[स्टार्टअप भारत] कोरोना काल में मरीजों को इमरजेंसी हेल्थ सर्विस तक पहुंचा रहा है पटना स्थित हनुमान

डॉक्टर नीरज झा और संतोष सिंह द्वारा 2020 में स्थापित, हनुमान (Hanuman) एम्बुलेंस सेवाओं, नैदानिक सेवाओं और घरेलू स्वास्थ्य सेवा सहित तत्काल स्वास्थ्य समाधानों की अंतिम-मील डिलीवरी सुनिश्चित करता है।

[स्टार्टअप भारत] कोरोना काल में मरीजों को इमरजेंसी हेल्थ सर्विस तक पहुंचा रहा है पटना स्थित हनुमान

Sunday April 18, 2021,

5 min Read

महामारी के प्रकोप ने हमें भारत के इमरजेंसी केयर इकोसिस्टम यानी कि आपातकालीन देखभाल पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करने की आवश्यकता को महसूस करने में मदद की है। इमरजेंसी केयर सेगमेंट में ट्रेनिंग प्राप्त करने वाले डॉ. नीरज झा कहते हैं कि देश भर में इमरजेंसी केयर सिस्टम कमजोर है।


उदाहरण के लिए, हम ज्यादातर आपातकालीन देखभाल सेक्शन में जूनियर डॉक्टरों को पाते हैं, जबकि वहां हमें सबसे वरिष्ठ डॉक्टरों की आवश्यकता होती है क्योंकि किसी को यह नहीं पता होता है कि कैसा केस सामने आएगा।

डॉ. नीरज झा और संतोष सिंह, को-फाउंडर्स, हनुमान [फोटो क्रेडिट: हनुमान]

डॉ. नीरज झा और संतोष सिंह, को-फाउंडर्स, हनुमान [फोटो क्रेडिट: हनुमान]

आपातकालीन देखभाल खंड को पूरा करने की आवश्यकता को महसूस करते हुए, डॉ. नीरज झा ने अपने मित्र संतोष सिंह के साथ मिलकर 2020 में मेडिकवाइजर प्राइवेट लिमिटेड (Medicvisor Pvt Ltd) का शुभारंभ किया, जिसे अपने ब्रांड नाम हनुमान के नाम से जाना जाता है।


पटना स्थित यह अंतिम-मील डिलीवरी सेवा प्रदाता तत्काल समाधान प्रदान करता है। जिसमें एम्बुलेंस सेवाएं, नैदानिक सेवाएं और होम हेल्थकेयर शामिल हैं। स्टार्टअप शुरू करने से पहले, डॉ. नीरज एक हॉस्पिटल मैनेजमेंट कंसल्टेंट के रूप में काम कर रहे थे, जबकि संतोष क्लाइंट रिलेशन्स और मार्केटिंग कम्युनिकेशन्स के क्षेत्र में काम कर रहे थे।


इस महीने की शुरुआत में, हेल्थकेयर स्टार्टअप ने एक इन्क्यूबेटर-कम-इम्पैक्ट इन्वेस्टमेंट प्लेटफॉर्म कारकेबा वेंचर्स (Karekeba Ventures) से सीड फंडिंग जुटाई है। स्टार्टअप ने कहा कि इस फंड का इस्तेमाल भौगोलिक विस्तार के लिए किया जाएगा।


डॉ .नीरज कहते हैं, “एम्बुलेंस उपलब्धता देश में पहले से ही एक मुद्दा था और COVID-19 ने केवल इसकी मांग को बढ़ाकर समस्या को तेज कर दिया। पटना में, हमने एम्बुलेंस सेवाओं की बढ़ती कीमतों को भी देखा, जहां 10KM की यात्रा पर 20,000 रुपये का शुल्क लगाया जा रहा था। हमने हनुमान के माध्यम से इस मुद्दे को हल करने का फैसला किया।"

आपातकालीन देखभाल वितरित करना

डॉ. नीरज ने बताया कि जुलाई में हनुमान की यात्रा एम्बुलेंस सेवाओं को पाने के लिए एक टोल-फ्री नंबर शुरू करके शुरू हुई थी।


वे कहते हैं, "उस समय, मैं और संतोष पूरे बिहार में घूम-घूम कर पीपीई किट बांटते थे और COVID-19 मरीजों की देखभाल के लिए ट्रेन एम्बुलेंस की मदद करते थे।"


डॉ. नीरज कहते हैं कि उन्होंने बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर से लैस ई-रिक्शा एंबुलेंस भी लॉन्च की। वे कहते हैं, "हम ई-रिक्शा एम्बुलेंस के माध्यम से लॉन्च होने के तीन महीने के भीतर लगभग 3,000 रोगियों को ले गए, जिनमें से 700 COVID-19 रोगी थे।"


इसके बाद, दोनों ने इस सर्विस की मांग का एहसास किया, और औपचारिक रूप से अगस्त 2020 में कंपनी को लॉन्च कर किया।


डॉ. नीरज बताते हैं कि टोल-फ्री नंबर का उपयोग करके ऑन-डिमांड एम्बुलेंस सर्विस ने एक चुनौती पेश की, क्योंकि सेवा संचालक के लिए यह समझना संभव नहीं था कि कौन सी एम्बुलेंस रोगी के सबसे करीब होगी।


इसे ध्यान में रखते हुए, हनुमान ने अपना ऑनलाइन पोर्टल और मोबाइल ऐप लॉन्च किया, जो अनिवार्य रूप से ओला और उबर के समान काम करेगा, लेकिन एम्बुलेंस के साथ। यूजर्स ऐप का उपयोग करके एम्बुलेंस बुक कर सकते हैं और निकटतम वाहन 15 से 30 मिनट के भीतर उन तक पहुंच जाएगा।


डॉ. नीरज कहते हैं, "भगवान राम के लिए संजीवनी बूंटी लाने के पौराणिक महत्व के अलावा हनुमान का एक और भी मतलब है। हनुमान यानी मदद (H- Help), पहुंच (A- Accessibility), आवश्यकता (N- Need), उपयोगिता (U- Utility), और मानव जाति (M- mankind)।"

Illustration: YS Design

Illustration: YS Design

व्यापार और उससे आगे

हनुमान एम्बुलेंस ऑपरेटरों के साथ एक रेवेन्यू-शेयरिंग मॉडल पर काम करता है, और उनके साथ वाहनों के रखरखाव और ड्राइवरों के प्रशिक्षण के लिए भी काम करता है। इसके अलावा, स्टार्टअप घर पर सेवाएं प्रदान करने के लिए नैदानिक प्रयोगशालाओं के साथ भी साझेदारी करता है।


डॉ. नीरज के अनुसार, स्टार्टअप 350 एंबुलेंस पर सवार हो गया है, और वर्तमान में बिहार के बाईस जिलों में सेवाएं प्रदान कर रहा है।


उन्होंने कहा कि पटना के अलावा, हनुमान को बेगूसराय, भागलपुर, मुजफ्फरपुर और दरभंगा में अच्छा ट्रैक्शन मिल रहा है। स्टार्टअप ने जुलाई से अब तक सात हजार मरीजों की सेवा करने का दावा किया है।


डॉ. नीरज कहते हैं, 'बेसिक लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस के लिए बेस फेयर 700 रुपये से लेकर 15 रुपये प्रति किमी है। एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस के लिए यूजर्स से 35 रुपये प्रति किलोमीटर के हिसाब से 300 रुपये किराया लिया जाता है।'


नई दिल्ली स्थित मेडुलेंस हेल्थकेयर भी इसी क्षेत्र में काम कर रही है। 2017 में स्थापित, मेडुलेंस यूजर्स को अपने मोबाइल ऐप का उपयोग करके एम्बुलेंस बुक करने की अनुमति देता है और यूजर द्वारा एम्बुलेंस बुक करने के बाद उसे निकटतम उपलब्ध एम्बुलेंस को आपातकालीन देखभाल के लिए कम से कम समय में उपलब्ध करा दी जाएगी।


भविष्य की योजनाओं के बारे में बोलते हुए, डॉ. नीरज कहते हैं कि स्टार्टअप ने झारखंड के कुछ शहरों और एनसीआर और मुंबई के छोटे क्षेत्रों में अपनी सेवाओं के विस्तार पर काम करना शुरू कर दिया है।


इसके अलावा, स्टार्टअप अपने होम हेल्थकेयर सेवाओं के एक भाग के रूप में इंसुलिन एडमिनिस्ट्रेशन, ईसीजी चेक-अप, फेटल डॉपलर और नेत्र जांच जैसी लेनदेन संबंधी स्वास्थ्य सेवाओं को भी शामिल करना चाहता है।