WazirX ने क्रिप्टो मार्केट में मंदी के चलते 40% कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

By रविकांत पारीक
October 02, 2022, Updated on : Mon Oct 03 2022 07:44:59 GMT+0000
WazirX ने क्रिप्टो मार्केट में मंदी के चलते 40% कर्मचारियों को नौकरी से निकाला
WazirX का दैनिक ट्रेडिंग वॉल्यूम 28 अक्टूबर, 2021 को 478 मिलियन के एक साल के उच्च स्तर से 2 अक्टूबर, 2022 को 1.3 मिलियन तक लगातार गिर रहा है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत के नामचीन क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX ने रविवार को स्पष्ट किया कि कंपनी ने अपने 40% कर्मचारियों को क्रिप्टो मार्केट में मंदी के चलते नौकरी से निकाला है. “हमारी प्राथमिकता आर्थिक रूप से स्थिर होना और अपने ग्राहकों की सेवा करना जारी रखना है. इसके लिए, हमें अपने कर्मचारियों को क्रिप्टो मार्केट में चल रही मंदी के चलते नौकरी से निकालना पड़ा, " मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, WazirX ने एक बयान में कहा.


इससे पहले शनिवार को, CoinDesk ने बताया कि 50 से 70 कर्मचारियों, या एक्सचेंज के कुल 150 कर्मचारियों में से 40% की छंटनी की गई थी. Coindesk ने आगे बताया, "नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों को शुक्रवार को नोटिस दिये गये थे कि उन्हें 45 दिनों की सैलरी दी जाएगी. अब वे काम करने के लिए बाध्य नहीं होंगे, और इसी के साथ उनके अधिकार भी रद्द कर दिए जाएंगे."


CoinGecko के आंकड़ों के अनुसार, WazirX का दैनिक ट्रेडिंग वॉल्यूम 28 अक्टूबर, 2021 को 478 मिलियन के एक साल के उच्च स्तर से 2 अक्टूबर, 2022 को 1.3 मिलियन तक लगातार गिर रहा है.


बयान में आगे कहा गया है कि मौजूदा वैश्विक आर्थिक मंदी के कारण क्रिप्टो बाजार मंदी की चपेट में है. "भारतीय क्रिप्टो इंडस्ट्री के लिए टैक्स, रेग्यूलेशन और बैंकिंग पहुंच जैसी बड़ी समस्याएं हैं."


कंपनी ने अपने बयान में आगे कहा, “वर्तमान हालात ठीक वैसे ही हैं, जैसे इस इंडस्ट्री ने साल 2018 में देखे थे. उस समय, हमने दोगुनी मेहनत की और अपने इनोवेटिव P2P इंजन का निर्माण किया. क्रिप्टो इंडस्ट्री चक्रों में चलती है और मंदी का दौर हर बार तब आता है जब एक बार वह ग़ज़ब की ऊंचाई (तेजी) देख चुका होता है. हम अपने ग्राहकों की जरूरतों पर ध्यान देना जारी रखेंगे और निर्माण करना जारी रखेंगे. हमें विश्वास है कि जब मार्केट में तेजी आएगी तो हम और मजबूत होंगे."


इसके अलावा, हाल के दिनों में, भारतीय एक्सचेंज ने कई मुद्दों का सामना किया है, जिसमें WazirX के सीईओ निश्चल शेट्टी और Binance के सीईओ चांगपेंग झाओ के बीच एक ऑनलाइन लड़ाई शामिल है कि क्या Binance भारतीय एक्सचेंज का पैरेंट बिजनेस है. 5 अगस्त, 2022 को, Binance के सीईओ चांगपेंग झाओ ने ट्वीट्स की एक सीरीज में खुद को Binance से दूर कर लिया. इस बीच, Binance ने WazirX और Binance के बीच ऑफ-चेन फंड ट्रांसफर चैनल को हटा दिया.


गौतलब हो कि WazirX भारत के प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई मनी लॉन्ड्रिंग जांच का हिस्सा भी था, जिसमें कंपनी के एक डायरेक्टर के ठिकानों पर छापेमारी भी हुई थी.


(फीचर इमेज: freepik)

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close