वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
December 12, 2021, Updated on : Sun Dec 12 2021 05:30:45 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

रतन टाटा की आंत्रप्रेन्योर्स को सलाह

इनोवेशन की बात करने के लिए रतन टाटा से बेहतर कौन हो सकता है। उनके नेतृत्व में, टाटा संस के अध्यक्ष के रूप में टाटा समूह ने लगभग ढाई दशक की अवधि में अपना लाभ 50 गुना और राजस्व 40 गुना बढ़ाया।

टाटा संस के मानद अध्यक्ष और टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन टाटा

टाटा संस के मानद अध्यक्ष और टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन टाटा

लगभग अब दो साल हो गए है जबसे कोरोनावायरस महामारी ने दुनिया में दस्तक दी और हमेशा के लिए हमारी जीवनशैली और काम करने के तरीके को बदल दिया है।


जैसा कि हम कोरोनावायरस के साथ जीने के तीसरे वर्ष में प्रवेश करने के लिए तैयार हैं, जिसने तब से अपनी निरंतर शक्तिशाली उपस्थिति के साथ एक समान और अधिक संख्या में उत्परिवर्तित किया है, यह कुछ समझदार सलाह को रोकने और सुनने में मदद करता है। और रतन टाटा से बेहतर कौन हो सकता है - भारतीय व्यवसाय के दिग्गज और अग्रणी।


टाटा संस के मानद अध्यक्ष और टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष रतन टाटा ने कोरोनावायरस संकट की तुलना विश्व युद्ध के रूप में की - "यह विनाशकारी था, शहरों पर बमबारी हुई, मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज अक्षम हो गए, और फिर भी यह उस समय में था जब कई नई तकनीकों का विकास किया गया था।"


उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस की स्थिति हमें कुछ नया करने का मौका दे रही है। "जिन परिवर्तनों का हम सामना कर रहे हैं, उन्हें देखने के बजाय, हमें स्थिति को नए परिदृश्य या नए खेल मैदान के रूप में देखना चाहिए।"


हर किसी के मन में क्या है, ज़ोर से सोचना - हमें क्या करना चाहिए? हमें कहाँ जाना चाहिए? --- इनोवेशन पर रतन टाटा की सलाह वही है जो आपको चाहिए क्योंकि आप एक और साल इतनी तेजी से बीता चुके हैं।

कैब ड्राइवर, जो बना सॉफ्टवेयर इंजीनियर

बिहार के मुंगेर से आने वाले आशीष राज ने इंटरनेट पर मसाई स्कूल का एक आर्टिकल पढ़ा और इसके फुल स्टैक वेब डेवलपमेंट प्रोग्राम के लिए अप्लाई किया। इस प्रोग्राम ने उनके करियर को एक नई दिशा दी। आज, आशीष एक नामचीन सॉफ्टवेयर कंपनी में बतौर इम्प्लीमेंटेशन इंजीनियर जॉब कर रहे हैं।

आशीष राज

ये कहानी है बिहार के मुंगेर से आने वाले आशीष राज की, जिन्होंने कॉलेज की डिग्री हासिल करने से ज्यादा Masai Schoolके फुल स्टैक वेब डेवलपमेंट प्रोग्राम के जरिए खुद को स्किल्ड बनाने को तवज्जो दी और कड़ी मेहनत और संघर्ष से सफलता की नई इबारत लिखी।


आशीष के पिता एक किसान हैं और उनकी माँ एक गृहिणी हैं। आशीष के तीन बड़े भाई-बहन हैं। उनके बड़े भाई खेती करने में पिता की मदद करते हैं, दूसरा भाई Amazonके साथ डिलीवरी एक्जीक्यूटिव के रूप में काम करता है, और उनकी बहन ने हाल ही में बी.कॉम की पढ़ाई पूरी की है। उनका बचपन से ही कंप्यूटर के प्रति लगाव था, जब वे अपना अधिकांश समय अपने चाचा के साइबर कैफे में काम करते हुए बिताते थे।


आशिष बताते हैं, "मैंने कॉलेज के बाद Uber कैब चलाई। इसके साथ ही मैं कुछ नया सीखना चाहता था। मैं जितना पैसा बचा रहा था, उसके साथ मैंने EMI पर एक लैपटॉप खरीदा। मैंने ऑनलाइन कोर्सेज के बारे में सर्च करना शुरू किया, YouTube पर ट्यूटोरियल देखे, कोडिंग के बारे में अधिक से अधिक जानकारी हासिल की।"


एक दिन इंटरनेट पर सर्फिंग करते समय, उन्होंने Masai School के बारे में एक आर्टिकल पढ़ा, जिसने उनके जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया।


आज, आशीष बेंगलुरू में सॉफ्टवेयर कंपनी WebEngageमें बतौर इम्प्लीमेंटेशन इंजीनियर जॉब कर रहे हैं। यहां तक पहुँचने की उनकी कहानी बेहद संघर्षपूर्ण रही है और हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हार नहीं मानते हुए आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है।

फिल्मों में एक्टिंग कर चुकी हैं ये तेज़ तर्रार आईपीएस अधिकारी

सिमाला प्रसाद की यह कहानी कई मायनों में खास है क्योंकि उन्होंने अपने भविष्य के लिए आईपीएस बनने का सपना बुना ही नहीं था, बल्कि वे कुछ और ही करना चाहती थीं।

सिमाला प्रसाद

सिमाला प्रसाद

सिमाला प्रसाद एक ऐसी आईपीएस अधिकारी हैं जिनके नाम भर से अपराधी कांप जाते हैं। अपने तेज़ तर्रार रवैये के साथ ही सिमाला बॉलीवुड में भी अपने काम का लोहा मनवा चुकी हैं। सिमाला प्रसाद की यह कहानी कई मायनों में खास है क्योंकि उन्होंने अपने भविष्य के लिए आईपीएस बनने का सपना बुना ही नहीं था, बल्कि वे कुछ और ही करना चाहती थीं।


सिमाला बचपन से ही एक्टिंग और डांस की शौकीन थीं और अपने इसी शौक के चलते वे स्कूल में भी सभी डांस प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेती रहती थीं। साल 1980 में भोपाल में पैदा होने वाली सिमाला ने अपनी शुरुआती पढ़ाई सेंट जोसेफ स्कूल से पूरी की और इसके बाद उन्होंने बीकॉम और बीयू से पीजी की पढ़ाई पूरी की।


आगे बढ़ते हुए सिमाला ने पीसीएस की परीक्षा दी और उनका उसमें चयन भी हो गया। सिमाला को उनकी पहली पोस्टिंग बतौर डीएसपी मिली, हालांकि नौकरी के दौरान ही वे यूपीएससी की तैयारी भी करती रहीं और अपनी अथक लगन के साथ आगे बढ़ते हुए उन्होंने अपने पहले ही प्रयास में सफलता भी हासिल कर ली।


सिमाला उस समय दिल्ली के एक कार्यक्रम में शामिल हुईं थीं जहां उनकी मुलाक़ात निर्देशक जैगम इमाम से हुई और उन्होंने सिमाला को अपनी फिल्म अलिफ की कहानी सुनाते हुए उन्हें किरदार ऑफर कर दिया। सिमाला ने वह ऑफर स्वीकार कर लिया और बाद में फिल्म को साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया में हुए इंडियन इंटेरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ क्वींसलैंड में प्रदर्शित किया गया था। फिल्म को अगले साल यानी 2017 के फरवरी महीने में रिलीज़ किया गया था।


अपने इस डेब्यू के बाद सिमाला ने साल 2019 में आई फिल्म नक्काश में एक पत्रकार का किरदार निभाया था जो कि काफी चर्चित हुआ था। कोरोना महामारी के दौरान सिमाला की लिखी हुई एक कविता सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुई थी, जिसके बाद उनकी चर्चा हर ओर होने लगी थी।

कंपनियों को कम समय में प्रोडक्ट लॉन्च करने में मदद करने वाला स्टार्टअप

YourStory के Tech50 2021 स्टार्टअप्स में से एक JSON API का उद्देश्य प्रोडक्ट डेवलपमेंट को डिसेंट्रलाइज करना और टेक कंपनियों को दो दिनों के भीतर प्रोडक्ट को लॉन्च करने में मदद करना है, जो दुनिया भर के डेवलपर्स द्वारा निर्मित प्री-मेड APIs, कंपोनेंट्स, माइक्रोसर्विसेज और सिस्टम की पेशकश करते हैं।

ि

छह साल से अधिक समय तक एक डेवलपर के रूप में काम करते हुए, संकेत मखीजा ने दुनिया के किसी हिस्से में किसी अन्य डेवलपर द्वारा "पहले डिजाइन किया जा चुका" सिस्टम बनाने के दौरान अक्सर खुद को "समय बर्बाद करते" पाया। कंपनियों ने किसी के द्वारा पहले से बनाई गई किसी चीज़ को फिर से बनाने के लिए काफी राशि खर्च की। इस अंतर को पाटने के लिए संकेत ने डेवलपर्स और कंपनियों दोनों को एक प्लेटफॉर्म पर लाने और दोनों पक्षों के लिए 'win-win' की स्थिति बनाने का फैसला किया। इसने JSON API APPको इन्कॉर्पोरेट किया, जो प्री-मेड एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफ़ेस (API) समाधानों का एक ईकॉमर्स बाज़ार है, और यह YourStory के Tech50 2021 स्टार्टअप्स में से एक भी है।


आसान भाषा में समझें तो, स्टार्टअप (पैरेंट कंपनी Rackpiper Technology Inc) एक ऑनलाइन मार्केटप्लेस प्रदान करता है जहां कंपनियां दुनिया भर में डेवलपर्स द्वारा निर्मित APIs और लॉजिकल कंपोनेंट्स / माइक्रोसर्विसेज और सिस्टम (जैसे ऑथेंटिकेशन, नॉटिफिकेशन) खरीद सकती हैं, सदस्यता ले सकती हैं, प्रति उपयोग भुगतान कर सकती हैं या लाइसेंस दे सकती हैं।


हालांकि तीन महीने पुराने स्टार्टअप का आधिकारिक लॉन्च होना बाकी है, लेकिन इसने बाजार में काफी चर्चा पैदा कर दी है, जिसे पहले से ही GitHub के विकल्प के रूप में कहा जा रहा है। इसे सिलिकॉन वैली स्थित GoAhead Ventures द्वारा समर्थित किया गया है और हाल ही में प्री-सीड राउंड में एक अज्ञात राशि जुटाई है। स्टार्टअप अमेरिका के डेलावेयर में रजिस्टर्ड है और इसमें लगभग 5-7 लोगों की एक रिमोट टीम है।


संकेत बताते हैं कि प्री-मेड प्रोडक्ट होने का प्रमुख लाभ लागत बचत (cost saving) है, जो कंपनियों को अपने निवेश पर लाभ (ROI) में सुधार करने में मदद करता है। आमतौर पर, एक टेक कंपनी 4-6 लोगों की एक टीम को हायर करती है जो आर्किटेक्चर का निर्माण करेगी, कोडिंग, टेस्टिंग करेगी, मुद्दों को हल करेगी और फिर प्रोडक्ट रिलीज करेगी।


"औसतन, पूरे सिस्टम को डेवलप करने में लगभग $ 46,000 का खर्च आता है। प्री-मेड API के साथ, आप इन सभी स्टेप्स को छोड़ सकते हैं, सीधे समाधान खरीद सकते हैं और कुछ दिनों में बहुत सस्ती कीमत पर प्रोडक्ट को रोल आउट कर सकते हैं, ” संकेत कहते हैं, जो BookMyShow, Udaan, Freight Tiger, Sequoia Consulting Group, सहित अन्य कंपनियों की टेक मैनेजमेंट टीम का हिस्सा रह चुके हैं।

इस बिजनेसमैन ने रिटायरमेंट के बाद लिखी सफलता की नई कहानी

डीपी मंगल 2010 में फुल-टाइम नौकरी से रिटायर हुए। 62 वर्ष की आयु में, उन्होंने आंत्रप्रेन्योरशिप को आजमाने का फैसला किया। आठ साल बाद, उनकी सूत बनाने वाली कंपनी Lagnam Spintex स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो गई।

ि

जबकि रिटायरमेंट का मतलब एक आसान, धीमा और शांतिपूर्ण जीवन जीना है, आंत्रप्रेन्योर द्वारका प्रसाद मंगल के लिए मामला बिल्कुल अलग था। 2010 में 62 साल की उम्र में, ऊर्जा से भरपूर मंगल, रिटायर हो गए और वे बड़े पैमाने पर कुछ करना चाहते थे।


वह YourStory को बताते हैं, "मैं नियमित परामर्श कार्य नहीं करना चाहता था।"


यह तब हुआ जब उन्होंने आंत्रप्रेन्योरशिप को आजमाने का फैसला किया। कई वर्षों तक कपड़ा उद्योग में काम करने के बाद, जिसमें Rajasthan Spinning & Weaving Mills, Jagatjit Cotton Textile Mills और बहुत कुछ शामिल हैं, मंगल ने इस उद्योग के जरिए व्यापार बाजार में प्रवेश करने का फैसला किया। इस प्रकार सूती धागा निर्माता Lagnam Spintexअस्तित्व में आया।


2010 में, उन्होंने रिंग यार्न और ओपन-एंड यार्न के निर्माण के लिए एक यूनिट लगाने के लिए दिल्ली से भीलवाड़ा, राजस्थान में अपना बेस ट्रांसफर कर दिया। बिजनेस शुरू करने के लिए कुल 31 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था, और मंगल के अनुसार, उन्होंने लगभग 30 प्रतिशत राशि का योगदान दिया, और बाकी को एक बैंक द्वारा फायनेंस किया गया।


हालांकि, वह मानते हैं कि यह कदम आसान नहीं था। वे कहते हैं, "यह कठिन था क्योंकि मैंने अपने जीवन की कमाई को बिजनेस में डाल दिया था। साथ ही, दिल्ली से भीलवाड़ा जाना, जो इतना विकसित नहीं है, आसान नहीं था।”


कंपनी का व्यावसायिक उत्पादन 2012 में 960 ओपन-एंड रोटार के साथ शुरू हुआ था। उस साल कंपनी ने 35 करोड़ रुपये कमाए थे। उन्होंने 2013 से यूरोप को एक्सपोर्ट करना भी शुरू कर दिया और अन्य देशों में विस्तार किया। आज, उत्पादन का 55 प्रतिशत इटली, तुर्की, पुर्तगाल, कोलंबिया, चीन, बांग्लादेश और अन्य देशों को एक्सपोर्ट किया जाता है। मंगल बताते हैं, बांग्लादेश, कंपनी का सबसे बड़ा बाजार है।


जैसे-जैसे उत्पादन का विस्तार हुआ, Lagnam Spintex ने 2014 में उसी यूनिट में 480 रोटार जोड़े और 2015 में अन्य 480 रोटार जोड़े।