वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
May 09, 2021, Updated on : Sun May 09 2021 04:09:52 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

'अन्नदाता' मल्लेश्वर राव

हैदराबाद के रहने वाले मल्लेश्वर राव, जो कई संघर्षों को झेलते हुए बड़े हुए हैं, 2012 से जरूरतमंदों को भोजन, राशन किट और अन्य सामान प्रदान कर रहे हैं।

दूसरी लहर के दौरान भोजन पैक करते हुए

कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान भोजन पैक करते हुए मल्लेश्वर राव

YourStory के साथ एक इंटरव्यू में, मल्लेश्वर ने बताया कि कैसे उन्होंने 2012 में अपनी गैर-लाभकारी यात्रा शुरू की और यह शानदार यात्रा कैसे आगे बढ़ी।


कई कठिनाइयों के बावजूद, 27 वर्षीय अब सक्रिय रूप से अपने गैर-लाभकारी Don’t Waste Food के माध्यम से हैदराबाद और राजामुंदरी में गरीबों की भूख को मिटाने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहे हैं।


वास्तव में, वह लोगों को कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच क्वारंटीन में रह रहे लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर, राशन किट और उन लोगों के लिए ताजा पकाया हुआ भोजन प्रदान करके मदद कर रहे हैं।


भोजनालयों, पीजी, हॉस्टल, शादियों और अन्य कार्यों से खाद्य पदार्थों की सोर्सिंग, मल्लेश्वर हर दिन 500 से 2000 भोजन पैकेट बांटते है।


सोशल मीडिया पोस्ट्स से Don’t Waste Food ग्रुप को अधिकांश फंडिंग मिलती है। मल्लेश्वर ने क्राउडफंडिंग ऐप मिलाप पर एक अभियान भी चलाया था, जिससे उन्हें कोविड-19 महामारी के बीच लोगों को खिलाने के लिए धन जुटाने में मदद मिली।

सस्ते वेंटिलेटर वाला MIT के छात्रों का प्रोजेक्ट प्राण

MIT के छात्र श्रिया श्रीनिवासन और राजीव मोंडल का प्रोजेक्ट प्राण (Prana) आईसेव नामक मल्टीप्लेक्स वेंटिलेटर बना रहा है, जिसकी कीमत 45,000 रुपये होगी। इन्हें चेन्नई में बनाया जा रहा है। ये एक वेंटिलेटर को दो रोगियों से जोड़ सकते हैं। इन्हें कस्टमाइज करने के साथ ही इनके पैरामीटर को कंट्रोल कर सकते हैं।

ि

YourStory की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ बातचीत में श्रिया ने बताया, "आप रेस्पिरेटरी मॉनिटर पर एक साथ दोनों रोगियों को ट्रैक भी कर सकते हैं। इससे मरीजों को ट्रैक करने के लिए चिकित्सकों और नर्सों के लिए काम आसान हो जाता है। हम अलार्म भी सेट कर सकते हैं ताकि वे प्रत्येक रोगी के लिए सुरक्षित हों।"


वह बताती हैं कि वेंटिलेटर में सभी सुरक्षा उपाय मौजूद हैं ताकि अगर वेंटिलेशन अलग हो जाते हैं तो भी उनकी क्वालिटी लॉस्ट न हो।


राजीब बताते हैं कि एक फुल-फंक्शनल वेंटिलेटर की कीमत लगभग 43 लाख रुपये है। हालांकि, iSave वेंटिलेटर की कीमत 45,000 रुपये है और यह चेन्नई में बना पूरी तरह से मेड इन इंडिया है।


राजीब बताते हैं, "iSave मौजूदा वेंट्स का इस्तेमाल करता है और उन्हें मल्टीप्लेक्स कर कई मरीजों की सेवा करता है। इसके साथ, 10 करोड़ रुपये में, हम 3,000 से अधिक युनिट हासिल कर सकते हैं और 6,000 मरीजों की सेवा कर सकते हैं।"

फ्री में कोविड वैक्सीन उपलब्ध करा रहा है यह हेल्थटेक स्टार्टअप

कोविड-19 संकट के दौरान अपने लोगों को फ्री वैक्सीन उपलब्ध कराने वाला MyVacc, दिसंबर 2020 में डॉ. श्वेता अग्रवाल, अमित अग्रवाल और प्रसून बंसल द्वारा स्थापित एक हेल्थटेक स्टार्टअप है।

बेंगलुरु में लगाए गए वैक्सीनेशन कैंप्स में से एक

बेंगलुरु में लगाए गए वैक्सीनेशन कैंप्स में से एक

प्लेटफॉर्म, जिसे मूल रूप से घर पर बच्चों का टीकाकरण करने के लिए शुरू किया गया था, अब टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण के दौरान बेंगलुरु के नागरिक निकाय, ब्रुहत बेंगलुरु महानगरपालिका (BBMP) की सहायता कर रहा है। स्टार्टअप के अनुसार, यह मुफ्त में पहल कर रहा है।


बेंगलुरु स्थित MyVacc को बच्चों को उनके घर में आराम से टीकाकरण करने के लिए शुरू किया गया था। माता-पिता वेबसाइट पर जा सकते हैं और बाल रोग विशेषज्ञ के साथ परामर्श करके देख सकते हैं कि बच्चे के लिए कौनसा टीका आवश्यक है।


इसके अलावा, यह वयस्कों के लिए टीके का भी इंतजाम करता है, जिसमें सर्वाइकल कैंसर के टीके, हेपेटाइटिस ए और बी और फ्लू के टीके शामिल हैं। स्टाफ एक तकनीशियन या एक डॉक्टर के साथ घरों का दौरा करते हैं जो कुछ साइड इफेक्ट्स होने की स्थिति में मदद कर सकते हैं। स्टार्टअप के अनुसार, यह उन सभी नियमित अनिवार्य टीकों को पूरा करता है जिनकी बच्चों को जरूरत होती है।


श्वेता कहती हैं, "हम नर्सों और डॉक्टरों को टीकाकरण के संबंध में प्रशिक्षण देते हैं - कैसे और कहाँ उन्हें प्रशासित करें और यह सुनिश्चित करने के लिए कि दर्द कम से कम हो।"


2021 में, जब पूरे भारत में कोविड टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था, MyVacc ने BBMP को मुफ्त में बेंगलुरू में विभिन्न स्थानों पर शिविरों के माध्यम से टीके लगाने में सहायता करना शुरू किया।

झारखंड की 'लेडी टार्जन' जमुना टुडू

जमुना टुडू को उनके इस सराहनीय काम के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द द्वारा पद्मश्री अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है। इससे पहले जमुना को साल 2013 में फिलिप्स बहादुरी अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है।

लेडी टार्जन जमुना टुडू, फोटो साभार: Twitter

लेडी टार्जन जमुना टुडू, फोटो साभार: Twitter

किसान पिता के घर जन्मी जमुना उड़ीसा के रैरंगपुर कस्बे में पली-बढ़ी हैं। जमुना और उनके अन्य भाई-बहन जंगलों के साये में ही अपना अधिकतर शुरुआती जीवन बिताया है, इस दौरान वे किसानी में अपने पिता की भी मदद किया करती थीं।


देश और दुनिया भर के लोग आज इन्हे झारखंड की 'लेडी टार्जन' के नाम से जानते हैं। जमुना टुडू ने राज्य के जंगलों की रक्षा के लिए अपने पूरे जीवन को समर्पित कर दिया है।


आज जमुना के साथ तस्करों द्वारा झारखंड के जंगलों की अवैध कटाई को रोकने के काम में उनका सहयोग करीब 10 हज़ार महिलाओं की एक खास सेना करती है, लेकिन जमुना के लिए यह सब कर पाना कतई आसान नहीं रहा है और आज भी उन्हे तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।


इन सारी कठिनाइयों के बीच जमुना टुडू ने महिलाओं को संगठित करना शुरू किया और इसके बाद उनके साथ 10 हज़ार से अधिक महिलाओं की सेना तैयार हो गई। जमुना की यह सेना अपनी सुरक्षा और जंगल काटने के उद्देश्य से घुसे घुसपैठियों को भगाने के लिए अपने हाथों में डंडे और तीर-कमान लेकर चलती है।

ऑडियो प्लेटफॉर्म का नेटफ्लिक्स बनने की राह पर है यह सोशल स्टार्टअप

बेंगलुरु स्थित हेडफोन (Headfone) एक ऐसा ऐप है जो पूरे भारत में लिसनर्स यानी श्रोताओं के साथ ऑडियो कंटेंट क्रिएट करने और उसे शेयर करने में मदद करता है। यह ऐप भारतीय ऑडियो मार्केट में बढ़त बनाना चाहता है।

प्रथम खंडेलवाल और योगेश शर्मा, Headfone के को-फाउंडर्स

प्रथम खंडेलवाल और योगेश शर्मा, Headfone के को-फाउंडर्स

पूर्व फेसबुक सॉफ्टवेयर इंजीनियर, प्रथम खंडेलवाल और योगेश शर्मा ने भारतीय यूजर्स को ध्यान में रखते हुए 2017 में एक सोशल ऑडियो प्लेटफॉर्म हेडफोन लॉन्च किया।


बेंगलुरु स्थित डायकोस्टिक लैब्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा संचालित और स्वामित्व वाला हैडफोन भारतीय भाषाओं के कंटेंट की सप्लाई और डिमांड के बीच अंतर को भरने के साथ-साथ विभिन्न भाषाओं में कहानियों, कॉमेडी, वार्ता और शैक्षिक संसाधनों के साथ ऑडियो लिसनर्स का मनोरंजन करता है।


हेडफोन के सह-संस्थापक और सीईओ 31 वर्षीय प्रथम कहते हैं, "ऑडियो कंटेंट वीडियो या टेक्स्ट से बहुत अलग है क्योंकि इससे जुड़ना काफी आसान है। तथ्य यह है कि हम इससे अपने अन्य काम करते हुए भी जुड़ सकते हैं और यहां तक कि इसे पूरा दिन सुन सकते हैं जो इसे और भी ज्यादा आकर्षक बनाता है।"


वह आगे कहते हैं, "ऑडियो फॉर्मट भी एक तरह से इतना स्पेशल है कि आप यानी लिसनर्स उस कहानी का हिस्सा बन जाते हैं। हेडफोन पर, लिसनर्स डरावनी, काल्पनिक और रोमांटिक कहानियों का हिस्सा बनना भी पसंद है।"


तीन वर्षों के भीतर, Google Play पर Headfone सबसे ज्यादा रेटिंग वाले ऐप में से एक बन गया है। इसकी 4.8 स्टार रेटिंग और 5 मिलियन से अधिक इंस्टाल हैं। वर्तमान में, प्लेटफॉर्म में आरजे, लेखक और अनदेखे कहानीकारों जैसे कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा 25 से अधिक भारतीय भाषाओं में लगभग 3,00,000 ऑडियो कंटेंट है।


स्टार्टअप के पास 10 लोगों की एक छोटी टीम है और उसने दो राउंड की फंडिंग में कुल 3.75 मिलियन डॉलर की राशि जुटाई है। संस्थापकों का कहना है कि वे चाहते हैं कि हेडफोन भारत पर ध्यान केंद्रित करने के साथ "ऑडियो स्टोरी टेलिंग का YouTube" हो।