21 साल के युवा ने बनाई 'प्राइस कंपैरिजन' और क्रॉस बॉर्डर शिपिंग करने वाली दुनिया की पहली वेबसाइट

By yourstory हिन्दी
January 09, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:20:58 GMT+0000
 21 साल के युवा ने बनाई 'प्राइस कंपैरिजन' और क्रॉस बॉर्डर शिपिंग करने वाली दुनिया की पहली वेबसाइट
श्रीलंका के तकनीकी विशेषज्ञ रविदू मारियो वीराकून ने सफलतापूर्वक एक ऐसा एकीकृत प्लेटफॉर्म तैयार किया है जहां आप घर बैठे आसानी से स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय उत्पादों की कीमतों की तुलना तो कर ही सकते हैं साथ ही आप उन्हें कम कीमत पर अपने दरवाजे तक भी मंगवा सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close


रविदू मारियो



ऑलाइन खरीददारी आज के आधुनिक जीवन की एक बहुत बड़ी सच्चाई है। लेकिन कइ बार ऐसा भी होता है कि हम खुद को बंधा हुआ महसूस करते हैं। क्या हो अगर आपकी पसंद के किसी ई-टेलर के पास आपके स्थान तक उत्पाद को पहुंचाने की सुविधा ही न हो? या फिर कैसा लगे अगर आपकी पसंद का कोई उत्पाद किसी ई-टेलर के भारतीय स्टोर पर उपलब्ध न हो लेकिन उसे उनके वैश्विक स्टोर से खरीदा जा सकता हो? इसके अलावा अगर कोई उत्पाद सिर्फ अंतर्राष्ट्रीय शॉपिंग साईट पर ही उपलब्ध हो तो क्या नतीजा होगा?


एक खरीददार के रूप में यह बहुत सोच-समझकर फैसला करने वाली स्थिति साबित होगी क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग यानि विदेश से उत्पाद को आपके दरवाजे तक पहुंचाने का खर्च बहुत अधिक होता है जिसके चलते आपकी पसंद के उत्पाद की कीमत बहुत अधिक बढ़ जाने की पूरी संभावना होती है। ऐसी स्थिति में 'सर्फ2शिप' (Surf2Ship) जैसे मंचों का काम शुरू होता है।


'सर्फ2शिप' मूल्य की तुलना करने वाली वेबसाइट और सीमा पार लॉजिस्टिक्स प्रदाता का एक मिला-जुला स्वरूप है। यह मुख्यतः दो उत्पाद विचारों का एक संगम है और इनका दावा है कि यह ऐसा करने वाला पहला वैश्विक मंच है। 'सर्फ2शिप' पर उपभोक्ता न केवल 50 से भी अधिक अंतर्राष्ट्रीय ई-कॉमर्स साइटों पर उपलब्ध उत्पादों की कीमतों की तुलना कर सकते हैं बल्कि सफलतापूर्वक उन्हें अपने कार्ट में शामिल करने, खरीददारी की प्रक्रिया को पूर्ण करने और एक एकीकृत मंच के जरिये अपनी पसंद के उत्पादों को अपने घर के दरवाजे तक मंगवा सकते हैं। और इस सबके साथ 'सर्फ2शिप' का दावा है कि यह सब बेहद 'कम लागत वाली शिपिंग' के साथ होता है।


21 वर्षीय युवा और उनका बड़ा विचार

इस श्रीलंकाई स्टार्टअप की स्थापना कनेक्ट लंका ई-कॉमर्स सर्विसेज के साथ प्रोडक्ट इनोवेशन मैनेजर के रूप में भी काम करने वाले 21 वर्षीय युवा उद्यमी 21 रविदू मारियो वीराकून ने की।


सर्फ2शिप


कनेक्ट लंका डार्ट ग्लोबल ग्रुप की एक सहायक कंपनी है, जो पिछले 40 वर्षों से सीमा पार शिपिंग और लॉजिस्टिक्स समाधान प्रदाता के रूप में काम कर रही है। वह डार्ट ग्लोबल का विशाल लॉजिस्टिक नेटवर्क ही है, जिसकी सहायता से 'सर्फ2शिप' ने दुनिया भर में अपनी डिलीवरी को पूरा करने का लाभ उठाने की योजना बनाई है। इसके अलावा कोलंबो में मुख्यालय वाले इस स्टार्टअप ने डार्ट ग्लोबल से भी सीड कैपिटल (अघोषित) पाने में सफलता पाई है।


लेकिन सिर्फ 21 वर्षीय युवा तकनीकी विशेषज्ञ के जीवन में 'सर्फ2शिप' आया कैसे?


संस्थापक मारियो योरस्टोरी को बताते हैं, 'यह तब शुरू हुआ जब मुझे 18 साल की उम्र में संबद्ध मार्केटिंग से परिचित कराया गया। उस समय मैंने महसूस किया कि विभिन्न सफल अवधारणाएं उमल में थीं और मूल्य तुलना भी उनमें से एक थी। लेकिन, श्रीलंका में, एक भी ऐसी वेबसाइट नहीं थी जो स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय विक्रेताओं के उत्पादों की श्रृंखला के लिए मूल्य की तुलना करने की आजादी देती हो। इसके अलावा क्रॉस-बॉर्डर शिपिंग प्रदान करने में कुछ ईकॉमर्स वेबसाइटों की अक्षमता के चलते अंतर्राष्ट्रीय शिपिंग भी एक बड़ी समस्या थी। इसलिए, 'सर्फ2शिप' के विचार का जन्म हुआ।'



सर्फ2शिप


संस्थापक का दावा है कि 'सर्फ2शिप' वैश्विक स्तर पर 'अपनी तरह की पहली' परिकल्पना है। 'आज की तारीख तक' कोई भी अन्य मंच मूल्यों में तुलना और क्रॉस-बॉर्डर शिपिंग की सुविधा एकसाथ उपलब्ध नहीं करवा रहा है हालांकि वे इन दोनों सेवाओं को अलग-अलग दे सकते हैं।


मारियो कहते हैं, 'मूल्य तुलना (उदाहरण के लिए, गूगल की खरीदारी तुलना वेबसाइट) और क्रॉस-बॉर्डर शिपिंग (जैसे ऐरामैक्स शॉप और शिप) दोनों ही साबित किये हुए सफल मॉडल हैं। हालांकि, उपभोक्ताओं और विक्रेताओं दोनों को लाभ पहुंचाने के लिए इन दोनों अवधारणाओं का मिलन कहीं किसी और मंच पर उपलब्ध नहीं है।'


इसके अलावा 'सर्फ2शिप' ने ग्राहकों के लिए खरीदारी की प्रक्रिया को और अधिक सरल बनाने के लिये अपना एक एल्गोरिथ्म भी विकसित किया है ताकि प्रत्येक वैश्विक बाजार में मुद्रा के उतार-चढ़ाव के अनुसार शिपिंग कीमतों को समायोजित किया जा सके।


स्टार्टअप का अबतक का सफर

जुलाई 2018 में परिचालन शुरू करने वाली 'सर्फ2शिप' ने 60 अंतर्राष्ट्रीय विक्रेताओं के साथ भागीदारी की है, जिसमें अमेजॅन, बेस्टबाय, ईबे, मैकीज़ सहित कई स्थानीय श्रीलंकाई शॉपिंग साइटें भी शामिल हैं, और यह 20 से भी अधिक श्रेणियों में 6,000 से अधिक उत्पाद पेश करता है। यह साईट जुलाई से लेकर अबतक 30,000 से अधिक विजिटर्स भी रिकाॅर्ड कर चुका है। मारियो बताते हैं, 'हमारा लक्ष्य आने वाले दो सालों के भीतर इस संख्या को बढ़ाकर 100,000 प्रतिमाह तक पहुंचाने का है।'


'सर्फ2शिप' का प्राथमिक लक्ष्य अंतर्राष्ट्रीय और स्थानीय दोनों उत्पादों की स्वतंत्र और निष्पक्ष तुलना करते हुए ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ सौदा प्रदान करना है। यह श्रीलंकाई उद्यमियों से विश्व स्तर पर बिक्री शुरू करने के लिये भी प्रेरित कर रहा है, और इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए विभिन्न साधनों के एक सेट पर भी काम कर रहा है। भले ही श्रीलंका में इंटरनेट का प्रयोग करने वालों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है लेकिन मारियो का कहना है, 'श्रीलंका का ईकॉमर्स लॉजिस्टिक्स मार्केट अमेरिका, भारत और चीन की तुलना में अभी उतना परिपक्व नहीं है।'


वे आगे कहते हैं, 'हमें न के बराबर प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है। हालांकि कई ऐसी कंपनियां (सिंपलेक्स डिलीवरी जैसी) हैं जिन्होंने ई-कॉमर्स लॉजिस्टिक्स को बेहतर बनाने की दिशा में शानदार काम किया है, फिर भी बहुत कुछ और किया जाना बाकी है।'


व्यापार का माॅडल

'सर्फ2शिप' प्रति उत्पाद के आधार पर एक सहबद्ध शुल्क वसूलती है जो ई-कॉमर्स विक्रेता के साथ पारस्परिक सहमति के आधार पर तय की जाती है। इसके अलावा, यह अपने साझेदार डार्ट ग्लोबल लॉजिस्टिक्स द्वारा पूरी की गई क्रॉस-बॉर्डर शिपिंग के जरिये भी राजस्व कमाता है।


मारियो कहते हैं, 'हमें एक उपयुक्त (शिपिंग) साथी को तलाशना था, जिसकी कीमत की तुलना अवधारणा पर परस्पर विरोधी राय न हो। और हमारी तलाश डार्ट ग्लोबल लॉजिस्टिक्स पर जाकर पूरी हुई और परिचालन शुरू हो गया।'


टीम और बाजार में विस्तार

वर्तमान में इस स्टार्टअप में चार सदस्य शामिल हैं लेकिन मारियो भविष्य में ऐसे अन्य उत्साही युवाओं को अपने साथ जोड़ने का इरादा रखते हैं जो 'दुनिया से अलग सोच' रखते हों। फिलहाल इनका संचालन 6.7 मिलियन इंटरनेट उपयोगकर्ताओं वाले देश श्रीलंका तक ही सीमित है लेकिन इनका इरादा जल्द ही ई-काॅमर्स के बड़े केंद्र भारत में विस्तार करते हुए अपने पांव जमाने का है।


मारियो बताते हैं, 'हमें इस बात का पूरा भरोसा है कि ई-कॉमर्स के क्षेत्र में सर्फ2शॉप के पास काफी क्षमताएं हैं। हमारी योजना अन्य देशों में भी विस्तार करने की है लेकिन उसके लिये हमें अधिक पूंजी की आवश्यकता होगी। एक बार पूरी तरह से तैयार होने के बाद हम रणनीतिक साझेदारी के जरिये संचालन का विस्तार करने को तत्पर हैं। और हमें इस बात की पूरी उम्मीद है कि हम बहुत ही जल्द भारतीय बाजार में दस्तक देने में कामयाब रहेंगे।'


यह भी पढ़ें: 25 साल का युवा शहद निकालने वाले आदिवासियों को बना रहा आत्मनिर्भर

    Clap Icon0 Shares
    • +0
      Clap Icon
    Share on
    close
    Clap Icon0 Shares
    • +0
      Clap Icon
    Share on
    close
    Share on
    close