत आर्थिक बुनियादी सिद्धांतों, जनसांख्यिकीय लाभांश, एक बेजोड़ उपभोक्ता आधार, कौशल और भारत के युवाओं की प्रबंधन क्षमताओं को पहचानती है."


जी-20 प्रेसीडेंसी के बारे में बोलते हुए वाणिज्य मंत्री ने कहा कि जी-20 प्रेसीडेंसी के लिए हमारी थीम 'वसुधैव कुटुंबकम' है. भारत का मानना है कि विश्व एक परिवार है. भारत पूरे विश्व की परवाह करता है और इसी संदर्भ में हमने अपने प्रेसीडेंसी पद की थीम एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य रखी है. जबकि दुनिया उपभोग आधारित विकास पर ध्यान केंद्रित करती है, भारत स्थिरता पर ध्यान केंद्रित करता है और प्रकृति का सम्मान करता है. भारत इंटर-जेनरेशनल इक्विटी में विश्वास करता है और यह हम में से प्रत्येक पर निर्भर है कि हम विरासत में मिली दुनिया से बेहतर दुनिया छोड़ कर जाएं.


केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हम 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाने और हर भारतीय तक समृद्धि पहुंचाने के विजन के साथ काम कर रहे हैं. "प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और भारत के लोगों ने एक ऐसे भविष्य की कल्पना की है जहां हम आजादी के 100 साल पर भारत को एक विकसित राष्ट्र देखना चाहते हैं".


वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंट्स इस विजन के संरक्षक हैं. "सीए को इस मिशन की प्रगति को सत्यापित करने, यह पहचानने के लिए कि क्या वादे और आपसी सहमति के अनुसार इसे लागू किया जा रहा है, की आवश्यकता होगी. हम सच्ची और निष्पक्ष तस्वीर को प्रमाणित करते हैं."


उन्होंने कहा, "वैश्विक आर्थिक सुधार में जब दुनिया खुद को बेहतर ऊर्जा सुरक्षा और खाद्य सुरक्षा के लिए तैयार कर रही है, जैसा कि हम भविष्य देखते हैं जहां इनोवेशन और प्रौद्योगिकी विकास को गति देने जा रही है, यह सीए के रूप में हम सभी की जिम्मेदारी है कि हम सरकार और संस्थान के साथ काम करें.”


21वीं वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स 2022 की मेजबानी मुंबई में द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया द्वारा हाइब्रिड मोड में की जा रही है. वर्ल्ड कांग्रेस ऑफ अकाउंटेंट्स 2022 के लिए यह थीम 'बिल्डिंग ट्रस्ट इनेबलिंग सस्टेनेबिलिटी' है.