Tata Starbucks के 2028 तक भारत में होंगे 1000 स्टोर, रोज़गार दोगुना करने का ऐलान

कंपनी की योजना टियर 2 और टियर 3 भारतीय शहरों तक पहुंचने, ड्राइव-थ्रू, एयरपोर्ट और अपने 24 घंटों वाले स्टोर का विस्तार करना है, ताकि ग्राहकों को हर जगह सेवाएं दी जा सकें.

Tata Starbucks के 2028 तक भारत में होंगे 1000 स्टोर, रोज़गार दोगुना करने का ऐलान

Tuesday January 09, 2024,

6 min Read

टाटा स्टारबक्स प्राइवेट लिमिटेड (Tata Starbucks Pvt Ltd) ने भारत में 2028 तक अपने स्टोरों की संख्या 1,000 तक पहुंचाने या हर तीन दिन में एक नए स्टोर की शुरुआत करने की योजना की घोषणा की है. इससे पहले कंपनी ने नवंबर में लंबी अवधि की ट्रिपल शॉट रीइंवेन्शन स्ट्रैटेजी पेश की थी. इस रणनीति का पूरा ध्यान स्थानीय पार्टनर्स को रोज़गार के लिए तैयार करने, बेहतर अनुभव के साथ ग्राहकों को सेवाएं देने वाले नए स्टोर्स की शुरुआत करने की ओर है. साथ ही कंपनी दुनिया भर में स्टारबक्स के ग्राहकों के बीच भारतीय मूल की कॉफी को बढ़ावा देना चाहती है.

ट्रिलियर डॉलर की अर्थव्यवस्था बन चुका भारत अब तेजी से आर्थिक वृद्धि कर रहा है. आर्थिक पूर्वानुमानों के मुताबिक देश 2030 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए तैयार है, ऐसे में यह स्टारबक्स के लिए प्रमुख क्षेत्र बन गया है. पूरी दुनिया में भारत स्टारबक्स के सबसे तेज़ी से वृद्धि करते बाज़ारों में से एक है. इसी रणनीतिक महत्व की वजह से कंपनी आने वाले दिनों में भारत में अपनी उपस्थिति को दोगुना करने वाली है.

Starbucks Coffee Company और टाटा कंज़्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड के बीच 50:50 साझेदारी में बने संयुक्त उद्यम द्वारा 2012 में शुरू किया गया टाटा स्टारबक्स अब 54 भारतीय शहरों में 390 से ज़्यादा स्टोर का संचालन करता है जहां लगभग 4,300 पार्टनर्स (कर्मचारी) कार्यरत हैं.

2028 तक अपने स्टोरों की संख्या 1,000 तक ले जाने के अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए कंपनी अपने कर्मचारियों की संख्या को दोगुना करके 8,600 करेगी. कंपनी की योजना टियर 2 और टियर 3 भारतीय शहरों तक पहुंचने, ड्राइव-थ्रू, एयरपोर्ट और अपने 24 घंटों वाले स्टोर का विस्तार करना है, ताकि ग्राहकों को हर जगह सेवाएं दी जा सकें.

इस हफ्ते भारत आए स्टारबक्स के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर लक्ष्मण नरसिम्हन ने कहा, "पिछले 11 वर्षों के दौरान भारत पूरी दुनिया में स्टारबक्स के लिए सबसे तेज़ी से वृद्धि करते बाज़ारों में से एक बन गया है. भारत में मध्यम वर्ग का विस्तार हो रहा है, ऐसे में हमें गर्व है कि हम देश की समृद्ध विरासत का सम्मान करते हुए कॉफी संस्कृति को बढ़ावा देने में मदद कर रहे हैं. अपने विश्वसनीय कारोबारी साझेदार, टाटा और हमारे ग्रीन एप्रन पार्टनर्स के साथ हम इन असीम संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. हम भारत में हर तीन दिन में एक स्टोर खोलने जा रहे हैं और सही मायनों में वैश्विक बनने की अपनी महत्वाकांक्षा को गति देंगे."

tata-starbucks-will-have-1000-stores-in-india-by-2028-announced-to-double-employment

भारत के बीन-टू-कप कॉफी अनुभव को बेहतर बनाना

वर्ष 2022 में शुरू किए गए स्टारबक्स रिज़र्व फोर्ट मुंबई की सफलता के बाद टाटा स्टारबक्स भारत में कॉफी के अनुभव को बेहतर बनाने की लंबी अवधि की प्रतिबद्धता के अंतर्गत इस वर्ष दूसरा स्टारबक्स रिज़र्व® स्टोर शुरू करेगी. कॉफी के शौकीनों की बढ़ती संख्या को प्रीमियम कॉफी के अनुभवों के साथ नया स्टारबक्स रिज़र्व® स्टोर ग्राहकों के साथ संपर्क के अनोखे पल देगा और इसमें उसकी मदद करेगी स्टारबक्स® ब्लैक एप्रन कॉफी मास्टर्स की कला.

बेहतरीन क्वालिटी की इंडियन एरेबिका कॉफी को बेहतर बनाने के मिशन के साथ स्टारबक्स रिज़र्व भारत की होल बीन कॉफी मॉनसून्ड मालाबार भारत में स्टारबक्स रिज़र्व स्टोर और इस साल के आखिर में अमेरिका में भी उपलब्ध कराएगा.

सुनील डिसूज़ा, सीईओ एवं मैनेजिंग डायरेक्टर, टाटा कंज़्यूमर प्रोडक्ट्स ने कहा, "टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स और स्टारबक्स ने एक शानदार सफर तय किया है जिससे भारत की कॉफी संस्कृति और उच्च क्वालिटी की इंडियन एरेबिका कॉफी बीन्स के मूल में समाहित कला को बढ़ावा मिला है. चूंकि हम वृद्धि के नए अध्याय की ओर बढ़ रहे हैं, हम अपने ग्राहकों के साथ अपने संबंधों को गहराई देने के लिए भारत की कॉफी संस्कृति को विकसित करना जारी रखेंगे और इसके साथ ही वैश्विक स्तर पर अनोखी भारतीय पेशकशों को पहुंचाने के लिए इनोवेशन जारी रखेंगे."

बेहतर भविष्य को आकार देने के लिए पार्टनर अनुभव को बेहतर बनाना

स्टारबक्स का हमेशा से ही अपने पार्टनर्स के बेहतर भविष्य में योगदान देने का इतिहास रहा है और हाल ही में कंपनी के स्टारबक्स कॉलेज अचीवमेंट प्लान (100 फीसदी ट्यूशन कवरेज) के माध्यम से अब तक अमेरिका की एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सटी से 12,000 से ज़्यादा लोगों को ग्रेजुएट कराने की उपलब्धि हासिल कर ली है. फिलहाल 25,000 से ज़्यादा स्टारबक्स पार्टनर्स, स्टारबक्स कॉलेज अचीवमेंट प्लान में हिस्सा लेने और एडमिशन पाने की कोशिश करते हैं जो पूरी तरह से कंपनी द्वारा प्रायोजित होता है.

भारत में भी टाटा स्टारबक्स पार्टनर्स पर निवेश करता है. इसके अंतर्गत कंपनी अपने विभिन्न पार्टनर्स को सशक्त बनाकर, विकास के समान अवसर उपलब्ध कराकर उद्योग के लिहाज़ से सर्वश्रेष्ठ लाभ उपलब्ध कराती है. यह पहली ऐसी फूड एंड बेवरेज कंपनी है जो अपने लोगों को हफ्ते में पांच दिन काम करने की सुविधा देती है. कंपनी को यह जानकारी देते हुए गर्व हो रहा है कि मौजूदा पार्टनर्स में से एक तिहाई से ज़्यादा को कंपनी में प्रमोशन मिल चुका है.

व्यावसायिक कुशलता का विस्तार

टाटा स्टारबक्स F&B (फूड एंड बेवरेज) रिटेल उद्योगों में करियर बनाने की चाहत रखने वाली पिछड़े तबके की युवा महिलाओं को व्यावसायिक कुशलता का प्रशिक्षण उपलब्ध कराकर भारत में महिलाओं को सशक्त बनाएगा. 2,000 युवा महिलाओं को 2024 तक डेवलपमेंट ट्रेनिंग, कौशल विकास और मार्गदर्शन उपलब्ध कराने के लिए ट्रस्ट फॉर रिटेलर्स एंड रिटेल एसोसिएट्स ऑफ इंडिया (TRRAIN) को अनुदान देने वाले स्टारबक्स फाउंडेशन के साथ मिलकर टाटा स्टारबक्स ने बेंगलुरू, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद और मुंबई में स्टोर में प्रोग्राम में हिस्सा लेने वालों के लिए ऑन-द-जॉब लर्निंग का विकल्प उपलब्ध कराया है.

टाटा स्टारबक्स पूरे भारत में वृद्धि कर रहा है और कंपनी विस्तार करने के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध है. स्थायी वृद्धि के लिए कंपनी बेहतर कॉफी अनुभव, अनोखे स्टोर फॉर्मैट और मानवीय संबंधों के व्यक्तिगत पलों की मदद ले रही है.

टाटा स्टारबक्स के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर सुशांत दास ने कहा, "हमने भारत में जो मज़बूत नींव तैयार की है, उसके दम पर हम वृद्धि के नए दौर में प्रवेश कर रहे हैं. यह अनोखा स्टारबक्स अनुभव तैयार करने की हमारी प्रतिबद्धता पर आधारित है जो ग्राहकों, समुदायों और साझेदारों को आगे बढ़ने में मदद करता है. चूंकि पार्टनर्स हमारे संगठन का मूल आधार हैं और भारत में हमारी सफलता को आकार दे रहे हैं, ऐसे में हम अपने पार्टनर्स के बेहतर भविष्य के लिए उचित निवेश करना जारी रखेंगे. तीसरे स्थान के बारे में नए सिरे से कल्पना करने के बारे में ध्यान केंद्रित करने और कॉफी के क्षेत्र में अपनी अग्रणी भूमिका का विस्तार करने के साथ-साथ हम भारत में वृद्धि को गति देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं."