WYLD कार्ड के इस्तेमाल से इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग हुई आसान, कंपनियों को भी राहत

WYLD का बिज़नस मॉडल दो चीजों पर आधारित है. एक ये कि हर इन्फ्लुएंसर का एक लॉयल सर्किल होता है. और दूसरा ये कि कस्टमर सबसे अच्छा प्रचार कर सकता है. वाइल्ड का ऐसा मानना है कि उनके मॉडल से ब्रांड्स के लिए रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट ट्रेडिशनल तरीकों के मुकाबले 10 गुना हो जाएगा.

WYLD कार्ड के इस्तेमाल से इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग हुई आसान, कंपनियों को भी राहत

Saturday March 04, 2023,

3 min Read

इन्फ्लुएंसर कल्चर और इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग, इन शब्दों के बारे में आपने भी सुन रखा होगा. इन्फ्लुएंसर अक्सर अपनी फॉलोविंग को टारगेट करते हुए तमाम ऐड्स करते हैंल, ब्रांड इंटीग्रेशन करते हैं. अब इस नए फील्ड ने तमाम स्टार्टअप्स के लिए रास्ते खोल दिए हैं.

आज हम ऐसे ही एक स्टार्टअप के बारे में बात कर रहे हैं जो ब्रांड और इन्फ्लुएंसर के बीच के कारोबार को स्मूद कर देता है.

यहां हम आपको बता रहे हैं स्टार्टअप Wyldके बारे में. इसके कॉन्सेप्ट को सुनकर लगता है कि ये डेबिट कार्ड और क्रेड के बीच की चीज़ है. जैसे आप किसी ब्रांड के शोरूम में शॉपिंग करते हैं तो आपको लॉयल्टी पॉइंट्स मिलते हैं, आप उन्हें रिडीम करा लें तो डिस्काउंट मिलता है. कुछ कुछ वैसा ही इस कार्ड के ज़रिये इन्फ्लुएंसर कर सकते हैं.

वाइल्ड एक फिजिकल और डिजिटल, दोनों पेमेंट्स का कार्ड है जिसे उन लोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है इन्स्टाग्रैम पर 1000 से ज्यादा फॉलोवर्स हैं. इस कार्ड के ज़रिये वो अपना इन्फ्लुएंस मोनेटाइज कर सकते हैं. वीजा की मदद से ये पेमेंट कार्ड काम करता है. और इन्फ्लुएंसर इसे ऑनलाइन या ऑफलाइन, दोनों तरह की खरीद में इस्तेमाल कर सकते हैं.

ये कार्ड काम कैसे करता है? वाइल्ड ने अपने कुछ पार्टनर ब्रांड्स जोड़े हुए हैं. कोई भी इन्फ्लुएंसर जिसके पास वाइल्ड कार्ड हो, वो इन ब्रांड्स से खरीददारी कर सकता है. इस कार्ड के ज़रिये पे कर सकता है. इसके बाद अगर इन्फ्लुएंसर उस प्रोडक्ट को अपने हैंडल से प्रमोट करता है, तो उसे कैशबैक मिलता है. इन्फ्लुएंसर की जितनी ज्यादा रीच होगी, उतना ही कैशबैक उसे आएगा. इस तरह मोनेटाइज़ेशन आसान हो जाता है. कैशबैक कैलकुलेट करने के लिए वाइल्ड का एक स्कोरिंग सिस्टम है जो उसके AI पर बेस्ड है.

WYLD की शुरुआत दिशांत सांघवी और यश सखलेचा ने की है. फाउंडर्स ने 2019 में इन्फ्लुएंसर्स के लिए एक एजेंसी और मार्केटप्लेस Influnite लॉन्च कर क्रिएटर इकोसिस्टम में अपनी यात्रा शुरू की थी. इससे उन्हें इस इंडस्ट्री की गहरी समझ हासिल करने और एक मजबूत नेटवर्क बनाने में मदद मिली. यश के पास आईआईटी बॉम्बे से बीटेक की डिग्री है. WYLD से पहले, उन्होंने क्लीनमैक्स सोलर और अजंता इंटरनेशनल के साथ काम किया था. दिशांत ने मुंबई यूनिवर्सिटी से एमकॉम किया है. वे 2016 में PlayOSport के कोफाउंडर रहे, जो स्पोर्ट्स वेन्यूज़ को खोजने और बुक करने का एक प्लेटफ़ॉर्म हैं.

वाइल्ड का बिज़नस मॉडल दो चीजों पर आधारित है. एक ये कि हर इन्फ्लुएंसर का एक लॉयल सर्किल होता है. और दूसरा ये कि कस्टमर सबसे अच्छा प्रचार कर सकता है. वाइल्ड का ऐसा मानना है कि उनके मॉडल से ब्रांड्स के लिए रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट ट्रेडिशनल तरीकों के मुकाबले 10 गुना हो जाएगा.

यह स्टार्टअप YourStory की साल 2022 की Tech30 लिस्ट का हिस्सा है.

YourStory हर साल अपने सिग्नेचर इवेंट TechSparks में आपके लिए कई हज़ारों में से चुनकर लाता है Tech30 लिस्ट में ऐसे 30 स्टार्टअप जो देश को बदल देने के साथ साथ अरबों की कंपनियां बनने की ताकत रखते हैं.

Tech30 ने बीते 11 साल में 330 से ज्यादा स्टार्टअप्स को प्रोफाइल कर उनके बारे में दुनिया को बताया है, 35,000 से ज्यादा नौकरियां देने में मदद की है, 300 करोड़ डॉलर से भी ज्यादा की फंडिंग इसकी मदद से आई है और 675 से भी ज्यादा युवा फाउंडर्स को हमने कुछ कर दिखाने की ताकत दी है. Tech30 लिस्ट का हिस्सा रहे 5 ऐसे स्टार्टअप हैं जो यूनिकॉर्न बन चुके हैं. यानी उनका वैल्यूएशन 100 करोड़ डॉलर से ज्यादा है और ये सिलसिला अभी रुका नहीं है.

यह भी पढ़ें
कैसे हार्डवेयर इंजिनियर्स का जीवन बदल देगा स्टार्टअप Simyog


Edited by Prateeksha Pandey