किराए पर कार देने वाली यह कंपनी लेकर आ रही है IPO

By Rajat Pandey
October 13, 2022, Updated on : Thu Oct 13 2022 16:18:26 GMT+0000
किराए पर कार देने वाली यह कंपनी लेकर आ रही है IPO
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कार शेयरिंग प्‍लेटफॉर्म कंपनी Zoomcar शेयर बाजार में एंट्री करने और अपने Initial Public Offerings (IPO) लाने के लिए पूरी तरह से तैयार है. सूत्रों का मानना है कि कंपनी ने इसके लिए Blank-Check Firm Innovative International Acquisition Corporation के साथ मर्जर के समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. हालांकि Zoomcar ने इस संबंध में फिलहाल कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की है.


Zoomcar एक कार शेयरिंग प्लेटफॉर्म है जहां लोग अपनी कार अन्य लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं, जिसके कार मालिक को पैसे भी मिलते हैं. लोग कार की जरूरत के अनुसार Zoomcar के जरिए कार रेंट पर ले सकते हैं और इसके लिए उन्हें घंटे, दिन या महीने के हिसाब से किराया देना पड़ता है. कंपनी का हेडक्वार्टर बेंगलूरू में है. कंपनी का भारत के साथ-साथ इंडोनेशिया, वियतनाम और इजिप्त के 50 से ज्यादा शहरों में कारोबार है.


सूत्रों के अनुसार इस मर्जर के साथ ही जूम कार और इनोवेटिव इंटरनेशनल की बिजनेस वैल्यू लगभग 45.6 करोड़ डॉलर हो गई है. इस मुद्दे पर Zoomcar और इनोवेटिव इंटरनेशनल के अधिकारियों की ओर से कोई भी अधिकारिक बयान अभी तक जारी नहीं किया गया है.


Zoomcar प्लेटफॉर्म पर 30 लाख से अधिक एक्टिव यूजर्स हैं और 25 हजार से ज्यादा कार उपलब्ध हैं. इस प्लेटफॉर्म की सबसे अनोखी बात है कि कंपनी के पास खुद की एक भी कार नहीं है. सभी गाड़ियां यूजर्स की हैं. कंपनी सिर्फ एक प्लेटफार्म प्रोवाइड करती है और इसी सर्विस का पैसा चार्ज करती है. Zoomcar के प्लेटफार्म का इस्तेमाल करने के लिए कंपनी हर ट्राजेक्‍शन पर 40 परसेंट चार्ज करती है.


Zoomcar की शुरुआत वर्ष 2013 में Greg Moran और David Back ने की थी. हालांकि बाद में डेविड बैक ने कंपनी छोड़ दी थी. ग्रेग मोरेन अभी भी कंपनी के सीईओ के तौर पर काम कर रहे हैं. 2013 में Zoomcar ने अपनी आधिकारिक शुरुआत Just ShareIt प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हुए 2.15 लाख डॉलर की पूंजी और सात कारों की फ्लीट से की थी.\

डाटा प्रोवाइडर PitchBook के अनुसार, पिछले नवंबर में SternAegis Ventures की अध्यक्षता में ई-सीरीज फंडिंग में Zoomcar ने 9.2 करोड़ डॉलर जुटाए थे, जिससे बाद कंपनी की कुल फंडिंग 33.2 करोड़ डॉलर हो गई.


वहीं इससे पहले इनोवेटिव इंटरनेशनल ने पिछले साल अपने आईपीओ से 23 करोड़ डॉलर की रकम जुटाई थी. चेयरमैन और सीईओ Mohan Ananda की कंपनी Innovative International के साथ Zoomcar के मर्जर के बाद कंपनी का नाम Zoomcar Holdings Inc. होगा.