Cancer पैदा करने वाला खतरनाक कैमिकल मिला, यूनीलीवर से वापस मंगाए इन ब्रांड्स के ड्राई शैंपू

By Anuj Maurya
October 25, 2022, Updated on : Tue Oct 25 2022 09:08:37 GMT+0000
Cancer पैदा करने वाला खतरनाक कैमिकल मिला, यूनीलीवर से वापस मंगाए इन ब्रांड्स के ड्राई शैंपू
जांच से पता चला है कि इन ड्राई शैंपू में बैंजीन नाम का एक कैमिकल है, जिससे कैंसर हो सकता है. पहले भी जॉनसन एंड जॉनसन की तरफ से इसी कैमिकल के होने की वजह से कुछ प्रोडक्ट वापस मंगाए गए थे.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

यूनीलीवर ने पॉपुलर ब्रांड्स के ड्राई शैंपू को बाजार से वापस मंगाने का फैसला किया है. इसमें Dove जैसा ब्रांड भी शामिल है. ब्लूमबर्ग के अनुसार यूनीलीवर ने यह फैसला इसलिए किया, क्योंकि कंपनी को पता चला है इसमें बैंजीन (Benzene) नाम का एक कैमिकल है, जो कैंसर पैदा करने की वजह साबित हो सकता है. जिन ब्रांड्स से ड्राई शैंपू वापस मंगाए गए हैं, उनमें Nexxus, Suave, Tresemmé और Tigi जैसे ब्रांड भी शामिल हैं. यह जानकारी Food and Drug Administration (एफडीए) की वेबसाइट पर शुक्रवार को जारी नोटिस से मिली है.


यूनीलीवर ने उन प्रोडक्ट्स को बाजार से वापस मंगाया है जो अक्टूबर 2021 से पहले बनाए गए हैं. इस कदम से एक बार फिर एरोसोल पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स पर सवाल उठने लगे हैं. पिछले कुछ सालों में कई एरोसोल सनस्क्रीन को भी बाजार से वापस मंगाया गया, जैसे Johnson & Johnson का Neutrogena, Edgewell Personal Care Co. का Banana Boat और Beiersdorf AG का Coppertone. Procter & Gamble Co. के Secret and Old Spice और Unilever के Suave को भी वापस मंगाया गया है. तब भी इन्हें इसीलिए वापस मंगाया गया था, क्योंकि उनमें बैंजीन कैमिकल पाया गया था. इसकी पुष्टि Connecticut की एक एनालिटिकल लैब Valisure ने मई 2021 में की थी.


यह पहला स्प्रे वाला ड्राई शैंपू नहीं है, जिसमें दिक्कत देखने को मिली है. P&G ने अपने एरोसोल के पूरे पोर्टफोलियो की टेस्टिंग की थी, जिसके बाद कंपनी ने दिसंबर में पैंटीन और हर्बल एसेंस ड्राई शैंपू वापस मंगाए थे. कंपनी ने पाया था कि उसमें बैंजीन कैमिकल है. Valisure के सीईओ डेविड लाइट बताते हैं कि एरोसोल वाले अन्य कैटेगरी के प्रोडक्ट्स की भी जांच की जा रही है.


यूनीलीवर ने कहा है कि प्रोडक्ट में बैंजीन को जो मात्रा पाई गई है, वह कंपनी की तरफ से नहीं डाली गई है. यह दिक्कत उस प्रॉपेलेंट की वजह से हो सकती है, जिसकी मदद से पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स को स्प्रे किया जा रहा है. यही वजह है कि सतर्कता बरतते हुए कंपनी ने इन प्रोडक्ट्स को बाजार से वापस मंगा लिया है. एफडीए ने कहा है कि जिन प्रोडक्ट को वापस मंगाया गया है, उनमें बैंजीन की जितनी मात्रा है, उससे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकते हैं. इतना ही नहीं, बैंजीन की वजह से ल्यूकेमिया और अन्य तरह के ब्लड कैंसर का भी खतरा रहता है.


स्प्रे किए जाने वाले ड्राई शैंपू जैसे पर्सनल केयर प्रोडक्ट्स में प्रोपेन और ब्यूटेन जैसे प्रॉपेलेंट्स होते हैं. यह कच्चे तेल की रिफाइनिंग के दौरान बनने वाले प्रोडक्ट होते हैं. एफडीए ने कहा है कि प्रोपेलेंट्स की वजह से काफी हद तक बैंजीन का संक्रमण होता है. हालांकि, एफडीए ने बैंजीन के इस्तेमाल को लेकर कोई सीमा तय नहीं की है, लेकिन यह कहता है कि किसी भी प्रोडक्ट में कोई जहरीला पदार्थ नहीं होना चाहिए.

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close