[टेकी ट्यूज्डे] इंजीनियरिंग एंट्रेस में हुए फेल, आगे चलकर खड़ा किया SaaS यूनिकॉर्न; Icertis के सीटीओ मोनीश दर्डा की कहानी

एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले मनीष दर्डा को चांदी की थाली में मौका नहीं दिया गया। आज, वह SaaS यूनिकॉर्न Icertis में 400 से अधिक इंजीनियरों की टीम को लीड करते हैं, जिन्होंने कई कंपनियों की सफलता की कहानी में निर्माण और योगदान दिया है।

Meha Agarwal

रविकांत पारीक

[टेकी ट्यूज्डे] इंजीनियरिंग एंट्रेस में हुए फेल, आगे चलकर खड़ा किया SaaS यूनिकॉर्न; Icertis के सीटीओ मोनीश दर्डा की कहानी

Tuesday August 03, 2021,

8 min Read

विलियम शेक्सपियर ने एक बार कहा था, "हमारा भाग्य सितारों में नहीं बल्कि अपने आप में है।" मनीष दर्डा के लिए यह उनके जीवन की कहानी रही है।


 SaaS की दुनिया में मनीष दर्डा एक जाना-पहचाना नाम है। मनीष, भारत के दूसरे सबसे वैल्यूड SaaS यूनिकॉर्न Icertis के सीटीओ हैं, इसके साथ ही वह एक स्व-घोषित "गैजेट फ्रीक" और एक उत्साही गेमर भी हैं। बेहतरीन सेंस ऑफ ह्यूमर वाले एक साधारण डाउन टू अर्थ व्यक्ति, मोनीश लगभग दो दशकों से स्टार्टअप का निर्माण कर रहे हैं, यहां तक ​​कि 'स्टार्टअप' शब्द के ग्लैमराइज़ होने से पहले ही।


YourStory के साथ बातचीत के दौरान मोनीश ने बताया, “पुणे के एक मध्यमवर्गीय मारवाड़ी परिवार से होने के कारण, हमारे समुदाय के अधिकांश लोग व्यापारी और व्यवसायी थे। शुरुआती दिनों में, मैंने सीखा कि कैसे मोलभाव करना है, चीजों को अपने हाथों से बनाना है, और 'जुगाड़' करना है।"


आज, वह Icertis में 400 से अधिक इंजीनियरों की टीम को लीड करते हैं, उन्होंने कई कंपनियों की सफलता की कहानी में निर्माण और योगदान दिया है, और क्लाउड रिसॉर्स मैनेजमेंट और प्रावधान के क्षेत्र में दो पेटेंट के सह-लेखक भी हैं।

Icertis की टीम

Icertis की टीम

शुरुआती दिन

वे आगे कहते हैं, "एक मध्यमवर्गीय परिवार, एक कमरा, नौ लोग..इस तरह मैंने अपना बचपन पुणे में बिताया," मोनीश आगे कहते हैं, "लेकिन मेरे माता-पिता ने मेरे सभी सपनों का समर्थन किया।"


जबकि उनके पिता, एक मैकेनिकल इंजीनियर, एक वैज्ञानिक उपकरण प्रयोगशाला में काम करते थे और उनकी माँ एक बैंकर थीं, दिलचस्प बात यह है कि मोनीश की पहली चाहत बस कंडक्टर बनने की थी।


वह आगे कहते हैं, “मैं अपने दोस्त की मदद से बस टिकट इकट्ठा करता था। मुझे लोकल बस डिपो से सीलबंद बचे हुए टिकट भी मिलते थे। चार से पांच साल तक, मैंने 50,000 से अधिक बस टिकट इकट्ठे कर लिए।”

टर्निंग पॉइंट

मोनीश को वाहनों का शौक था, जिसने बाद में उन्हें पायलट बनने का सपना देखने के लिए प्रेरित किया। लेकिन जब वह इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा को पास नहीं कर पाए, तो उनके सारे सपने चकनाचूर हो गए। उन्होंने कहा, "मेरे माता-पिता की शुरुआत खराब थी। जब तक मैं जूनियर कॉलेज (ग्यारहवीं कक्षा) पहुंचा, तब तक हमारा अपना घर था, लेकिन फिर भी कॉलेज में प्रवेश के लिए डोनेशन देना पूरी तरह से सवालों के घेरे में था।”


हालांकि, सब खो नहीं गया था। मनीष ने डिप्लोमा कोर्स से शुरुआत की और अपने पहले साल में टॉप किया। फिर उन्हें एक लोकल प्राइवेट कॉलेज में पेट्रोलियम इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए सीट मिल गई। पहला साल फिर से अच्छा गया और प्रिंसिपल ने उन्हें मैकेनिकल इंजीनियरिंग में शिफ्ट होने की पेशकश की। पांचवें सेमेस्टर के बाद, वह बॉयलर निर्माण कंपनी Thermax में छह महीने की इंटर्नशिप के लिए गए, जिसके को-फाउंडर का एक सॉफ्टवेयर स्टार्टअप भी था।


वह बताते हैं, “मुझे एक बार फ़ैक्टरी से सॉफ़्टवेयर ऑफिस में कुछ डॉक्यूमेंट्स देने के लिए भेजा गया। उस समय तक, मैं पहले से ही कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सीख रहा था और Fortran पर कुछ काम कर चुका था। एक बार जब वहां के एग्जीक्यूटिव ने मुझसे बातचीत की, तो उन्होंने Thermax में मेरे ट्रेनर को फोन किया, यह बताने के लिए कि क्या मैं उनके साथ काम कर सकता हूं। और एक टेकी के रूप में मेरी यात्रा शुरू हुई।”


Thermax Software में, मोनीश को अपना पहला रियल-वर्ल्ड कोडिंग अनुभव मिला। उन्होंने सॉफ्टवेयर बनाया जिसमें यदि पैरामीटर दर्ज किए गए, तो यह एक ड्राइंग के साथ चिमनी का डिज़ाइन देगा।


अपनी मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी करने के बाद, वह 1987 में अमेरिका में Florida Atlantic University में 11,000 डॉलर की स्कोलरशिप पर MS की पढ़ाई करने गए, जो उस समय एक बड़ी राशि थी। जैसा कि मोनीश ने बताया, अमेरिका उनके लिए जीवन बदलने वाला अनुभव था।

ु

मोनिश, अपने परिवार के साथ

आंत्रप्रेन्योरशिप के सफर की शुरुआत

MS पूरा करने के बाद, मनीष अपनी PhD को आधा छोड़कर भारत लौट आए। उन्होंने आगे कहा, “मैंने अपनी माँ से वादा किया था कि मैं वापस आऊँगा। मैंने नौकरी का ऑफर भी छोड़ दिया क्योंकि मैं वास्तव में एक ब्रेक लेना चाहता था।”


उन्होंने अपने पिता के एक दोस्त के साथ काम करना शुरू किया, जो साउंडप्रूफ वॉल क्लैडिंग बेचते थे। पुणे में Automotive Research Association of India में एक सेल्स मीटिंग के दौरान, उनकी मुलाकात एक एग्जीक्यूटिव से हुई, जिन्होंने Princeton University से ग्रेजुएशन की थी।


उन्होंने आगे कहा, “जब उन्हें मेरे स्पेशलाइजेशन के बारे में पता चला, तो उन्होंने तुरंत उनके साथ काम करने के लिए कहा। वह शुक्रवार था। मैंने सोमवार को जॉइन कर लिया”, वह हंसते हैं। "और हमने ऑटोमोटिव कारों के लिए भारत की पहली डेटा अधिग्रहण प्रणाली बनाई, जहां आप दबाव और तापमान को मापने के लिए कार या स्कूटर इंजन सिलेंडर में सेंसर लगा सकते हैं। यह उस समय बहुत बड़ा था, और यह वास्तव में अच्छी तरह से बिका।”


इस बीच, अमेरिका से एक दोस्त भारत वापस आया और उसने मोनीश को अपना कुछ शुरू करने के लिए राजी किया। “लेकिन पैसा एक मुद्दा था। यह 1996-97 का समय था, डॉटकॉम क्रांति का युग। इसलिए, मैं सिलिकॉन वैली वापस चला गया, माउंटेन व्यू में बे एरिया में एक छोटी सॉफ्टवेयर कंपनी में एक असाइनमेंट लिया। मैं वहां एकमात्र व्यक्ति के रूप में गया था जो वास्तव में Windows को जानता था।"


वह 1997 में एक छोटे से कार्यकाल के बाद वापस आए और 1998 में Websym Technologies की सह-स्थापना की। 'बिल्ड, ऑपरेट, ट्रांसफर' की अवधारणा पर निर्मित, Websym का उद्देश्य अमेरिका की छोटी कंपनियों, जैसे कि बोस्टन-स्थित Storability, को भारत आने के लिए प्रोत्साहित करना और दुकान की स्थापना करना है।


मोनीश ने एक एंटरप्राइज स्टोरेज मैनेजमेंट स्टार्टअप, Storability के भारत R&D ऑपरेशन का नेतृत्व किया। अंततः Sun Microsystems द्वारा Storability का अधिग्रहण कर लिया गया। इसके बाद मनीष को क्लाइंट के तौर पर BladeLogic मिला। उन्होंने BladeLogic के भारत R&D का नेतृत्व किया, जिससे डेटा सेंटर में सर्वर मैनेजमेंट के लिए एक हाई स्केलेबल एंटरप्राइज प्लेटफॉर्म बनाने में मदद मिली। BladeLogic को एक सफल आईपीओ के बाद BMC Software द्वारा अधिग्रहित किया गया था, और मोनिश ने BMC के क्लाउड मैनेजमेंट विज़न में योगदान दिया।

Icertis की शुरूआत

Icertis के को-फाउंडर समीर बोदास Websym के को-फाउंडर के मित्र थे। 2014 में, Aztecsoft के सीईओ के रूप में, उन्होंने उनके ऑफिस का दौरा किया जहां मोनीश और समीर दोनों ने इसकी शुरूआत की थी।


उन्होंने आगे कहा, "मुझे अभी भी याद है, 2009 में BMC Software आईपीओ के बाद, हम दोनों अपने रिटायरमेंट को प्लान बना रहे थे। हालाँकि, हम दोनों को कुछ बड़ा बनाने में दिलचस्पी थी। हमने एक कंपनी बनाने का फैसला किया, पैसा बनाने के लिए नहीं बल्कि कुछ परिणामी बनाने के लिए।”


इस प्रकार, 2009 में, उन दोनों ने बिना किसी योजना को ध्यान में रखकर शुरुआत की। 2009-2015 के बीच, उन्होंने ऑर्गेनाइजेशन, हायरिंग, सही लोगों को प्राप्त करने और सेवाओं के साथ इसे बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित किया।


2013 में, Mindtree ने AztecSoft का अधिग्रहण किया और अधिग्रहण के बाद एक साल के ब्लॉकिंग-पीरियड की सेवा के बाद, 2014 में, उन्होंने अंततः कॉन्ट्रैक्ट मैनेजमेंट को आगे बढ़ाया और तब से पीछे मुड़कर नहीं देखा।


वह आगे कहते हैं, “हमने उस कैटेगरी को रिडिफाइन किया है। कॉन्ट्रैक्ट लाइफ साइकिल मैनेजमेंट के बारे में वास्तव में किसी ने नहीं सोचा था। साथ ही, हम दुनिया की एकमात्र ऐसी कंपनी हैं, जिसके 400 इंजीनियरों ने इस समस्या पर ध्यान केंद्रित किया है, जो हमें अपने ग्राहकों के लिए एक बेहतर भागीदार बनाता है।"

Icertis के को-फाउंडर्स: समीर बोदास और मनीष दर्डा

Icertis के को-फाउंडर्स: समीर बोदास और मनीष दर्डा

प्रॉब्लम-सॉल्विंग अप्रोच

मोनीश का मानना ​​है कि एक डेवलपर और एक इंजीनियर के बीच बहुत बड़ा अंतर होता है। एक इंजीनियर समस्याओं का समाधान करता है, जबकि एक सॉफ्टवेयर डेवलपर सॉफ्टवेयर डेवलप करता है। उनका कहना है कि दोनों महत्वपूर्ण हैं लेकिन एक इंजीनियर समस्या के बारे में सोच रहा है, न कि केवल तकनीक और विकास के पहलुओं के बारे में।


एक अत्याधुनिक उद्यम SaaS कंपनी के एक इंजीनियर और CTO के रूप में, मोनिश का ध्यान तकनीक के बजाय समस्या को हल करने पर है


उन्होंने आगे कहा, "मुझे लगता है कि यह तकनीक चुनने के बारे में नहीं है। यह पहले समस्या की पहचान करने और समस्या को हल करने के लिए तकनीक को फिट करने के बारे में है।”


किसी भी समस्या पर काम करते समय वह जिन मुख्य बातों का ध्यान रखते है, वे हैं:


  • उपलब्ध उपकरणों की जाँच करें जो पाँच साल पहले नहीं थे।
  • मापने योग्य व्यावसायिक परिणाम प्राप्त करने के लिए उस तकनीक का कुशलतापूर्वक उपयोग करने के लिए प्रयोग करना और एक नई प्लेबुक खोजना जारी रखें।
  • कभी-कभी, बड़ी समस्या को थोड़ा भूलने की कोशिश करें और उसके छोटे-छोटे हिस्सों पर ध्यान केंद्रित करें, उन्हें डिस्ट्रीब्यूट करें और इसे स्वयं हल करने के बजाय एक टीम अप्रोच अपनाएं।
  • लोगों से बात करें क्योंकि ऐसी बहुत कम समस्याएं हैं जिन्हें अन्य लोगों ने पहले नहीं देखा है या किसी ने पहले हल नहीं किया है, शायद एक अलग संदर्भ में।


वह आगे कहते हैं, "किसी से सलाह न लें। लेकिन उनके अनुभव सुनें और यही सही समाधान खोजने की कुंजी है।"


मोनीश ने अपनी यात्रा के दौरान कुछ प्रमुख सीखों पर भी प्रकाश डाला। उनका मानना ​​​​है कि आपको सभी से सीखने के लिए पर्याप्त विनम्र होना चाहिए और उनकी सीमाओं से अवगत होना चाहिए।


उन्होंने आगे कहा, "याद रखें, यह टेक्नोलॉजी नहीं है जो दुनिया को चलाती है, बल्कि टेक्नोलॉजी का ऐप्लीकेशन है। इसके अलावा, जो आप बना रहे हैं उसकी यात्रा में आनंद लेने का प्रयास करें और न की डेस्टीनेशन का। अन्यथा, आप एक व्यक्ति के रूप में विकसित नहीं हो सकते।”


Edited by Ranjana Tripathi