वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

फिल्मी दुनिया को लेकर मनोज बाजपेयी ने कही बड़ी बात

दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता और पद्मश्री सम्मानित अभिनेता मनोज बाजपेयी ने योरस्टोरी की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ खुल कर बात की।

दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता और पद्मश्री सम्मानित अभिनेता मनोज बाजपेयी

दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता और पद्मश्री सम्मानित अभिनेता मनोज बाजपेयी

मनोज बाजपेयी कहते हैं, “यह ऐसी इंडस्ट्री है जहाँ अलग-अलग तरह के लोग आते हैं और काम करते हैं और चीजों को अपने तरीके से आगे बढ़ाते हैं। इसमें कुछ बहुत अच्छे लोग हैं, कुछ बुरे लोग हैं और कुछ बहुत बुरे लोग हैं। अलग तरह की राजनीति है, यह एक गला-काट व्यवसाय है, यहां बहुत प्रतिस्पर्धा है।"


हाल की घटनाओं ने लोगों को इनसाइडर वर्सेज आउटसाइडर पर तीखी बहस को भी जन्म दिया है, जहां सवाल उठाए गए हैं कि क्या बिना किसी बॉलीवुड कनेक्शन के कोई आउटसाइडर कभी भी सही मायने में इस इंडस्ट्री में सर्वाइव नहीं कर सकता है। मनोज खुद एक आउटसाइडर हैं। एक किसान का बेटा, जो बिहार के एक गाँव में पाँच भाई-बहनों के साथ बड़ा हुआ और "झोपड़ी वाले स्कूल" में पढ़ा।


अपने अभिनय कौशल के लिए व्यापक रूप से प्रशंसित, मनोज को बॉलीवुड में बड़ा ब्रेक 1998 की फिल्म सत्या से मिला, जिसके लिए उन्होंने सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीता। आउटसाइडर होने से उन्हें स्वतंत्रता की एक निश्चित समझ मिली। 51 वर्षीय मनोज नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) से ग्रेजुएट हैं।

सोशल आंत्रप्रेन्योर उमा पाठक छात्रों की पढ़ाई में कर रही है मदद

उमा पाठक, एक ऐसे घर में पली-बढ़ी, जहाँ दूसरों को खुद से पहले रखा जाता है, दूसरों को खुद से ज्यादा महत्व दिया जाता है और इससे उन्हें बेहद खुशी मिलती है।

सोशल आंत्रप्रेन्योर उमा पाठक आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों की पढ़ाई जारी रखने में मदद कर रही हैं।

सोशल आंत्रप्रेन्योर उमा पाठक आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों की पढ़ाई जारी रखने में मदद कर रही हैं।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ की निवासी उमा का मानना ​​है कि यह उनका नैतिक दायित्व है कि वे लोगों की किसी भी तरह से मदद करें, हालांकि वह शिक्षा के लिए सबसे ज्यादा भावुक हैं।


कॉलेज से स्नातक होने के बाद, उमा ने शहर के एक स्कूल में मुफ्त में पढ़ाना शुरू कर दिया। 2018 में, उन्होंने अपना जीवन शिक्षा और गरीबी से जूझ रहे बच्चों के उत्थान के लिए समर्पित करने के लिए नौकरी छोड़ दी और अपने पिता के नाम पर एक संगठन - एसपीएस फाउंडेशन की स्थापना की।


अपने भाई, Paytm के फाउंडर विजय शेखर शर्मा से मिले समर्थन से सोशल आंत्रप्रेन्योर उमा पाठक ऐसे भारत का निर्माण करना चाहती है, जहां हर बच्चे को शहरों की ओर पलायन किए बिना गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा मिल सके।

डाबर, पतंजलि को टक्कर दे रहा ये हनी ब्रांड

एपिस हनी को 1924 में दिल्ली में मसालों और शहद के व्यापार के रूप में स्थापित किया गया था। एक्सपोर्ट मार्केट के लिए B2B मैन्युफैक्चरिंग और फिर भारतीय बाज़ार के लिए B2C पर अपना ध्यान केंद्रित करने के बाद, एपिस अब डाबर और पतंजलि जैसे स्थापित ब्रांडों को कड़ी टक्कर दे रहा है।

एपिस इंडिया के सीईओ पंकज मिश्रा

एपिस इंडिया के सीईओ पंकज मिश्रा

एपिस इंडिया के सीईओ पंकज मिश्रा योरस्टोरी को बताते हैं, “जब हमने अपना ब्रांड शुरू किया, तो हमने डाबर और पतंजलि से कारोबार खो दिया। हम अपने डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को शुरू से बना रहे थे, जिसके लिए महत्वपूर्ण निवेश की आवश्यकता थी। लेकिन हम इसके साथ ठीक थे क्योंकि हम एफएमसीजी ब्रांड बनाने के लिए दृढ़ थे। एपिस हिमालया हनी के रूप में हमारी दृढ़ता का भुगतान एक अभूतपूर्व तरीके से हुआ।"


2015 में 130 करोड़ रुपये और 140 करोड़ रुपये के टर्नओवर के बीच, एपिस पिछले साल लगभग 200 करोड़ रुपये तक पहुंच गया। पिछले तीन वर्षों में, इसने अपने प्रोडक्ट पोर्टफोलियो में खजूर, फलों के जैम, अचार, अदरक लहसुन का पेस्ट, ग्रीन टी और सोया चंक्स शामिल किए हैं।

Meta16Labs अर्ध-शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में दे रहा है स्वास्थ्य सेवाएं

बेंगलुरु स्थित Meta16Labs Healthcare and Analytics Private Limited (m16labs) हेल्थकेयर समाधान को सभी के लिए सुलभ बनाना चाहती है, खासकर अर्ध-शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में।

क

Meta16Labs के को-फाउंडर्स

स्टार्टअप की स्थापना 2018 में अनिल जेजे द्वारा की गई थी, जब उन्हें हिमालय की बाइक यात्रा के दौरान उचित स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच की कमी का एहसास हुआ। अनिल, जिन्हें हेल्थकेयर इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में 20 वर्षों का अनुभव है, तब डॉ. अश्वथ विनायक कुलकर्णी, पेशे से एक दंत चिकित्सक सर्जन से जुड़े थे।


स्टार्टअप ने अपने कोर प्रोडक्ट, MyTeleOPD, एक डिजिटल क्लिनिक और टेलीमेडिसिन सर्विस प्लेटफॉर्म को लॉन्च किया, जो देश भर के डॉक्टरों को ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों के रोगियों से परामर्श करने के लिए जोड़ता है। मरीज डॉक्टरों के साथ वॉइस और वीडियो कॉलिंग से जुड़ सकते हैं, यहां तक ​​कि एक फीचर फोन से भी एसएमएस के जरिए पर्चे प्राप्त कर सकते हैं।

इस सोलर एनर्जी स्टार्टअप ने पिछले तीन वर्षों में कमाया 300 करोड़ रुपये का रेवेन्यू

2011 में स्थापित, जयपुर स्थित सौर ऊर्जा स्टार्टअप, Rays Experts आवासीय और औद्योगिक ग्राहकों को पूरा करता है। वर्तमान में, यह 2,500 करोड़ रुपये की संपत्ति को मैनेज करता है।

क

निधि गुप्ता

राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय से कंप्यूटर विज्ञान में बीटेक पूरा करने के बाद, निधि गुप्ता 2011 में स्थापित अपने भाई के पुराने सौर स्टार्टअप, Rays Experts में शामिल हो गई।


दोनों ने पिछले आठ वर्षों में महत्वपूर्ण प्रगति की है। जयपुर, राजस्थान में अपने मुख्यालय और सिंगापुर में एक ऑफिस के साथ, Rays Experts ने पिछले तीन वित्तीय वर्षों में औसतन 300 करोड़ रुपये का रेवेन्यू कमाया है। यह स्टार्टअप 60 करोड़ रुपये के सात सोलर पार्कों का मालिक है और फिलहाल 2,500 करोड़ रुपये की संपत्ति संभाल रहा है।


बी 2 बी और बी 2 सी के दोहरे मॉडल पर चलने वाली, Rays Experts आवासीय और औद्योगिक दोनों ग्राहकों को पूरा करता है। यह सौर पार्कों और उपयोगिता पैमाने की सुविधाओं के बड़े पैमाने पर फोटोवोल्टिक प्रणालियों (पीवी) को भी डिजाइन करता है जो सौर ऊर्जा को ग्रिड में वापस इंजेक्ट कर सकते हैं।

Get access to select LIVE keynotes and exhibits at TechSparks 2020. In the 11th edition of TechSparks, we bring you best from the startup world to help you scale & succeed. Join now! #TechSparksFromHome

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Latest

Updates from around the world