पहाड़ों पर चढ़ीं, बाधाओं से लड़ीं, अब पर्यावरण को बचाने में दे रही हैं योगदान: कुछ ऐसी है लीजेंड माउंटेनियर हर्षवंती बिष्ट की यात्रा

पहाड़ों पर चढ़ीं, बाधाओं से लड़ीं, अब पर्यावरण को बचाने में दे रही हैं योगदान: कुछ ऐसी है लीजेंड माउंटेनियर हर्षवंती बिष्ट की यात्रा

Wednesday January 05, 2022,

8 min Read

अपने 64 साल के इतिहास में पहली बार, भारतीय पर्वतारोहण फाउंडेशन का नेतृत्व महान पर्वतारोही हर्षवंती बिष्ट करेंगी। संगठन की अध्यक्ष चुनी जाने वाली पहली महिला हर्षवंती का लक्ष्य पहाड़ों और पर्वतारोहण के लिए अपना योगदान देना है।

हर्षवंती ने योरस्टोरी को बतया, "पिछली बार जब मैंने चुनाव लड़ा था [लगभग छह साल पहले], तो मैं कुछ वोटों से हार गई थी। इस बार मैंने अधिकारियों को यह समझाने में अधिक समय और प्रयास लगाया कि मैं ऊर्जावान हूं और हमारे देश में पर्वतारोहण की प्रगति के लिए और भी बहुत कुछ कर सकती हूं। मुझे उन्हें विश्वास दिलाना था कि मैं इस क्षेत्र में युवाओं के लिए अवसरों का सृजन भी कर सकती हूं और मुझे लगता है कि यह मेरे पक्ष में काम कर गया।”

वह 107 में से 60 वोटों से जीतकर इस पद के लिए चुनी गईं। वे कहती हैं, "मुझे लगता है कि हम पर्वतारोहण के क्षेत्र में पुरुषों के समान ही अच्छे हैं, तो हम इस पद पर क्यों नहीं रह सकते?"

पिछले दो वर्षों में भारत की गति को धीमा करने वाले कोरोना वायरस महामारी ने पर्वतारोहण के क्षेत्र में भी एक खामोशी ला दी, लेकिन हर्षवंती को उम्मीद है कि आने वाले महीनों में पर्वतारोहण में कुछ अवसर हो सकते हैं।

वे कहती हैं, “पर्वतारोहण के क्षेत्र में अधिक से अधिक महिला पर्वतारोहियों को प्रोत्साहित करना मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता होगी। हम पिछले दो वर्षों में उतना नहीं कर सके जितना हमने इरादा रखा था, लेकिन मेरा लक्ष्य आईएमएफ के लिए और अधिक फंड और संसाधन जुटाना है ताकि इस एडवेंचर क्षेत्र में और अधिक गतिविधियां की जा सकें।” 

पर्वतारोहण का शौक

हर्षवंती 21 वर्ष की थीं, जब उन्होंने 1977 में नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) से पर्वतारोहण में एक बेसिक कोर्स शुरू किया। उनके पिता सेना में सेवा करते थे, लेकिन उनके परिवार में कोई भी पर्वतारोही नहीं था। लेकिन अपनी मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद, हर्षवंती ने पर्वतीय पर्यटन में पीएचडी करने का फैसला किया।

वे कहती हैं, “उस समय जब मैं पर्वतारोहण पाठ्यक्रम पर विचार कर रही थी, तभी कर्नल एलपी शर्मा पर्वतारोहण पर लेक्चर देने आए थे। इससे मेरी दिलचस्पी बढ़ी और मैंने बेसिक कोर्स में दाखिला लेने का फैसला किया।”

वे कहती हैं, "मेरे पिता खुश नहीं थे, लेकिन मैं अपने फैसले के बारे में दृढ़ थी और मेरे दृढ़ संकल्प को देखकर, वे भी मान गए।" वह कहती हैं कि माता-पिता से पर्वतारोहण करने की अनुमति प्राप्त करना एक बहुत बड़ी चुनौती थी "क्योंकि उन दिनों मुश्किल से ही पर्वतारोहण के लिए जाने वाली कोई भी महिला थी, विशेष रूप से पहाड़ों और छोटे शहरों में।"

उत्तराखंड के पौड़ी जिले के सुकई गांव के रहने वाली 67 वर्षीय पर्वतारोही कहती हैं, ''उन्होंने इन सभी गतिविधियों के बारे में सपने में भी नहीं सोचा था।"

पीएचडी के बजाए पर्वतारोहण

पर्वतारोहण को एक ऐसी गतिविधि माना जाता था जिसे हर्षवंती पर्वतीय पर्यटन में अपनी पीएचडी के पूरक के रूप में सीखना चाहती थीं, लेकिन समय के साथ-साथ उनकी रुचि बढ़ने के साथ उन्होंने इसे करने का फैसला किया। 

वे कहती हैं, "मैंने अपनी पीएचडी की लेकिन अंततः मुझे पर्वतारोहण का इतना मजा आया कि मैंने इसे जारी रखा।" 

तब से चीजें बहुत बदल गई हैं। वह कहती हैं कि उनके बैच में "केवल 10-15 लड़कियां" पर्वतारोहण करने वाली कुछ महिलाएं थीं, लेकिन आज एक बैच में यह संख्या 60-70 लड़कियों तक पहुंच गई है।

क

संगोष्ठी में बोलते हुए हर्षवंती बिष्ट

हर्षवंती कहती हैं, “आज, लड़कियों में रुचि चरम पर है क्योंकि आरक्षण भी है। एडवांस बुकिंग होती है। गियर भी बदल गया है; हम भारी गियर, साधारण रकसैक और जूते ले जाते थे लेकिन आज वह सब बदल गया है।”

पर्वतारोहण के क्षेत्र में एक लीजेंड मानी जाने वाली, हर्षवंती नंदा देवी की चोटी पर चढ़ने वाली पहली महिला बनीं, जो कि 7,816 मीटर पर पूरी तरह से भारतीय क्षेत्र में सबसे ऊंचा पर्वत है। उन्होंने इसे 1981 में दो अन्य लोगों के साथ पूरा किया था। इस उपलब्धि ने उन्हें अर्जुन पुरस्कार भी दिलाया।

कोई पहाड़ बहुत ऊँचा नहीं

1977 में जब हर्षवंती गंगोत्री क्षेत्र में पर्वतारोहण का बेसिक कोर्स कर रही थीं, तब उत्तरकाशी से गंगोत्री के लिए सीधी बसें नहीं चलती थीं।

वे कहती हैं, “मैं एक दोस्त के साथ थी; हम अपना सामान ले जा रहे थे और बहुत थके हुए थे। एक खड़ी चढ़ाई थी और हम सचमुच रो रहे थे। मैंने खुद से पूछा कि मैं इस टैक्सिंग कोर्स के लिए क्यों आई, और मुझे याद आया कि मेरे परिवार ने मेरे फैसले पर सवाल खड़े किए थे।”

वे कहती हैं, “लेकिन जब हम भैरोंघाटी पहुंचे और वहां से गंगोत्री के लिए बस ली, तो आंसू गायब हो गए। कोर्स के बाद, मुझे केवल अच्छे समय याद थे, जो भार हमने अपनी पीठ पर ढोया था, बोल्डरिंग, रॉक क्लाइम्बिंग, आइस क्राफ्ट, आदि।”

1981 में, जब हर्षवंती नंदा देवी अभियान के लिए गईं, तो उन्होंने मौत को बहुत करीब से देखा।

वे कहती हैं, “मैं कैंप तीन से कैंप चार तक भार ढो रही थी। शेरपा मेरे आगे चल रहे थे और मैं रस्सी पर चढ़ने वाली आखिरी शख्स बची थी। अचानक, मैंने कंट्रोल खो दिया और रस्सी पर उल्टी लटक गई। लेकिन हमें जिंदा रहने की कला सिखाई जाती है और मैंने अपने शरीर को उस एंकर की ओर ढकेला, जहां रस्सी फिक्स की गई थी।”

क

एक अभियान के दौरान हर्षवंती

इस तरह के अभियान कई चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों जैसे बर्फ गिरने और बड़ी दरारों को साथ लाते हैं।

हर्षवंती का मानना है कि पहाड़ों में बाधाओं पर काबू पाना उनके लिए अच्छा काम करता है। 67 वर्षीय पर्वतारोही कहती हैं, "किसी को इतना आत्मविश्वास मिलता है और ऐसा लगता है कि वह जीवन में किसी भी चुनौती को पार कर सकता है।"

पीरियड्स के दौरान लड़कियों के लिए पर्वतारोहण कैसे काम करता है, इस पर हर्षवंती कहती हैं, “जब हम किसी भी क्षेत्र में कुछ भी कर रहे होते हैं तो ये हमारे जीवन में छोटी-छोटी बाधाएं होती हैं। शौचालय पुरुषों के लिए भी एक बाधा हो सकता है, लेकिन जो कोई भी पर्वतारोहण करने की ठान लेता है, वह इसे व्यवस्थित तरीके से मैनेज करता है और इसको लेकर प्लान बनाता है।”

गंगोत्री बचाओ परियोजना 

1984 में, हर्षवंती माउंट एवरेस्ट एक्सपीडिशन के लिए गईं। वह इसे सफलतापूर्वक पूरा नहीं कर सकीं। तब उन्होंने पर्वतारोहण छोड़ने और अपना ध्यान फिर से एकेडमिक्स की ओर केंद्रित करने का फैसला किया।

हालांकि, एवरेस्ट की अपनी यात्रा के दौरान, उन्हें सोलू-खुम्बू क्षेत्र में सर एडमंड हिलेरी के काम का निरीक्षण करने का मौका मिला, जहां उन्होंने स्कूल खोले, अस्पताल बनाए और उस क्षेत्र में पर्यावरण के संरक्षण के लिए काम किया। सर एडमंड न्यूजीलैंड के पर्वतारोही हैं, जो तेनजिंग नोर्गे के साथ 1953 में माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाले पहले पर्वतारोही थे।

क

माउंट एवरेस्ट अभियान के दौरान सोनम पलजोर के साथ हर्षवंती

वे कहती हैं, “इसने मुझे अपने क्षेत्र में कुछ करने के लिए प्रेरित किया। मैंने महसूस किया कि स्कूल खोलने और चिकित्सा सुविधाओं के लिए बहुत अधिक धन की आवश्यकता होगी जो मेरे पास नहीं था। मेरे लिए सबसे सुलभ काम उस क्षेत्र में पारिस्थितिक संरक्षण था जहां मैंने गंगोत्री-गौमुख क्षेत्र में पर्वतारोहण का प्रशिक्षण लिया था।"

वे कहती हैं, “मैं वहां गई और बड़े पैमाने पर बर्च के पेड़ों और जुनिपर की झाड़ियों की कटाई देखी। पर्यटकों की आमद के कारण जंगलों को नष्ट किया जा रहा था और इससे स्थानीय लोगों को फायदा हो रहा था, लेकिन इस क्षेत्र की पारिस्थितिकी को खामियाजा भुगतना पड़ा।”

उन्होंने 1989 में इस क्षेत्र में शोध कार्य शुरू किया और 1992 में पर्यावरण और वन मंत्रालय को पारिस्थितिक चिंताओं पर एक अध्ययन (स्टडी) प्रस्तुत किया।

वे बताती हैं, "स्टडी इस क्षेत्र में तीर्थयात्रा और पर्यटन के प्रभाव पर केंद्रित है। मैंने अपनी स्टडी इस तथ्य के साथ समाप्त की कि आर्थिक रूप से तो हम लाभ प्राप्त कर रहे हैं लेकिन पारिस्थितिक रूप से हम खो रहे हैं। यह तब हुआ जब मुझे लगा कि मुझे इस क्षेत्र में पारिस्थितिक संरक्षण के लिए कुछ करना चाहिए।”

क

हर्षवंती ने भोजपत्र के बागान पर काम करना शुरू किया। वह कहती हैं, "मैंने भोजपात्रा की पौध नर्सरी चिरबासा में उगाई, जो 11,700 फीट की ऊंचाई पर है, जो गौमुख के रास्ते में गंगोत्री से 9 किमी दूर है, जिसमें बर्च और जुनिपर सहित स्वदेशी पेड़ों के पौधे हैं।"

1996 में जब पौधे रोपने के लिए तैयार थे, तो उन्होंने वन विभाग से भोजबासा के करीब 2.5 हेक्टेयर भूमि में वृक्षारोपण कार्य करने की अनुमति ली।

वे कहती हैं, “मैंने क्षेत्र में लगभग 2,500 पौधे लगाए। यह जानकर बहुत खुशी हुई कि लगभग 60-70 प्रतिशत पौधे सफलतापूर्वक बच गए।"

इसके बाद उन्होंने एक और वृक्षारोपण परियोजना को अंजाम दिया, इस बार 5.5 हेक्टेयर में लगभग 10,000 स्वदेशी पेड़ लगाए।

हर्षवंती कहती हैं, "आज मेरे पेड़ मुझसे ऊंचे हैं और इससे मुझे बेहद खुशी मिलती है।"


Edited by Ranjana Tripathi