कैसे रियल एस्टेट इंडस्ट्री की तस्वीर बदल रहा है मेटावर्स?

By रविकांत पारीक
December 04, 2022, Updated on : Mon Dec 05 2022 05:11:42 GMT+0000
कैसे रियल एस्टेट इंडस्ट्री की तस्वीर बदल रहा है मेटावर्स?
भारत में रियल एस्टेट डेवलपर्स का मानना है कि यह कॉन्सेप्ट अभी शुरुआती अवस्था में है, हालांकि यह ब्लॉकचेन और वर्चुअल रियलिटी से अच्छी तरह वाकिफ लोगों के बीच तेजी से पकड़ बना रही है. आइए जानते हैं रियल एस्टेट इंडस्ट्री पर मेटावर्स का असर...
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मेटावर्स — एक तरह की वर्चुअल दुनिया है, जहां आप वर्चुअली एंट्री करते हैं लेकिन आपको ऐसा अहसास होता है जैसे कि आप फिजिकली उस जगह पर मौजूद हैं. इसे आसान भाषा में समझें तो मेटावर्स एक आभासी दुनिया है जहां आपकी एक अलग पहचान होती है. इस वर्चुअल दुनिया में आप घूमने फिरने के अलावा दोस्तों के साथ पार्टी भी कर सकते हैं. इतना ही नहीं, अब यहां आप प्रोपर्टी भी खरीद-बेच सकते हैं.


पिछले कुछ वर्षों में, रियल एस्टेट इंडस्ट्री में बड़े तकनीकी बदलाव आए हैं. तकनीक की बदौलत यह इंडस्ट्री बेहद तेजी से फलफूल रही है. अब जबकि जमाना वर्चुअल टेक्नोलॉजी का है, तो भला रियल एस्टेट इंडस्ट्री कैसे पीछे रह सकती है. अब यहां भी प्रोपर्टी खरीदी और बेची जाने लगी है. यह मेटावर्स के कारण ही संभव हो पाया है. मेटावर्स इस इंडस्ट्री में क्रांति लेकर आया है. दुनिया भर में मेटावर्स की लोकप्रियता बढ़ी है और मेटावर्स ने रियल एस्टेट इंडस्ट्री में चार चांद लगा दिए हैं!

metaverse in real estate industry

freepik

मेटावर्स में रियल एस्टेट एक वर्चुअल इकोसिस्टम है, जो वास्तविक दुनिया की कॉपी है. यह एक डिजिटल स्पेस बनाने के लिए ऑगमेंटेड रियलिटी (AR), वर्चुअल रियलिटी (VR) और वीडियो जैसी टेक्नोलॉजी को जोड़ती है जहां यूजर वास्तविक दुनिया की तरह ही बातचीत, खेल और संवाद कर सकते हैं. मेटावर्स में ज़मीन का हर एक टूकड़ा अद्वितीय और गैर-प्रतिकृति (non-replicable) है. ये एसेट्स डिजिटल क्रिएशंस और प्रोग्रामेबल हैं. यह यूजर्स को मिलने, सोशलाइज करने, डेवलप करने, खेलने, मीटिंग करने और ट्रांजेक्शन करने की अनुमति देती हैं जैसा कि वे वास्तविक दुनिया में करते हैं.


MetaMetrics Solutions, जोकि एक रिसर्च और कंसल्टिंग फर्म है, ने 2021 में मेटावर्स रियल एस्टेट के बाजार पूंजीकरण को 500 मिलियन डॉलर आंका. इसके अलावा, 2021-26 के बीच इस कैटेगरी के 61.74% CAGR (compound annual growth rate) से बढ़ने की उम्मीद जताई है. मेटावर्स प्लेटफॉर्म पर वर्चुअल लैंड की बिक्री के संदर्भ में, टॉप 10 प्लेयर पहले ही डिजिटली कनेक्टेड यूनिवर्स पर 1.9 बिलियन डॉलर वैल्यू की प्रोपर्टी बेच चुके हैं. 2026 के अंत तक इसके 5.4 बिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है. इससे पता चलता है कि सभी बड़े स्टेकहोल्डर इस कैटेगरी में गहरी रुचि दिखा रहे हैं. ऐसे में जगजाहिर है कि वर्चुअल रियल्टी कैटेगरी फलफूल रही है और विकास की संभावना बहुत अधिक प्रतीत होती है.


भारत में रियल एस्टेट डेवलपर्स का मानना है कि यह कॉन्सेप्ट अभी शुरुआती अवस्था में है, हालांकि यह ब्लॉकचेन और वर्चुअल रियलिटी से अच्छी तरह वाकिफ लोगों के बीच तेजी से पकड़ बना रही है.


जैसा कि मेटावर्स में हर एक रियल एस्टेट एक्विजिशन (अधिग्रहण) को वास्तविक दुनिया की हुबहू कॉपी जितना ही अनुठा बनाया जा सकता है. एक बार जब मेटावर्स पर रियल एस्टेट लोकप्रिय हो जाती है, तो इसके मालिक विज्ञापन की जगह देकर इसे मुद्रीकृत (मॉनेटाइज) कर सकते हैं, या अपनी वर्चुअल एसेट्स को ऑनलाइन भी बेच सकते हैं.

metaverse in real estate industry

freepik

कैसे रियल एस्टेट इंडस्ट्री की तस्वीर बदल रहा है मेटावर्स?

अब जैसा कि यह सेक्टर अभी डेवलपिंग स्टेज में है, ऐसे में निवेशकों को अधिकतम रिटर्न और मुनाफा हासिल करने के लिए निवेश करने से पहले सभी जोखिमों का सावधानीपूर्वक मूल्यांकन कर लेना चाहिए. निवेशकों को यह भी पता होना चाहिए कि इस डिजिटल वर्ल्ड में, वे भौतिक रूप से जगह नहीं खरीद रहे हैं और यदि मेटा प्लेटफॉर्म ऑफ़लाइन हो जाता है या वे इसे एक्सेस नहीं कर पाते हैं, तो उनके स्वामित्व वाली संपत्तियां (एसेट्स) अस्तित्वहीन हो सकती हैं.


अब ज़रा यहां जानते हैं कि कैसे मेटावर्स रियल एस्टेट इंडस्ट्री की तस्वीर बदल रहा है:


घर ढूंढने की परेशानी से निजात

मेटावर्स ने रियल एस्टेट इंडस्ट्री की कायापलट दी है. इसने घर ढूंढते वक्त होने वाली परेशानी से निजात दिलाई है. अब इधर-उधर गाड़ी दौड़ाने की जरूरत नहीं है. ऐसे घरों को देखने में बहुत समय बर्बाद होता है, जो हमें पसंद नहीं आते हैं. इसने घर का रिव्यू करने को भी आसान बनाया है. यह मेटावर्स में संभव है, क्योंकि आप अपने घर की खासियत का पता लगा सकते हैं और खरीदारी का निर्णय ले सकते हैं. वर्चुअल टूर फोटो या फ्लोर प्लान देखने की तुलना में गहरा भावनात्मक संबंध बनाने में मदद कर सकता है. यह किसी खास प्रोपर्टी के फायदे और नुकसान की गहरी समझ हासिल करने में भी आपकी मदद कर सकता है.


समय की बचत

संभावित खरीदारों से मिलना, उन्हें घर दिखाना, और अंत तक ग्राहकों के साथ रहने में समय लगता है और इसके लिए बहुत अधिक प्रयास की आवश्यकता होती है. वर्चुअल टूर के साथ, ग्राहक अपने स्मार्टफोन या लैपटॉप पर प्रोपर्टी देख सकते हैं. जो वाकई में प्रोपर्टी में रुचि रखते हैं वे कॉल करेंगे और अधिक जानकारी मांगेंगे. यदि आप रियल एस्टेट एजेंट या बिजनेसमैन हैं, तो यह आपका वक्त बचाने में मददगार है, क्योंकि आप अपने बिजनेस के अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होंगे.


ग्राहकों की जरूरत को बेहतर तरीके से समझ सकते हैं रियल एस्टेट एजेंट

AR-मोबाइल एप्लिकेशन ग्राहकों की जरूरत को बेहतर तरीके से समझने में मददगार साबित हो सकते हैं. केवल कुछ टैप (क्लिक) के साथ, ग्राहक किसी खास अपार्टमेंट, घर या अपनी पसंद की प्रोपर्टी का 360-डिग्री AR मॉडल देख सकते हैं. वे अलग-अलग प्रोप्रटीज को ब्राउज़ कर सकते हैं, उनकी तुलना और विश्लेषण कर सकते हैं. वहीं, रियल एस्टेट एजेंट आसानी से प्रोपर्टी की हर एक डिटेल को बारीकी से समझा सकते हैं.

metaverse in real estate industry

freepik

मेटावर्स की बदौलत बिक्री में इजाफा

कई सालों से, घरों को बेचने के लिए होम स्टेजिंग (घर बेचने के लिए किसी प्लेटफॉर्म पर एड लगाना) सबसे प्रभावी मार्केटिंग टूल रहा है. वास्तव में, रिसर्च से पता चलता है कि स्टेज्ड होम नॉन-स्टेज्ड होम्स की तुलना में लगभग 20% अधिक और 88% तेजी से बिकते हैं. हालाँकि, यह कोई नया कॉन्सेप्ट नहीं है. वर्चुअल स्टेजिंग समान परिणाम प्राप्त करने का एक नया, तेज और अधिक लागत प्रभावी तरीका है. यह ग्राहकों को यथार्थवादी अनुभव प्रदान करता है, जो तेजी से उस प्रोपर्टी का मालिक होने की भावना पैदा करने में मदद कर सकता है. घर देखने वाले ग्राहक आसानी से उस प्रोपर्टी में रहने की कल्पना कर सकते हैं. Matterport की स्टडी से पता चला है कि 90% से अधिक संभावित घर खरीदारों के प्रोपर्टी खरीदने की संभावना अधिक होती है, अगर लिस्टिंग के समय एक इमर्सिव थ्री-डायमेंशनल (3D) टूर जोड़ा गया है.


घर खरीदने वालों को मिलते हैं अनलिमिटेड डिजाइन ऑप्शन

भौतिक रूप से एक प्रोपर्टी की स्टेजिंग करने के लिए कई लॉजिस्टिक चुनौतियों पर काबू पाने की जरूरत होती है. उदाहरण के लिए, सीढ़ियों या छोटे हॉलवे के कई सेट वाले घर में फर्नीचर के बड़े टुकड़े लाना एक बड़ा काम हो सकता है जो केवल पेशेवर ही कर सकते हैं.


ऐसे में खरीदार के सामने लिमिटेड डिज़ाइन ऑप्शन होते हैं. वहीं, वर्चुअल स्टेजिंग में, घर खरीदार फर्नीचर या सजावट का चयन कर सकते हैं जो उस जगह के लिए सबसे उपयुक्त है और आसानी से अपनी पसंद के अनुसार लेआउट को जोड़ सकते हैं. उसे कस्टमाइज कर सकते हैं. चूंकि वर्चुअल स्टेजिंग सेवाएं सजावट और फर्नीचर के डिजिटल रेंडरिंग का उपयोग करती हैं, इसलिए प्रत्येक कमरे के लिए कई ऑप्शन हैं. एजेंट प्रत्येक संभावित खरीदार के लिए एक अलग स्टेजिंग डिज़ाइन का चयन भी कर सकते हैं, जिससे अनुभव को और भी अधिक पर्सनलाइज्ड बनाने में मदद मिलती है.


ब्रांड एक्सपोजर

रियल एस्टेट एजेंसियां जो अपनी मार्केटिंग कैंपेन में हाई-क्वालिटी वाला VR कंटेंट शामिल करती हैं, वे ज्यादा लीड जनरेट कर सकती हैं. वे ग्राहक जुड़ाव बढ़ा सकती हैं और अपनी वेबसाइट्स और सोशल चैनलों पर अधिक ट्रैफ़िक ला सकती हैं. Realtor की एक स्टडी से पता चला है कि वर्चुअल टूर की सुविधा देने वाली रियल एस्टेट लिस्टिंग केवल फोटो दिखाने वालों की तुलना में 40% अधिक क्लिक प्राप्त करती है. चूंकि वीआर टूर की पेशकश अभी भी एक उभरती हुई तकनीक है, यह एक रियल एस्टेट कंपनी के लिए एक मजबूत अंतर होगा. आकर्षक वीआर कंटेंट के सोशल मीडिया पर वायरल होने की संभावना है, जो ब्रांड जागरूकता को बढ़ावा देने और सर्च इंजन रैंकिंग में सुधार करने में मदद कर सकती है.

metaverse in real estate industry

freepik

पिक्चर अभी बाकी है...

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी मैक्रो-लेवल पर बड़ी धूम मचा रही है. इसी तरह, मेटावर्स में रियल एस्टेट आने वाले वर्षों में एक ग़ज़ब की तरक्की लाएगा और सभी सेक्टर्स के निवेशकों ने इसे स्वीकार करना शुरू कर दिया है. मेटावर्स में व्यावसायीकरण की दिशा में प्रगति करने वाले पहले खिलाड़ी अद्वितीय व्यावसायिक अवसरों की खोज करने और भविष्य में इसकी क्षमता का दोहन करने में सक्षम हो सकते हैं.


रियल एस्टेट मेटावर्स अगली बड़ी चीज बनने की राह पर है. यह अपेक्षाकृत एक नया चलन है, एक नई दुनिया है लेकिन आने वाले समय में यह निवेशकों के लिए असंख्य अवसरों को खोलेगा जो रोमांचक और फायदेमंद दोनों होंगे.


मेटावर्स रियल एस्टेट इंडस्ट्री को उसकी लागत, सुविधा और समय बचाने वाले लाभों के लिए बदल रहा है. इस डिस्रप्टिव टेक्नोलॉजी को अपनाने वाली रियल एस्टेट कंपनियों ने पहले ही अपने ROI (Return on Investment) में तेजी देखना शुरू कर दिया है. तो, पुराने ज़माने की रियल एस्टेट मार्केटिंग प्रक्रियाओं से क्यों चिपके रहें, जिसके परिणामस्वरूप ग्राहकों को खोना पड़ता है?


तो अब आप भी मेटावर्स का लाभ उठाकर अपनी रियल एस्टेट कंपनी में क्रांति ला सकते हैं. आप भी इस इंडस्ट्री में बड़ा नाम बन सकते हैं.

यह भी पढ़ें
30 लाख करोड़ खर्च हो चुके हैं, लेकिन कहाँ तक पहुँचा मेटावर्स?