Reset-and-Recharge: इस कंपनी ने कर्मचारियों को दी 11 दिन की छुट्टी, जानिए क्यों?

By yourstory हिन्दी
September 23, 2022, Updated on : Fri Sep 23 2022 10:06:31 GMT+0000
Reset-and-Recharge: इस कंपनी ने कर्मचारियों को दी 11 दिन की छुट्टी, जानिए क्यों?
सॉफ्टबैंक समर्थित मीशो ने अपने इस मेंटल वेलबिइंग प्रोग्राम को रिजेट एंड रिचार्ज (Reset and Recharge) नाम दिया है. बेहद बिजी रहने वाले फेस्टिव सेल पीरियड के बाद कर्मचारी काम से पूरी तरह से दूर रहेंगे और अपने मानसिक स्वास्थ्य पर फोकस करेंगे. कंपनी ने लगातार दूसरे साल इस पॉलिसी को अपनाया है.
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारतीय ई-कॉमर्स स्टार्टअप मीशो इंडस्ट्री में पहली बार अपने कर्मचारियों के मानसिक स्वास्थ्य को फोकस में रखते हुए देशव्यापी स्तर पर 11 दिन के ब्रेक की घोषणा की है. कर्मचारियों के लिए यह छुट्टी 22 अक्टूबर से 1 नवंबर तक रहेगी.


सॉफ्टबैंक समर्थित मीशो ने अपने इस मेंटल वेलबिइंग प्रोग्राम को रिजेट एंड रिचार्ज (Reset and Recharge) नाम दिया है. बेहद बिजी रहने वाले फेस्टिव सेल पीरियड के बाद कर्मचारी काम से पूरी तरह से दूर रहेंगे और अपने मानसिक स्वास्थ्य पर फोकस करेंगे. कंपनी ने लगातार दूसरे साल इस पॉलिसी को अपनाया है.

बता दें कि, प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियां 23 सितंबर से अपनी त्योहारी सीजन की बिक्री शुरू कर रही हैं. सॉफ्टबैंक समर्थित मीशो को छोड़कर अमेजन, फ्लिपकार्ट और मिन्त्रा ने इसी तिथि से अपनी त्योहारी बिक्री शुरू करने की घोषणा की है.


अपने कर्मचारियों का हर तरह से ख्याल रखने वाली कंपनी ने कहा कि उसका यह कदम एक पीपुल सेंट्रिक वर्कप्लेस बनाने के मीशो के कमिटमेंट को पूरा करने के लिए है. मीशो ने कहा कि एक ऐसे समय में जब आज के वर्कफोर्स में बर्नआउट (काम से संबंधित तनाव) और अवसाद मुख्य रूप से चिंता बनकर उभर रहे हैं तब रिजेट एंड रिचार्ज अन्य कंपनियों को भी इस तरह की प्रैक्टिस अपनाने के लिए रास्ता दिखाएगा.


मीशो के चीफ एचआर ऑफिसर आशीष कुमार सिंह ने कहा कि कंपनी के कल्चर को सबसे बेहतर बनाने के लिए वर्क लाइफ बैलेंस की जरूरत को समझना सबसे अधिक जरूरी हो जाता है. ऐसी प्रोग्रेसिव पॉलिसीज ने हमारी इम्प्लॉयी सेंट्रिक छवि को बनाने में मदद की है.


मीशो ने कहा कि उसने कई इंडस्ट्री फर्स्ट और फॉरवर्ड लुकिंग पॉलिसीज को अपनाया है. इसमें बाउंड्रीलेस वर्कप्लेस मॉडल, अनिश्चितकालीन वेलनेस लीव, 30 वीक जेंडर न्यूट्रल पैरेंटल लीव और 30 डे जेंडर रिअसाइनमेंट लीव शामिल हैं. वर्तमान में मीशो के साथ करीब 1,700 कर्मचारी काम करते हैं. नया कामकाजी मॉडल सभी कर्मचारियों पर लागू होगा.


इससे पहले इस साल फरवरी में मीशो ने अपने सभी कर्मचारियों को स्थायी तौर पर उनकी पसंद की जगह से काम करने की सुविधा देने की घोषणा की थी. इसके साथ ही, कंपनी बेंगलुरु मुख्यालय वाली कंपनी देशभर में दफ्तर खोलने की योजना पर भी काम करेगी. नए दफ्तर खोलने के बारे में कोई भी फैसला प्रतिभाओं की मांग एवं उनकी संख्या के आधार पर किया जाएगा. मीशो इस मॉडल के तहत दफ्तर से दूर रहकर काम करने वाले कर्मचारियों को तिमाही बैठकों में फिजिकली शामिल होने और पर्यटन स्थलों की सालाना सैर का भी मौका देगी.


Edited by Vishal Jaiswal

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें