स्पेस स्टार्टअप ने इस साल 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का निजी निवेश हासिल किया: डॉ. जितेंद्र सिंह

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि इसरो ने अब तक 430 से अधिक विदेशी उपग्रह लॉन्च किए हैं, यूरोपीय उपग्रहों से 290 मिलियन यूरो से अधिक और अमेरिकी उपग्रहों को लॉन्च करके 170 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की कमाई की है.

स्पेस स्टार्टअप ने इस साल 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का निजी निवेश हासिल किया: डॉ. जितेंद्र सिंह

Thursday December 14, 2023,

5 min Read

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि अंतरिक्ष भारत की अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण घटक बनता जा रहा है. उन्होंने कहा कि अप्रैल से इस वित्तीय वर्ष में स्पेस स्टार्टअप्स ने 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का निजी निवेश आकर्षित किया है. केंद्रीय मंत्री ने एक राष्ट्रीय टीवी कॉन्क्लेव में भाग लेते हुए यह बात कही.

उन्होंने कहा, “भारत की अंतरिक्ष अर्थव्यवस्था आज मामूली 8 बिलियन डॉलर की है, लेकिन हमारा अपना अनुमान है कि 2040 तक यह कई गुना बढ़ जाएगी. लेकिन अधिक दिलचस्प बात यह है कि कुछ अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों के अनुसार, उदाहरण के लिए हालिया एडीएल (आर्थर डी लिटिल) रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि हमारे पास 2040 तक 100 बिलियन डॉलर की क्षमता हो सकती है.”

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि इसरो ने अब तक 430 से अधिक विदेशी उपग्रह लॉन्च किए हैं, यूरोपीय उपग्रहों से 290 मिलियन यूरो से अधिक और अमेरिकी उपग्रहों को लॉन्च करके 170 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की कमाई की है.

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अंतरिक्ष क्षेत्र में सुधार शुरू करने के बाद से भारत में अंतरिक्ष क्षेत्र के स्टार्टअप्स की संख्या तेजी से बढ़ रही है. लगभग चार वर्षों की छोटी सी अवधि में, स्पेस स्टार्टअप्स की संख्या मात्र एक अंक से बढ़कर 1180 से अधिक हो गई है, जबकि पहले वाले कुछ आकर्षक उद्यमियों में परिवर्तित हो गए हैं.

उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अंतरिक्ष क्षेत्र को सार्वजनिक-निजी भागीदारी के लिए खोलकर अतीत की वर्जनाओं को तोड़ दिया है. 2014 में अंतरिक्ष क्षेत्र में केवल 1 स्टार्टअप से, अब हमारे पास 190 अंतरिक्ष स्टार्टअप हैं.

डॉ. जितेंद्र सिंह ने भारत के अंतरिक्ष क्षेत्र को “अनलॉक” करके और एक सक्षम वातावरण प्रदान करके भारत के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को अपने संस्थापक पिता विक्रम साराभाई के सपने को साकार करने में सक्षम बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को पूरा श्रेय दिया, जिसमें भारत की विशाल क्षमता और प्रतिभा को एक आउटलेट मिल सके और बाकी दुनिया के सामने खुद को साबित किया जा सके.

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, इसरो के पहले अध्यक्ष और भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के संस्थापक जनक डॉ. विक्रम साराभाई ने हमेशा इसरो पर “राष्ट्रीय स्तर पर” सार्थक भूमिका निभाने पर जोर दिया और कहा कि यह एक पुष्टि है कि सरकार के नौ वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने भारत की युवा प्रतिभा, जो खोजे जाने का इंतजार कर रही थी, को नये पंख दिये.

उन्होंने कहा, “भारत में हमेशा से ही विशाल प्रतिभा पूल और बड़े सपने देखने का जुनून था, लेकिन आखिरकार यह प्रधानमंत्री मोदी ही थे जिन्होंने उन्हें एक आदर्श मौका दिया.”

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत के अंतरिक्ष मिशन मानव संसाधनों और कौशल पर आधारित हैं और लागत प्रभावी होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं.

उन्होंने कहा, “रूसी चंद्रमा मिशन, जो असफल रहा था, उसकी लागत 16,000 करोड़ रुपये थी, और हमारे (चंद्रयान-3) मिशन की लागत लगभग 600 करोड़ रुपये थी.” उन्होंने जोड़ा, “हमारा मस्तिष्क संसाधन हमारी वित्त सामग्री और संसाधन से कहीं अधिक है.”

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में पिछले नौ वर्षों में, खासकर पिछले चार वर्षों में भारत के अंतरिक्ष मिशनों ने तेजी से प्रगति की है और दुनिया भर में इसकी सराहना की जा रही है.

उन्होंने कहा, “भले ही संयुक्त राज्य अमेरिका और तत्कालीन सोवियत संघ ने हमसे बहुत पहले ही अपनी अंतरिक्ष यात्रा शुरू कर दी थी और अमेरिका ने 1969 में चंद्रमा की सतह पर एक इंसान को भी उतारा था, फिर भी यह हमारा चंद्रयान ही था जो चंद्रमा की सतह पर पानी के सबूत लेकर आया था.”

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत की स्पेस टेक्नोलॉजी वस्तुतः हर व्यक्ति के जीवन को छू रही है, जिसमें आपदा प्रबंधन, स्वामित्व, पीएम गति शक्ति, रेलवे, राजमार्ग और स्मार्ट शहर, कृषि, जल मानचित्रण, टेलीमेडिसिन और रोबोटिक शल्य चिकित्सा जैसे बुनियादी ढांचे के विभिन्न क्षेत्रों में स्पेस टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा रहा है.

निगार शाजी, परियोजना निदेशक, आदित्य एल1 मिशन, इसरो और कल्पना कालहस्ती, एसोसिएट प्रोजेक्ट निदेशक, चंद्रयान-3, इसरो का उल्लेख करते हुए, जो दोनों उनके साथ मंच साझा कर रहे थे, डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा, “भारत का अंतरिक्ष कार्यक्रम है एक बड़ा बदलाव देखा जा रहा है क्योंकि महिलाएं अब अंतरिक्ष परियोजनाओं का नेतृत्व कर रही हैं.”

इसरो की भविष्य की योजनाओं पर डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत का पहला मानवरहित “गगनयान” मिशन प्रारंभिक परीक्षणों की एक श्रृंखला से गुजर रहा है.

उन्होंने कहा, “मानवयुक्त गगनयान मिशन से पहले अगले साल एक परीक्षण उड़ान होगी, जिसमें महिला रोबोट अंतरिक्ष यात्री ‘व्योममित्र’ को ले जाया जाएगा.”

इसरो की गगनयान परियोजना में मानव दल को 400 किमी की कक्षा में लॉन्च करके और भारतीय समुद्री जल में उतरकर उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाकर मानव अंतरिक्ष उड़ान क्षमता का प्रदर्शन करने की परिकल्पना की गई है.

डीप सी मिशन परियोजना का जिक्र करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि मत्स्य नामक वाहन गहरे समुद्र में खनिजों जैसे संसाधनों की खोज के लिए तीन व्यक्तियों को 5,000-6,000 मीटर की गहराई तक ले जाएगा. उन्होंने कहा कि इस मिशन के अगले तीन वर्षों में साकार होने की उम्मीद है.

उन्होंने कहा, “अगर एक भारतीय लगभग उसी समय बाहरी अंतरिक्ष की यात्रा करता है, जब कोई अन्य भारतीय 5 किलोमीटर नीचे गहरे समुद्र की खोज करता है, तो यह महज एक संयोग हो सकता है.”