2023 की तीसरी तिमाही में पिछले 5 साल में सबसे कम फंडिंग हुई: रिपोर्ट

2023 की तीसरी तिमाही में फंडिंग में बड़ी गिरावट देखी गई, जिसमें कुल 1.5 बिलियन डॉलर जुटाए गए. यह पिछली तिमाही की तुलना में 29% की कमी है और 2022 की तीसरी तिमाही की तुलना में 54% की गिरावट है.

2023 की तीसरी तिमाही में पिछले 5 साल में सबसे कम फंडिंग हुई: रिपोर्ट

Sunday October 01, 2023,

4 min Read

हाइलाइट्स

  • Perfios, Zepto, Ola Electric, Ather Energy, और Zyber 365 ने इस तिमाही में 100 मिलियन डॉलर से अधिक के फंडिंग राउंड पूरे किए
  • तीसरी तिमाही में केवल 2 यूनिकॉर्न बने - Zepto और Zyber 365
  • फिनटेक सेक्टर ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजारों में UPI को तेजी से अपनाने के कारण पिछले तिमाही की तुलना में 68% वृद्धि देखी
  • बेंगलुरु ने सबसे अधिक कुल फंडिंग जुटाई, इसके बाद - मुंबई और नोएडा ने.

Tracxn ने अपनी Geo Quarterly Report India Tech- Q3 2023 का अनावरण किया है. यह रिपोर्ट भारत के टेक इकोसिस्टम के बारे में मूल्यवान जानकारी प्रदान करती है, जिसमें 2023 की तीसरी तिमाही के महत्वपूर्ण ट्रेंड्स और डेवलपमेंट्स को उजागर किया गया है.

रिपोर्ट के अनुसार, भारत दुनिया भर के टेक फंडिंग लैंडस्केप में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में अपनी जगह बनाए हुए है. 2022 की चौथी तिमाही में फंडिंग में वृद्धि के बाद, भारत के टेक सेक्टर ने प्रति तिमाही फंडिंगं में गिरावट देखी है, जो 2023 की तीसरी तिमाही को इसे 2023 की सबसे कम फंडिंग वाली तिमाही और पिछले पांच सालों में सबसे कम फंडिंग वाली तिमाही बनाता है.

रिपोर्ट के लॉन्च पर बात करते हुए, Tracxn की को-फाउंडर नेहा सिंह ने कहा, "यह रिपोर्ट भारत के टेक इकोसिस्टम की बदलती गतिविधियों के प्रकार पर प्रकाश डालती है, जो उद्यमियों, निवेशकों और उद्योग हितधारकों के लिए मूल्यवान जानकारी प्रदान करती है. फंडिंग विंटर की चुनौतियों का सामना करने के बावजूद, भारत 2023 की तीसरी तिमाही में पांचवे सबसे ज्यादा फंड हुए देश के रूप में अपनी जगह बनाने में कामयाब रहा है. और ये वर्ष के लिए कुल फंडिंग में चौथे स्थान पर है. यह भारतीय टेक स्टार्टअप्स की प्रतिरोधक्षमता को दर्शाता है कि वे मार्केट के बदलते हालातों के अनुसार अनुकूल होने का कार्य कर सकते हैं."

2023 की तीसरी तिमाही में फंडिंग में बड़ी गिरावट देखी गई, जिसमें कुल 1.5 बिलियन डॉलर जुटाए गए. यह पिछली तिमाही की तुलना में 29% की कमी है और 2022 की तीसरी तिमाही की तुलना में 54% की गिरावट है. लेट स्टेज राउंड्स में 33% की कमी देखी गई, जबकि अर्ली स्टेज और सीड स्टेज फंडिंग में भी गिरावट आई, पिछले वर्ष (2022 की तीसरी तिमाही) की इसी तिमाही की तुलना में 74% और 75% की कमी आई.

2023 की तीसरी तिमाही में 100 मिलियन डॉलर से अधिक के पांच फंडिंग राउंड देखे गए, जिसमें Perfios, Zepto, Ola Electric, Ather Energy, और Zyber 365 जैसी कंपनियां शामिल थीं, जिसमें Perfios ने अपने सीरीज डी राउंड में 229 मिलियन डॉलर जुटाए थे.

Tracxn के को-फाउंडर अभिषेक गोयल ने कहा, "फंडिंग में गिरावट के बावजूद, भारत वैश्विक स्तर पर शीर्ष प्रदर्शन करने वाले टेक इकोसिस्टम्स में से एक बना हुआ है. रिपोर्ट में एक आशाजनक संकेत है मासिक आधार पर फंडिंग की वृद्धि, जिसमें अगस्त 2023 में 376 मिलियन डॉलर से बढ़कर सितंबर 2023 में 720 मिलियन डॉलर तक, 91% की शानदार वृद्धि देखी गई."

रिपोर्ट में एंटरप्राइज एप्लिकेशन, फिनटेक, और ट्रांसपोर्टेशन और लॉजिस्टिक्स टेक सेक्टर्स को पिछली तिमाही के मुकाबले बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले सेक्टर्स के रूप में दर्शाया गया है. एंटरप्राइज एप्लिकेशन फंडिंग में पिछली तिमाही के मुकाबले 51% की वृद्धि हुई, फिनटेक को 436 मिलियन डॉलर की फंडिंग मिली, जिससे 68% की वृद्धि देखी गई, और ट्रांसपोर्टेशन और लॉजिस्टिक्स टेक को 375 मिलियन डॉलर की फंडिंग मिली, जिसमें 72% की गिरावट देखी गई.

फिनटेक सेक्टर में निवेश की वृद्धि UPI को तेजी से अपनाने के कारण हुई है. भूटान, फ्रांस, यूएई, सउदी अरब, बहरीन और सिंगापुर जैसे अंतरराष्ट्रीय और घरेलू बाजारों - दोनों में यूपीआई को अपनाने में देखी गई तीव्र वृद्धि के कारण फिनटेक क्षेत्र में निवेश वृद्धि को बढ़ावा मिला है. NPCI और डिजिटल पेमेंट्स की रिपोर्ट्स के अनुसार, इस साल अगस्त में 10 अरब से अधिक मासिक यूपीआई लेनदेन दर्ज किए गए.

2023 की तीसरी तिमाही में दो स्टार्टअप ने यूनिकॉर्न का दर्जा हासिल किया - Zepto और Zyber 365. यूनिकॉर्न बनने में पिछले वर्ष के मुकाबले 50% की कमी आई. इसके अलावा, तिमाही में 33 अधिग्रहण हुए, जिसमें 2022 की तीसरी तिमाही के मुकाबले 13% की कमी आई. 2023 की तीसरी तिमाही में Drone Destination, Aha Solar, IdeaForge और Veefin जैसी चार कंपनियां सार्वजनिक हुईं.

बेंगलुरु ने 2023 की तीसरी तिमाही में सबसे अधिक फंडिंग जुटाने वाले शहरों में पहले पायदान पर अपनी जगह बनाई, इसके बाद मुंबई और नोएडा की बारी आई.

2023 की तीसरी तिमाही में शीर्ष निवेशकों में Accel, Blume, और Peak XV Partners शामिल थे. IPV, 100X.VC और Titan Capital ने सीड फंडिंग राउंड्स का नेतृत्व किया, जबकि Elevation, Tiger Global Management, और Accel ने अर्ली-स्टेज राउंड्स में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. लेट-स्टेज कैटेगरी में, Glade Brook Capital ने कमान संभाली.

यह भी पढ़ें
जानिए कैसे स्टार्टअप्स को फंडिंग देता है Real Time Angel Fund