तेलंगाना की इस आईपीएस अधिकारी ने कोविड-19 के दौरान घरेलू हिंसा पीड़ितों की मदद के लिए तैनात किया 'मोबाइल सेफ्टी' वाहन

By yourstory हिन्दी
August 13, 2020, Updated on : Thu Aug 13 2020 11:31:30 GMT+0000
तेलंगाना की इस आईपीएस अधिकारी ने कोविड-19 के दौरान घरेलू हिंसा पीड़ितों की मदद के लिए तैनात किया 'मोबाइल सेफ्टी' वाहन
एक घरेलू हिंसा मामले से प्रेरित होकर, महबूबनगर जिले की पुलिस अधीक्षक रेमा राजेश्वरी ने पीड़ितों की तत्काल सहायता के लिए 'मोबाइल सेफ्टी' वाहन शुरू किया।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कोरोनावायरस लॉकडाउन ने कई लोगों को अपने घरों के अंदर ही रहने के लिए मजबूर किया। चूंकि उनमें से अधिकांश के पास अपने जीवनसाथी और परिवारों के साथ पूरे दिन घर के अंदर रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं था, इसलिए देश भर से घरेलू हिंसा के कई मामले सामने आने लगे।


राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा साझा कि गई रिपोर्ट के अनुसार, इस साल मार्च में महामारी के प्रकोप के बाद से घरेलू हिंसा की घटनाएं लगभग दोगुनी हो गई हैं।


क

महबूबनगर की पुलिस अधीक्षक रेमा राजेश्वरी। (फोटो साभार: Humans of Bombay/Facebook)


इस बात ने तेलंगाना के महबूबनगर जिले के पुलिस अधीक्षक रेमा राजेश्वरी को घरेलू दुर्व्यवहार के पीड़ितों की मदद के लिए 'मोबाइल सुरक्षा' वाहन शुरू करने के लिए प्रेरित किया।


ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे से पहल के बारे में बात करते हुए अधिकारी ने कहा कि कुछ दिनों पहले, कानपुर की एक महिला ने उन्हें फोन किया और वह अपनी बहन के बारे में चिंतित थी। महिला ने यह भी खुलासा किया कि उसकी बहन का पति उसे नियमित रूप से मारता था।


एसपी ने कहा,

“हमने एक डिस्पेच टीम भेजी और उसे इतनी भयानक स्थिति में पाया कि इसने मुझे झकझोर दिया। वह बुरी तरह से उखड़ी हुई थी, तीन दिनों में पानी की एक बूंद भी नहीं थी, और दर्द से कराह रही थी।”

बचाव के बाद पुलिस ने उसे इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया। बाद में उसने अपने पति के खिलाफ मामला दर्ज करने का कदम उठाया, द लॉजिकल इंडियन ने बताया।


View this post on Instagram

“A month into the lockdown, a lady called me from Kanpur. She was extremely distressed as her sister hadn't called in 3 days. Her husband would hit her and she worried it had happened again. So we sent a dispatch team and found her in such a terrible condition, it shook me. She was badly bruised, hadn't had a single drop of water in 3 days and was writhing in pain. We rushed her to the hospital and filed a case against the husband. 3 days later, she fully recovered, but her sister called again, 'Can you please send her home to me?' So I got all the passes for inter-state travel and made sure she was home safely. That incident was an eye opener– there were so many victims of domestic violence living with their abusers and they couldn't even file a complaint! To help them, I set up 'Mobile Safety'– a vehicle with my team members doing rounds across the district and in 2 weeks, we had 40 cases! Alongside, more members of my team stepped up to help the general populace. Like this one time, we dropped a pregnant lady to the hospital in the police ambulance. When my colleague returned, he was beaming! He was so excited to be there for her and her newborn son! But as the rules got stricter, my team was stretched thin – from naka bandhis to contact tracing. And pretty soon, the migrants began going back home. We set up shelters and tried convincing them to stay but it was futile. So we set up food banks along the highway– and once the railways finally opened, we helped 11,000 workers reach home in under 15 days. Over the past 3 months, my team has put their lives at stake and risked their families, so that we could help people. But last week, a majority of them tested positive and have been quarantined. Still, the only question they ask me is, 'Madam! When can we get back in action?' Such is the love for our duty!”

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on



राजेश्वरी ने कहा,

"यह घटना आंखे खोलने वाली थी - उनके साथ दुर्व्यवहार करने वालों के साथ घरेलू हिंसा के कई पीड़ित थे, और वे शिकायत भी दर्ज नहीं कर सकते थे।"

इसी तरह के संकटों में कई अन्य महिलाओं की मदद करने के लिए, रेमा ने एक मोबाइल सुरक्षा वाहन स्थापित किया ताकि लोगों को घरेलू हिंसा से बचाया जा सके।


राजेश्वरी ने आगे बताया,

“मैंने मदद के लिए हाथ बढ़ाते हुए 'मोबाइल सेफ्टी की स्थापना की है - मेरे दल के सदस्यों के साथ एक वाहन जो जिले भर में चक्कर लगा रहा है। दो हफ्तों में, हमारे पास 40 मामले थे! साथ ही, मेरी टीम के अधिक सदस्यों ने आम लोगों की मदद के लिए कदम बढ़ाया।”

एनडीटीवी ने बताया कि इसके अलावा, राजेश्वरी और उनकी टीम ने अपने घर वापस जाने वाले प्रवासियों को भोजन और पानी उपलब्ध कराने के लिए राजमार्गों के किनारे फूड बैंक स्थापित करना शुरू किया।


उन्होंने कहा,

“रेल सेवाएं शुरू होने के बाद, हमने 15 दिनों के भीतर 11,000 श्रमिकों को घर पहुंचने में मदद की। मेरी टीम ने लोगों की मदद के लिए अपनी जान दांव पर लगा दी है।

6 अगस्त को पुलिस अधिकारी द्वारा पोस्ट शेयर किये जाने के बाद से इंस्टाग्राम पर 38,000 से अधिक लाइक और फेसबुक पर 18,000 से अधिक लाइक मिल चुके हैं।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close