दिल्ली में प्रदूषण को रोकने के लिए उबर इंडिया ने लॉन्च किया BikeShare ऐप

  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close

ऑड-ईवन स्कीम शुरू करके प्रदूषण पर लगाम लगाने के दिल्ली सरकार के प्रयास के बीच, राइडशेयरिंग कंपनी उबर ने अपनी बाइक-शेयरिंग सेवा, उबर बाइकशेयर (BikeShare) को राजधानी शहर में शुरू कर दिया है। काफी दिनों से कयास लगाए जा रहे थे कि उबर जल्द ही देश की राजधानी में बाइक-राइडिंग सर्विसेस को लॉन्च कर सकती है।


हालांकि कंपनी को अभी बाइक टैक्सी चलाने के लिए दिल्ली सरकार की अनुमति का इंतजार है लेकिन इससे पहले उसने शहर में बाइकशेयर लॉन्च कर किया है। इसके जरिए भी यूजर्स को उसी दिशा में जाने वाले दूसरे बाइक-सवार के साथ सवारी करने की सुविधा मिलेगी।


UberPool के विपरीत, जहां एक ड्राइवर चार राइडर्स तक को पिक कर सकता है, BikeShare नियमित रूप से उन बाइक के साथ काम करता है जो पहले से ही सड़क पर चल रही हैं। कंपनी ने अपनी #LeaveYourCarBehind पहल के एक हिस्से के रूप में राष्ट्रीय राजधानी में एंट्री कन्फर्म की है। हालांकि यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है कि यूजर्स किस तरह से राइडर्स बनने के लिए साइन अप कर सकते हैं।


उबर इंडिया के एक ट्वीट में, कंपनी प्रमुख ने कहा,

"आप दिल्ली की हवा के लिए अपना थोड़ा सा योगदान देना चाहते हैं? #LeaveYourCarBehind और उबर बाइक से कॉलेज जाएं।"





उबर ने यात्रियों को घर से मेट्रो स्टेशन तक आने-जाने के उद्देश्य से इस सर्विस को लॉन्च किया है। कंपनी इस सर्विस के तहत प्रत्येक राइड के लिए पांच रुपये वसूलेगी। दरअसल उबर ऐप के इस नए फीचर को देखने पर पता चलता है कि BikeShare का बेस फेयर 9 रुपये है और कंपनी 2.5 प्रति रुपये प्रति किलोमीटर के हिसाब से चार्ज कर रही है। इसके अलावा, निकटतम मेट्रो स्टेशन पर किसी भी राइड की लागत केवल 5 रुपये होगी। जो काफी सस्ती है। बाइक-शेयरिंग सर्विस से शेयर्ड मोबिलिटी को बढ़ावा मिलेगा।


हाल ही में, उबर ने घोषणा की कि दिल्ली-एनसीआर के यात्री दिल्ली मेट्रो और बसों को भी उबर ऐप पर देख पाएंगे, इसके लिए इस दिग्गज कंपनी ने अपनी सेवाओं पर 210 DMRC मेट्रो स्टेशनों की जानकारी को जोड़ने के लिए दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) के साथ भागीदारी की है।


k


DMRC ने 'मॉडल मेट्रो स्टेशन' के अपने साझा विजन के बारे में भी खुलासा किया। DMRC ने बताया कि कैसे मोबिलिटी के भविष्य के लिए सार्वजनिक परिवहन को Uber के मल्टी-मोडल विजन के साथ जोड़ा जा सकता है। UberGo, Pool, Moto, Auto, और Uber के Wheelchair Accessible Vehicles (WAV) जैसी सेवाएं Uber के प्लेटफॉर्म की विविधता को दर्शाती हैं।


गौरतलब है कि उबर ने ऑड-ईवन स्कीम के दौरान दिल्ली सरकार को पांच हजार बाइक-टैक्सी चलाने का प्रस्ताव रखा था। लेकिन दिल्ली सरकार ने इसकी अनुमति नहीं दी थी। उबर का तर्क था कि योजना के दौरान लोगों को आने जाने में दिक्कत न हो, इससे निपटने के लिए यह प्रस्ताव दिया था। हालांकि मौजूदा नियमों के मुताबिक दिल्ली में बाइक-टैक्सी चलाने की अनुमति नहीं है। वहीं दिल्ली सरकार ने उबर के इस प्रस्ताव पर कोई फैसला नहीं लिया। उबर गुरुग्राम और नोएडा में UberMoto चलाती है।


एक ब्लॉग पोस्ट में, उबर ने कहा कि तीसरी बार, नई दिल्ली सरकार ने राजधानी शहर में वायु प्रदूषण पर नजर रखने के लिए एक 'विषम-सम' योजना लागू की है। स्थिति में मदद करने के लिए, 4 नवंबर को, उबर ने अपना #LeaveYourCarBehind अभियान शुरू किया, जिससे नागरिकों को दिल्ली की हवा की गुणवत्ता में सुधार करने, मोबिलिटी ऐसेट्स साझा करने और वन-पर्सन-पर-कार-रुटीन के बजाय राइडशेयरिंग और कारपूलिंग जैसे विकल्पों को चुनने के लिए प्रोत्साहित किया।


कंपनी ने अपने ब्लॉग पोस्ट में लिखा,

"#LeaveYourCarBehind अभियान को पहले ही URJA (रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन का सर्वोच्च निकाय), दिल्ली क्लीन एयर फ़ोरम, और लंग केयर फ़ाउंडेशन जैसी प्रतिष्ठित संस्थाओं का समर्थन मिल चुका है, जिन्होंने सभी उपलब्ध मोबिलिटी ऐसेट्स के उपयोग को अधिकतम करने की आवश्यकता पर बल दिया है।"




  • +0
Share on
close
  • +0
Share on
close
Share on
close
Report an issue
Authors

Related Tags

Our Partner Events

Hustle across India