स्कूली बच्चों के लिए RBI की बड़ी पहल, लेकर आया वित्तीय साक्षरता पाठ्यक्रम, स्कूली पाठ्यक्रम में होगा शामिल

आरबीआई के कार्यकारी निदेशक अनिल कुमार शर्मा ने सोमवार को यहां एक कार्यक्रम में यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम स्कूली शिक्षा में बुनियादी वित्तीय साक्षरता को समाहित कर पाते हैं तो वह देश में वित्तीय साक्षरता के विस्तार के लिए काफी अच्छा होगा.’

स्कूली बच्चों के लिए RBI की बड़ी पहल, लेकर आया वित्तीय साक्षरता पाठ्यक्रम, स्कूली पाठ्यक्रम में होगा शामिल

Monday November 14, 2022,

2 min Read

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने अन्य नियामकों के साथ मिलकर स्कूली शिक्षा बोर्ड के लिए एक वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम तैयार किया है. तीन राज्यों को छोड़कर बाकी सभी ने इसे अपने स्कूली पाठ्यक्रम में जगह देने पर सहमति जताई है.

आरबीआई के कार्यकारी निदेशक अनिल कुमार शर्मा ने सोमवार को यहां एक कार्यक्रम में यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम स्कूली शिक्षा में बुनियादी वित्तीय साक्षरता को समाहित कर पाते हैं तो वह देश में वित्तीय साक्षरता के विस्तार के लिए काफी अच्छा होगा.’’

शर्मा ने कहा कि इस वित्तीय साक्षरता कार्यक्रम को स्कूली पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाने पर तीन राज्यों को छोड़कर अन्य ने सहमति दे दी है. उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम को सभी वित्तीय नियामकों के साथ परामर्श के बाद तैयार किया गया है.

शर्मा ने ‘सा-धन राष्ट्रीय वित्तीय समावेशन सम्मेलन 2022’ को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘जब भी पाठ्यक्रम का पुनरीक्षण होगा, स्कूली शिक्षा बोर्ड इस साक्षरता कार्यक्रम को शामिल कर लेंगे. इस पाठ्यक्रम को खासतौर पर छठी से दसवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है.’’

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्रीय बैंक बैंकिंग प्रतिनिधि (बीसी) के समूचे ढांचे की समीक्षा कर रहा है क्योंकि यह व्यवस्था अपेक्षा के अनुरूप काम नहीं कर पाई है. इस दौरान बीसी की भूमिका और उनकी तरफ से दी जाने वाली सेवाओं से जुड़़े माम बिंदुओं पर गौर किया जा रहा है.

समाज के अंतिम व्यक्ति तक वित्तीय साक्षरता पहुंचाने के उद्देश्य से बीसी की संकल्पना की गई थी. हालांकि, उन्होंने कहा कि नियामकीय बंदिशों और परिचालन से जुड़ी अड़चनों के कारण इस उद्देश्य को हासिल नहीं किया जा सका है.

हम इस संपूर्ण बीसी ढांचे, कॉरपोरेट बीसी की भूमिका, वे जो सेवाएं प्रदान करते हैं, उनके साथ क्या मुद्दे हैं और महिलाओं की भागीदारी का निम्न स्तर आदि की समीक्षा करने की प्रक्रिया में हैं.

ये ऐसे मुद्दे हैं जिनसे हम जुड़े हुए हैं (अभी) और हम इस विशेष ढांचे को कैसे संशोधित किया जाए, इस पर व्यापक नियमों के साथ आएंगे, इससे हमें वह हासिल करने में मदद मिल सकती है जिसे हम हासिल करना चाहते हैं.


Edited by Vishal Jaiswal