University Living ने लॉन्च किया ‘Study Abroad Buddy’ प्लेटफॉर्म, जानिए क्या हैं इसके मायने...

AI पावर्ड स्टडी अब्रॉड प्लेटफॉर्म को विदेश में शिक्षा हासिल करने के स्टूडेंट्स के सफर में हर कदम में उनकी सहायता के लिए डिजाइन किया गया है.

University Living ने लॉन्च किया ‘Study Abroad Buddy’ प्लेटफॉर्म, जानिए क्या हैं इसके मायने...

Friday October 13, 2023,

4 min Read

उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाना अपनी तरह का अनूठा अनुभव हो सकता है, लेकिन यह कभी-कभी स्‍टूडेंट्स के लिए परेशानी भरा हो सकता है क्योंकि इसका हर पहलू नया और अनजाना है. स्‍टूडेंट्स की इसी परेशानी को पहचान कर ग्लोबल स्टूडेंट हाउसिंग प्लेटफॉर्म University Living ने एक प्लेटफॉर्म 'Study Abroad Buddy' लॉन्च किया है. यह प्लेटफॉर्म स्‍टूडेंट्स के विदेश में पढ़ने वाले अनुभव को बेहतर बनाने के लिए डिजाइन किया गया है. यह स्‍टूडेंट्स को विदेश में शिक्षा हासिल करने में आने वाली चुनौतियों का निपटारा करता है और स्‍टूडेंट्स की जरूरतों को पूरा करता है.

विदेश में शिक्षा हासिल करने वाले स्‍टूडेंट्स के सामने आने वाली प्रमुख परेशानियों में उनकी सूचना तक सीमित पहुंच और उचित मार्गदर्शन का न मिलना है. स्टडी अब्रॉड बडी हमारे समर्पित विशेषज्ञों की टीम की ओर से सावधानी पूर्वक बनाया गया प्लेटफॉर्म है, जो स्‍टूडेंट्स तक सूचना और अहम जानकारी पहुंचाने के लिए पुल का काम करता है. दुनिया भर में फैले हमारे नेटवर्क में 1000 से ज्यादा एजुकेशन कंसलटेंट पार्टनर है. हम दुनिया भर में शिक्षा ग्रहण करने के बेहतरीन अवसरों से स्‍टूडेंट्स को जोड़ने के लिए समर्पित हैं.

एआई पावर्ड स्टडी अब्रॉड प्लेटफॉर्म को विदेश में शिक्षा हासिल करने के स्टूडेंट्स के सफर में हर कदम में उनकी सहायता के लिए डिजाइन किया गया है. इस प्लेटफॉर्म से स्‍टूडेंट्स को संपूर्ण समाधान मिलते हैं. इनमें यूनिवर्सिटी और कोर्स शॉर्टलिस्टिंग, अपने भविष्य के सहपाठियों से जुड़ना, वॉट्सएप ग्रुप्स, एआई से लैस सूचना तक पहुंच के अलावा कई अन्य समाधान शामिल हैं.  

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से स्‍टूडेंट्स को लैस कर स्‍टूडेंट्स की शिक्षा के मामले में पसंद को सिंपल बनाया जा सकता है. एजुकेशन पार्टनर्स के लिए आवेदकों को सलाह और मदद देना काफी आसान और सुव्यवस्थित बन जाता है. इससे छात्र हमारे स्टडी ब्रॉड कंसलटेंट्स, प्लेटफॉर्म और यूनिवर्सिटी के प्रतिनिधियों के विस्तृत नेटवर्क का लाभ उठा सकते हैं.

इस नए प्लेटफॉर्म से केवल स्टूडेंट को ही लाभ नहीं होता, बल्कि इससे एजुकेशन एजेंट्स और यूनिवर्सिटीज को उन प्रतिभाशाली स्‍टूडेंट्स को अपने संस्थान की ओर आकर्षित करने में सहायता मिलती है, जो उनके कोर्सेज और प्रोग्राम में एडमिशन लेने की योग्यता रखते हैं. यह दाखिले के बाद स्‍टूडेंट्स की सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए वन स्टॉप प्लेटफॉर्म के रूप में काम करता है. 

यूनिवर्सिटी लिविंग का नया प्लेटफॉर्म एक एकीकृत प्लेटफॉर्म बन गया है, जो स्‍टूडेंट्स को विदेश में उनके शिक्षा प्राप्त करने के सफर में पूरी तरह से मार्गदर्शन प्रदान करता है. इसमें खास देशों से संबंध रखने वाले समुदाय होते हैं. भविष्य में क्लासमेट्स बनने वाले स्टूडेंट्स से जुड़ा जा सकता है. परीक्षा की तैयारी करने वाले स्‍टूडेंट्स को मार्गदर्शन दिया जाता है. वीजा की प्रक्रिया में मदद की जाती है. विदेश में स्‍टूडेंट्स के रहने के लिए मकान का बंदोबस्त करने में सहायता दी जाती है. विदेश में रहने के खर्च की प्रक्रिया को आसान बनाया जाता है. इसके साथ ही इससे स्‍टूडेंट्स को कई लाभ होते हैं. 

स्टडी अब्रॉड बडी के साथ छात्र हित को प्राथमिकता देने वाले यूनिवर्सिटी लिविंग के नैतिक सिद्धांत नई ऊंचाइयों पर पहुंच गए हैं. प्लेटफॉर्म पर मिलने वाले रियल टाइम अपडेट्स, बेहतरीन तरीके और उपयोगी कंटेंट सूचना एकत्र करने की चुनौतियों को कम करते हैं. देश और खास नेटवर्क को जॉइन कर छात्र उपयोगी संसाधनों तक पहुंच बढ़ा सकते हैं. साथियों से जुड़ सकते हैं, बातचीत कर सकते हैं और एक्सपर्ट से सवालों के जवाब पूछ सकते हैं. यह एक इंफॉर्मेशन हब है, जो उनकी फैसला लेने की क्षमता को बढ़ाता है और अपनी पसंद में उनका विश्वास और मजबूत करता है.

यूनिवर्सिटी लिविंग के सीईओ और फाउंडर सौरभ अरोड़ा ने कहा, “हम यूनिवर्सिटी लिविंग के एआई से लैस स्टडी अब्रॉड बडी प्लेटफॉर्म को लॉन्च कर काफी उत्साहित हैं. इसे विदेश में शिक्षा प्रदान करने के क्षेत्र में स्टूडेंट्स की मदद करने के लिए डिजाइन किया गया है. यह एजुकेशन एजेंट्स और यूनिवर्सिटीज के लिए गेम चेंजर हैं. प्रतिभाशाली और विदेश में पढ़ने की योग्यता रखने वाले ज्यादा स्‍टूडेंट्स को आकर्षित कर वह विदेशी यूनिवर्सिटीज में स्‍टूडेंट्स की भर्ती प्रक्रिया की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं."

उन्होंने आगे कहा, "हमारा लक्ष्य समय और संसाधन बचाना है. हम सूचना प्रक्रिया को आसान बनाकर स्‍टूडेंट्स को मजबूत बनाते हैं. इससे वह बिना किसी भेदभाव के निर्णय कर सकते हैं. यह नजरिया सक्षम इकोसिस्टम बनाता है. स्‍टूडेंट्स की ओर से फैसले लेने की प्रक्रिया को सुव्‍यवस्थित करता है और हितधारकों के अनुभव को शानदार बनाता हैं. इसमें एजुकेशन पार्टनर और विदेश में स्‍टूडेंट्स को रहने की सुविधा प्रदान करने वाले लोग शामिल हैं. इससे न सिर्फ स्‍टूडेंट्स का अनुभव निखरता है, बल्कि इससे एक इकोसिस्टम भी विकसित होता हैं, जिसमें ज्यादा छात्र विदेश में शिक्षा ग्रहण करते हैं और हमारे स्‍टूडेंट्स के लिए समर्पित प्ल्टफॉर्म, यूनिवर्सिटी लिविंग से जुड़ते हैं. यह नया प्लेटफॉर्म दुनिया भर के छात्रों के विदेश के पढ़ने के अनुभव में बदलाव लाने के लिए तैयार है."

यह भी पढ़ें
निखिल कामथ ने अनंत नारायणन, राज शामानी, किशोर बियानी के साथ मिलकर लॉन्च किया WTF Fund


Edited by रविकांत पारीक