बिजली के बिल पर 70 प्रतिशत की बचत कर रहा है सौर ऊर्जा से संचालित बेंगलुरु का यह अपार्टमेंट

बिजली के बिल पर 70 प्रतिशत की बचत कर रहा है सौर ऊर्जा से संचालित बेंगलुरु का यह अपार्टमेंट

Friday July 05, 2019,

3 min Read

सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को लेकर भी लोग जागरुक हो रहे हैं। बेंगलुरु के व्हाइटफील्ड में एक अपार्टमेंट कॉम्पलेक्स है एआरके सरीन काउंटी (ARK Serene County) जो इस दिशा में एक बड़ा कदम बढ़ा चुका है। यह अपार्टमेंट सौर ऊर्जा को बिजली में परिवर्तित करके अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा दे रहा है।



ARK Serene Country

(फोटो: The News Minute)




आज, हम न केवल पानी की समस्या से जूझ रहे हैं, बल्कि ऐसे अन्य प्राकृतिक संसाधन खो रहे हैं जो हमारी दैनिक जरूरतों को पूरा करते हैं। रिपोर्टों से पता चलता है कि अगले 53 वर्षों में तेल खत्म हो जाएगा, अगले 54 वर्षों में प्राकृतिक गैस और अन्य 110 वर्षों में कोयला खत्म हो जाएगा। हालाँकि, हम इन प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग के बारे में बढ़ती जागरूकता को भी देख रहे हैं।


सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को लेकर भी लोग जागरुक हो रहे हैं। बेंगलुरु के व्हाइटफील्ड में एक अपार्टमेंट कॉम्पलेक्स है एआरके सरीन काउंटी (ARK Serene County) जो इस दिशा में एक बड़ा कदम बढ़ा चुका है। यह अपार्टमेंट सौर ऊर्जा को बिजली में परिवर्तित करके अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा दे रहा है। 280 फ्लैट वाले इस अपार्टमेंट कॉम्पलेक्स ने अपनी छत पर सौर पैनल स्थापित करके सौर ऊर्जा को अपनाया है, जो उन्हें न केवल बिजली के बिल पर अपने खर्च को कम करने में मदद करता है, बल्कि कार्बन उत्सर्जन को कम करने में भी मदद कर रहा है।


106 किलोवाट के रूफ प्लांट को 57 लाख रुपये की लागत से स्थापित किया गया था। अब ये प्लांट अपार्टमेंट के बिजली बिल में 70 प्रतिशत तक की बचत करने में मदद कर रहा है। द न्यूज मिनट से इस पर बात करते हुए, कॉम्प्लेक्स के निवासी अमित कुमार ने कहा, “कॉम्प्लेक्स के कॉमन एरिया का बिजली बिल आमतौर पर 1.6 लाख रुपये प्रति माह आता था। लेकिन अभी, हमें 22 मार्च से 1 जून तक यानी 68 दिनों का बेसकॉम (BESCOM) बिल 1,13,007 रुपये मिला है। इसका अर्थ है प्रति माह लगभग 70 प्रतिशत की बचत। प्लांट प्रति माह हमारी 1 लाख रुपये की टार्गेट सेविंग से अधिक बिजली पैदा कर रहा है। हम इन बचत का उपयोग कॉर्पस फंड को फिर से भरने के लिए करेंगे।”


यह प्लांट प्रति माह औसतन 12,720 यूनिट का उत्पादन कर सकता है और प्रति माह 25,250 किलोग्राम कार्बन उत्सर्जन से बचाता है। इकोसोक (Ecosoch) के अनुसार यह प्रति माह 85 पेड़ लगाने के बराबर है। सिस्टम को अगले 25 वर्षों तक काम करने के लिए डिजाइन किया गया है। यही नहीं प्लांट पर खर्च किए गए रुपए पांच से छह वर्षों के भीतर रिकवर हो जाएंगे। 


एक BESCOM अधिकारी ने कहा, “हमारी तरफ से एक कोशिश है कि सरकार ग्राहकों को बिजली उत्पादन के लिए उनकी खाली छत की जगह का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करे। भले ही ये हमारे बिजनेस के लिए गलत है। हम प्रत्येक ग्राहक के लिए, नियामक प्राधिकरण (केईआरसी) के साथ समन्वय में एक एग्रीमेंट करते हैं। वर्तमान में, हम ग्राहक को ग्रिड में योगदान देने वाली हर युनिट के लिए औसतन 3.50 रुपये दे रहे हैं। इसका मतलब है कि हम उन युनिट्स की संख्या को खो रहे हैं जिन्हें हम बाजार दर पर बेच सकते थे।”