पराली से प्रदूषण पर लगाम लगाने की तैयारी, जर्मनी की कंपनी पराली से बनाएगी बायोगैस

By Prerna Bhardwaj
September 21, 2022, Updated on : Wed Sep 21 2022 11:10:15 GMT+0000
पराली से प्रदूषण पर लगाम लगाने की तैयारी, जर्मनी की कंपनी पराली से बनाएगी बायोगैस
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सितंबर-अक्टूबर के महीने से ही दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) के लोगों को स्मॉग (smog) की समस्या का सामना करना पड़ता है. अनेक वजहों में एक बड़ी वजह पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़े स्तर पर खेतों में ‘पराली’ जलाने को बताया जाता है. पराली के धुएं से होने वाले वायु प्रदूषण की रोक-थाम के लिए राज्य सरकारें साझा योजनाएं बना रही हैं.


इसी बीच पंजाब सरकार (punjab government) ने पराली जलाने की समस्‍या के निदान के लिए जर्मनी की कंपनी का सहयोग लिया है जो पराली से बायोफ्यूल बनाने की दिशा में काम करेगी. इससे न केवल पराली जलाने की समस्‍या का निदान होगा साथ ही देश को बायोफ्यूल (biofuel) के रूप में बायोमीथेन या बायोसीएनजी भी मिलेगी.


पंजाब सरकार की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया है कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जर्मनी की प्रमुख कंपनी वरबीयो ग्रुप को राज्य के साथ नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में भविष्य में सहयोग के मौके तलाशने के लिए कहा है. इसी को लेकर मुख्यमंत्री ने अपने बर्लिन दौरे के दौरान वरबीयो (Verbio Group) वेरीनिगट बायो एनर्जी एजी के संस्थापक और सी ईओ कलौस सौटर के साथ खास मुलाकात की है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वरबीयो ग्रुप का राज्य के साथ मजबूत रिश्ता है क्योंकि इसकी भारतीय सहायक कंपनी वरबीयो इंडिया प्राईवेट लिमटिड ने हाल ही में भारत में सबसे बड़े बायोफ्यूल (बायोमीथेन या बायो- सीऐनजी) उत्पादन यूनिटों में से एक 33 टीपीडी यानि टन प्रति दिन की क्षमता वाला बायो-सीएनजी प्रोजेक्ट संगरूर में चालू किया है. उन्होंने कहा कि 80,000 क्यूबक मीटर प्रति दिन की क्षमता वाला बायो- सीएनजी प्रोजेक्ट बायोगैस पैदा करेगा जो पराली जलाने की समस्या को हल करने का बढ़िया ढंग है. भगवंत मान ने राज्य में औद्योगिक वातावरण के विकास के लिए अपने एजंडे और नीतियों को साझा करते हुए वरबीयो ग्रुप को पंजाब के साथ अपनी साझेदारी बढ़ाने और राज्य में और कारोबार स्थापित करने का न्योता भी दिया है.


मुख्यमंत्री और कलौस सौटर ने राज्य में ग्रुप के प्रोजेक्ट और राज्य के खेती अवशेष के प्रबंधन में इसके योगदान के बारे चर्चा की. भगवंत मान ने सीईओ को भरोसा दिलाया कि उनके प्रोजेक्ट के लिए किसी भी मसले को हल करने के लिए पंजाब सरकार की तरफ से पूर्ण सहयोग दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार किसानों, वातावरण समेत सभी पक्षों के लिए लाभदायक कदम उठाने के लिए वचनबद्ध है. मुख्यमंत्री ने कलौस सौटर और वरबीयो मैनेजमेंट को 23-24 फरवरी, 2023 को प्रगतिशील पंजाब निवेशक सम्मेलन में पंजाब में काम करने के बारे अपने तजुर्बे साझा करने और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में भविष्य में सहयोग के मौकों की तलाश का न्योता भी दिया है. इस दौरान वरबीयो ग्रुप ने पंजाब ब्यूरो आफ इनवेस्टमेंट प्रमोशन (इनवेस्ट पंजाब) द्वारा अपने प्रोजेक्ट को लागू करने में दिए गए सहयोग की सराहना की और राज्य में अपनी भावी विस्तार योजनाओं के बारे भी चर्चा की.