upGrad के स्वामित्व वाले एडटेक स्टार्टअप Harappa ने 30% कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

By रविकांत पारीक
January 04, 2023, Updated on : Wed Jan 04 2023 09:45:59 GMT+0000
upGrad के स्वामित्व वाले एडटेक स्टार्टअप Harappa ने 30% कर्मचारियों को नौकरी से निकाला
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

कंपनियों में कर्मचारियों की छंटनी का सिलसिला नए साल में भी जारी है. भारत के एडटेक सेक्टर के सितारे गर्दिश में है क्योंकि फंड्स खत्म हो रहे हैं और ऑनलाइन शिक्षा की भूख कम हो रही है. ऐसे में दिल्ली स्थित ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म Harappa  Education ने हाल ही में अपने कर्मचारियों की छंटनी की है. Harappa Education को रोनी स्क्रूवाला के upGrad द्वारा पिछले जुलाई में 300 करोड़ रुपये में खरीद लिया गया था.


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, Harappa ने लगभग 60 कर्मचारियों (कुल वर्कफोर्स का 30 फीसदी) को नौकरी से निकाल दिया है. छंटनी की घोषणा दिसंबर के अंतिम सप्ताह में की गई थी. यह मुख्य रूप से कंटेंट डिवीजन में हुई है. प्रभावित कर्मचारियों को एक महीने का नोटिस देने के लिए कहा गया है, और उन्हें कोई अन्य विच्छेद लाभ नहीं दिया गया है.


हालांकि, Harappa ने छंटनी का अभी तक कोई आधिकारिक कारण नहीं बताया है. मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि "यह छंटनी का पहला चरण है और आगे और भी छंटनी हो सकती है. टीम लीडर्स से कहा गया है कि वे फायर किए गए कर्मचारियों को इसकी जानकारी दे दें."


प्रमथ राज सिन्हा (इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के फाउंडिंग डीन) और श्रेयसी सिंह द्वारा 2018 में स्थापित, Harappa B2B और B2C सेगमेंट में 600,000 शिक्षार्थियों तक बढ़ गया. इनमें से लगभग 70 प्रतिशत उपयोगकर्ता पिछले 12 महीनों में जोड़े गए थे.


नवंबर 2022 में, Harappa ने तीन वर्षों में 55,000 मैनेजर को अपस्किल करने की योजना के साथ, अमेरिका में इसकी शुरुआत की भी घोषणा की. प्लेटफॉर्म ने अपने एंटरप्राइज डिवीजन में 200+ कंपनियों में 250,000 शिक्षार्थियों को आकर्षित करने का दावा किया है.


क्या हालिया छंटनी से हड़प्पा की वैश्विक विस्तार योजनाओं में बाधा आएगी, यह देखा जाना बाकी है.


स्टार्टअप उन भारतीय एडटेक कंपनियों की लंबी सूची में शामिल हो गया है, जिन्होंने पिछले 10-12 महीनों में कर्मचारियों की छंटनी की है. इनमें BYJU'S, Toppr, WhiteHat Jr, Unacademy, Vedantu, Practically आदि शामिल हैं. Tracxnकी एक रिपोर्ट का अनुमान है कि इस अवधि में 7,000-8,000 कर्मचारियों को एडटेक स्टार्टअप्स द्वारा निकाल दिया गया है. वहीं, Lido Learning, Udayy, Crejo.Fun, SuperLearn आदि जैसे कई खिलाड़ियों ने भी पूंजी की कमी और उपभोक्ता वरीयताओं को बदलने के कारण कामकाज बंद कर दिया है.


इस बीच, रेडसीर के अनुसार, भारत का ऑनलाइन हायर एजुकेशन मार्केट, जहां upGrad और Harappa काम करते हैं, 2025 तक 5 बिलियन डॉलर तक बढ़ने की ओर अग्रसर है. यह K-12 जैसा सबसे पस्त सेगमेंट नहीं हो सकता है, लेकिन चुनौतियां बनी हुई हैं.