पुणे स्थित स्टार्टअप का DIY प्लेटफॉर्म ईकॉमर्स की राह पर चलने वाले खुदरा विक्रेताओं के लिए एक वरदान क्यों है?

हरीश रोहोकले द्वारा 2019 में स्थापित Apptmart एक एआई-पावर्ड ईकॉमर्स DIY प्लेटफॉर्म है जो व्यवसायों को अपनी खुद की ईकॉमर्स वेबसाइट / ऐप बनाने की अनुमति देता है - वो भी बिना किसी तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता के।

पुणे स्थित स्टार्टअप का DIY प्लेटफॉर्म ईकॉमर्स की राह पर चलने वाले खुदरा विक्रेताओं के लिए एक वरदान क्यों है?

Saturday March 19, 2022,

5 min Read

इंडिया ब्रांड इक्विटी फाउंडेशन (IBEF) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय ईकॉमर्स बाजार 2017 में 38.5 अरब डॉलर से बढ़कर 2026 तक 200 अरब डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है। यह स्मार्टफोन की बढ़ती पहुंच, 4 जी नेटवर्क के रोलआउट और बढ़ती उपभोक्ता संपत्ति के कारण है। भारत, केवल चीन और अमेरिका के बाद, 2020 में 14 करोड़ लोगों के साथ तीसरा सबसे बड़ा ऑनलाइन शॉपिंग करने वाला देश था।

Apptmart के फाउंडर हरीश रोहोकले कहते हैं, “भारत में खुदरा व्यवसाय आगे बढ़ने और लाभ कमाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, और वे बड़े ईकॉमर्स ब्रांडों के साथ कई क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकते हैं। एप्टमार्ट के एआई-पावर्ड प्लेटफॉर्म की मदद से रिटेलर्स के बिजनेस ईकॉमर्स बिजनेस में तब्दील हो सकते हैं।"

Apptmart एक स्टार्टअप है जो एआई-पावर्ड ईकॉमर्स DIY प्लेटफॉर्म प्रदान करता है जो खुदरा विक्रेताओं को ईकॉमर्स व्यवसायों में परिवर्तित करके ऑनलाइन दुनिया से जोड़ता है। पुणे स्थित स्टार्टअप की स्थापना 2019 में हुई थी।

Harish Rohokale, Apptmart

हरीश बताते हैं, “ऑनलाइन रिटेल सेक्टर में वृद्धि के साथ, स्थानीय दुकानदारों को टेक्नोलॉजी के साथ जोड़ना महत्वपूर्ण हो गया है, खासकर तब जब वे अधिकांश रिटेल सेक्टर पर नियंत्रिण रखते हैं। यही वह जगह है जहां ऐप्टमार्ट आता है: यह व्यापारियों को अपने प्लेटफॉर्म पर लाता है ताकि वे अपनी पहुंच का विस्तार कर सकें और ग्राहक अधिक आसानी से खरीदारी कर सकें।”

स्टार्टअप व्यवसायों को बिना किसी तकनीकी ज्ञान की आवश्यकता के कुछ ही दिनों में अपनी ई-कॉमर्स वेबसाइट/ऐप बनाने की अनुमति देता है।

Apptmart कई तरह के व्यवसाय-बढ़ाने वाली सुविधाएँ प्रदान करता है जैसे कि Razorpay और Cashfree डिलीवरी पार्टनर इंटीग्रेशन, AI- पावर्ड एडमिन डैशबोर्ड, ऑटो ई-मेलर्स, इन्वेंट्री मैनेजमेंट और प्रोडक्ट मैनेजमेंट आदि।

यह एआई टेक्नोलॉजीज का इस्तेमाल करके यूजर्स के व्यवहार और विश्लेषण के आधार पर रिकमंडेशन तैयार करता है।

ऐप्टमार्ट आपको सोशल शेयरिंग को सोशल सेलिंग में बदलने में भी मदद कर सकता है जहां व्यवसाय आसानी से अपने इंस्टाग्राम और फेसबुक फीड पर उत्पादों को जोड़ और बेच सकते हैं, जिससे ग्राहकों को उनके पसंदीदा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर ब्राउज करने और खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

ऐप्टमार्ट एक बूटस्ट्रैप्ड उद्यम है। स्टार्टअप का दावा है कि भारत और विदेशों दोनों में इसके प्लेटफॉर्म पर 5000+ ग्राहक और 75 से अधिक व्यापारी हैं।

एक नए घरेलू ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म के रूप में, एप्टमार्ट ने अपने पहले उपभोक्ताओं को आकर्षित करने और प्रचार-प्रसार के लिए ऑफलाइन बिक्री पर भरोसा किया। हरीश कहते हैं, "हम एक लंबी अवधि की मार्केटिंग रणनीति पर काम कर रहे हैं, जिसमें ऑफलाइन बिक्री, व्यापार मेलों में जाना, कार्यक्रमों की मेजबानी करना और डिजिटल मीडिया पर कारोबार को बढ़ावा देना शामिल है।"

टीम

फर्ग्यूसन कॉलेज से कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री हासिल करने के बाद हरीश रोहोकले एक एसोसिएट सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में ग्लोबेंट इंडिया में शामिल हुए। छह साल की अवधि में, उन्हें टीम लीड और आर्किटेक्ट के रूप में पदोन्नत किया गया।

इस अवधि के दौरान, हरीश को Angular 6, Angular CLI, HTML5, SCSS, PrimeNG, React 16, React Materialize, Jasmin, Karma, TFS, Octopus पर काम करने का मौका मिला और इन तकनीकों का इस्तेमाल करके कई प्रोजेक्ट्स का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया।

एप्टमार्ट के पास वर्तमान में 100 से अधिक सदस्यों की एक टीम है।

एकमात्र फाउंडर के रूप में, हरीश कंपनी के सामान्य विकास, मार्केटिंग और वित्तीय संचालन के लिए जिम्मेदार हैं, और प्रतिस्पर्धी बाजार के माध्यम से इसे संचालित करते हुए ग्राहकों और निवेशकों को ब्रांड का प्रतिनिधित्व भी करता है।

Apptmart

आगे का रास्ता

घरेलू स्तर पर, एप्टमार्ट शॉपमैटिक, स्टोर हिप्पो, मायदुकान आदि जैसों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है, जबकि वैश्विक स्तर पर, स्टार्टअप को Shopify, BigCommerce, Wix और WooCommerce जैसे खिलाड़ियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है।

हरीश के अनुसार, उनका स्टार्टअप व्यापारियों की जरूरतों को पूरा करने वाली सुविधाओं और क्षमताओं को विकसित करके खुद को अलग करता है, और उनके लिए अपने ईकॉमर्स का इस्तेमाल करना आसान बनाता है।

वे कहते हैं, “तकनीकी जानकारी की कमी के कारण, खुदरा व्यापारी अपनी ई-कॉमर्स वेबसाइट और ऐप लॉन्च करने में सक्षम नहीं हैं। एप्‍टमार्ट के प्‍लेटफॉर्म का इस्‍तेमाल करने के लिए किसी तकनीकी या कोडिंग का ज्ञान होना जरूरी नहीं है। यह आपके स्टोर को एक ही स्थान पर संचालित करने के लिए एक शक्तिशाली मर्चेंट पैनल प्रदान करता है। इसकी अंतर्निर्मित ग्राहक संबंध प्रबंधन प्रणाली (सीआरएम) उपभोक्ता छूट और विशेष प्रस्तावों को भी बढ़ावा देती है।”

वे कहते हैं, "पेमेंट गेटवे Razorpayऔर Cashfree Payments, साथ ही डिलीवरी पार्टनर जैसे कि Delhivery, सभी बिल्ट-इन हैं।"

एप्टमार्ट का लक्ष्य समूह एक व्यापक B2B और B2C डोमेन है। स्टार्टअप का रेवेन्यू मॉडल सब्सक्रिप्शन-आधारित है, और इसकी चार प्राइसिंग कैटेगरीज हैं जो मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक और वार्षिक आधार पर उपलब्ध हैं - इनमें बेसिक (2,599 रुपये/माह), एडवांस (5,199 रुपये/माह), प्रीमियम (10,399 रुपये/माह) और प्रोमोशनल (1,299 रुपये/माह) शामिल हैं। इसके ग्राहकों में तालेगांव फार्म, स्प्लेंडिड फार्म फ्रेश, अरोमा फेरी, राधा की कॉस्मिक वर्ल्ड और हाउस ऑफ मीट शामिल हैं।

हरीश मानते हैं कि स्टार्टअप को प्रवेश में कई बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है, जैसे प्रतिस्पर्धी ब्रांड जागरूकता, ग्राहक आधार और वित्तीय संसाधन, क्योंकि यह एक बढ़ता और प्रतिस्पर्धी व्यवसाय है। हालांकि, उनका कहना है कि उन्हें विश्वास है कि यह प्लेटफॉर्म अपने सभी समावेशी टूल की बदौलत व्यवसायों के लिए एक बढ़ावा है।

हरीश अंत में कहते हैं, "हम अपने मार्केटिंग प्रयासों, प्रोडक्ट डेवलपमेंट और वित्तीय संसाधनों को बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं।"


Edited by रविकांत पारीक