वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!

By रविकांत पारीक
May 15, 2022, Updated on : Mon May 16 2022 06:23:38 GMT+0000
वीकली रिकैप: पढ़ें इस हफ्ते की टॉप स्टोरीज़!
यहाँ आप इस हफ्ते प्रकाशित हुई कुछ बेहतरीन स्टोरीज़ को संक्षेप में पढ़ सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इस हफ्ते हमने कई प्रेरक और रोचक कहानियाँ प्रकाशित की हैं, उनमें से कुछ को हम यहाँ आपके सामने संक्षेप में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिनके साथ दिये गए लिंक पर क्लिक कर आप उन्हें विस्तार से भी पढ़ सकते हैं।

भारत के 100वें युनिकॉर्न को खड़ा करने वाली महिला को-फाउंडर्स

Open Financial Technologies की महिला को-फाउंडर्स माबेल चाको और दीना जैकब ने भारत के 100वें यूनिकॉर्न की वैल्यूएशन, SMB मार्केट में जगह बनाने, IIFL और जॉइंट वेंचर को लेकर YourStory के साथ खुलकर बात की।

Open Financial Technologies की महिला को-फाउंडर्स माबेल चाको और दीना जैकब

3 मई को, Open Financial Technologies भारत का 100वां यूनिकॉर्न बना, जब स्टार्टअप ने अपने सीरीज डी फंडिंग राउंड में मुंबई स्थित IIFL Finance से 50 मिलियन डॉलर जुटाए। केरल के मलप्पुरम में पंजीकृत, जिसका मुख्यालय बेंगलुरु में है, Open की स्थापना 2017 में हुई थी। यह SME (छोटे और मध्यम उद्यमों) और स्टार्टअप्स के लिए एशिया का पहला नियो-बैंकिंग प्लेटफॉर्म है।


ओपन के चार फाउंडर्स - अनीश अच्युथन, माबेल चाको, दीना जैकब और अजेश अच्युथन हैं। माबेल चाको और दीना जैकब महिला उद्यमी हैं।


माबेल, जो ओपन की COO हैं, एक सीरियल आंत्रप्रेन्योर हैं जिनके पास फिनटेक स्पेस में 15 से अधिक वर्षों का अनुभव है। दीना, ओपन की CFO हैं। इससे पहले वह Tapzo में CFO और TaxiForSure में हेड ऑफ फाइनेंस थीं। ओपन 2022 में यूनिकॉर्न क्लब में प्रवेश करने वाला, जिसकी महिला फाउंडर / को-फाउंडर हैं, पांचवां स्टार्टअप है, और भारत के अब तक के 100 यूनिकॉर्न में भी इस तरह का पांचवां यूनिकॉर्न है।


माबेल कहती हैं, “हम अपने परिवारों, कर्मचारियों, हमारे पूर्व कर्मचारियों, विक्रेताओं और ग्राहकों से आने वाली शुभकामनाओं से अभिभूत हैं। यह दिवाली या क्रिसमस के त्योंहार जैसा लगता है।”


दीना का मानना ​​है कि यूनिकॉर्न स्टेट्स की वैल्यूएशन से कई ज्यादा मायने रखती है ये खुशी, ये जश्न। वह कहती हैं, “हम इसे SME कम्यूनिटी के लिए जो कुछ करने में सक्षम थे, उसके निशान के रूप में देखते हैं। हम इस बात से भी खुश हैं कि भारत पूरे वैश्विक स्टार्टअप परिदृश्य में खुद को एक निश्चित पायदान पर पाता है और हम इसका एक छोटा सा हिस्सा बनकर खुश हैं।”

शेयर बाजार के निवेशकों के लिए सोशल नेटवर्क बना रहे हैं ये सीरियल आंत्रप्रेन्योर

2021 में दूसरी बार के आंत्रप्रेन्योर निखिल मणिकांत और पृथ्वी राज एरंती द्वारा स्थापित, iTribe भारत के उपयोगकर्ताओं को वास्तविक समय में स्टॉक, सलाहकारों और निवेश विचारों से संबंधित जानकारी के लिए वन-स्टॉप सॉल्यूशन के रूप में वित्तीय रूप से साक्षर और स्वतंत्र बनाना चाहता है।

iTribe

सीरियल आंत्रप्रेन्योर निखिल मणिकांत और पृथ्वी राज एरंती ने महामारी के दौरान चलने वाली ऑनलाइन समुदाय की प्रचलित प्रवृत्ति को महसूस किया और 2021 में बेंगलुरु स्थित फिनटेक स्टार्टअप iTribe को लॉन्च करके अपनी विशेषज्ञता को आजमाने का फैसला किया।


प्लेटफॉर्म का उद्देश्य संभावित और विशेषज्ञ निवेशकों के लिए एक विश्वसनीय रास्ता बनना है, जहां उपयोगकर्ता नए निवेश विचार प्राप्त कर सकते हैं, दूसरों से सलाह ले सकते हैं, सीख सकते हैं और अन्य निवेशकों के साथ मिलकर निवेश कर सकते हैं।


निखिल कहते हैं, “हम चाहते थे कि ऐप उपयोगकर्ताओं को उनके व्यस्त कार्यक्रम के बीच भी शेयर बाजार में सीखने, निवेश करने और बढ़ने में मदद करे। हमारा प्लेटफॉर्म लोकेशन अज्ञेयवादी है, और हम पूरे भारत में काम करते हैं।”


वे आगे कहते हैं, "वर्तमान में, हमारे पास कुछ बुनियादी विशेषताएं हैं - ML और AI का उपयोग करके समाचार सारांश, इंडस्ट्री से फ्लैश समाचार, विभिन्न पंजीकृत सलाहकारों के सुझावों का एकत्रीकरण, आपकी वॉच लिस्ट और विभिन्न ब्रोकरों के पोर्टफोलियो के आधार पर व्यक्तिगत सूचनाएं।"


प्लेटफ़ॉर्म के बीटा मॉडल में 10,000 उपयोगकर्ता और 85 प्रतिशत प्रतिधारण देखा गया है। फीचर्स में प्लेटफॉर्म पर प्रत्येक निवेशक के लिए उसके पिछले सुझावों के प्रदर्शन, उसके ट्रेडों/विचारों पर रिटर्न के आधार पर एक विश्वास स्कोर भी शामिल है; बाजार के रुझानों पर निवेशकों के विचार, और विभिन्न विषयों पर चर्चा करने के लिए समर्पित रूम्स, आदि हैं।


फाउंडर्स द्वारा मैनेज किए जाने वाले एक Facebook ग्रुप से, iTribe अब एक ऐसी कंपनी के रूप में विकसित हो गया है, जिसमें 20+ लोग कार्यरत हैं, और यह बुजुर्गों और युवाओं के लिए एक गो-टू-प्लेटफ़ॉर्म बनने का लक्ष्य भी रखता है, जो अपने ज्ञान का निर्माण करके वित्तीय स्वतंत्रता हासिल करने के इच्छुक हैं। उपयोगकर्ता के अनुकूल ऐप एंड्रॉइड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है।

100 करोड़ रुपये का कारोबार करने वाला फैमिली बिजनेस

Ramsons Perfumes की शुरुआत 1984 में मुंबई में हुई थी ताकि परफ्यूम जनता को उपलब्ध हो सके और हर कोई उन्हें खरीद सके। घरेलू ब्रांड ने वित्त वर्ष 2021 में 100 करोड़ रुपये का कारोबार किया और लगातार बढ़ने का लक्ष्य रखा है।

Ramsons Perfumes

भारतीय इत्र बाजार में हर साल लगभग 15 प्रतिशत की वृद्धि के बावजूद, दूसरी पीढ़ी के उद्यमी और मुंबई स्थित Ramsons Perfumes के निदेशक संजीव पांडे कहते हैं कि भारत में सुगंध बाजार अभी भी शुरुआती चरण में है।


1984 में, संजीव के पिता रमेश पांडे ने भारत में सस्ती कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण इत्र उपलब्ध कराने के लिए मुंबई में एक छोटा इत्र व्यवसाय शुरू किया।


संजीव कहते हैं, “मेरे पिता Birla Group के साथ काम कर रहे थे। उस समय, इत्र की मांग मौजूद थी लेकिन कुछ ही स्थानीय खिलाड़ी थे। इत्र को एक प्रीमियम आइटम माना जाता था, और ऐसे सीमित ग्राहक थे जो विदेशी ब्रांडों का उपयोग करते थे। यही वह अंतर था जिसे हमारे पिता भरना चाहते थे, और उन्होंने - अपने भाइयों के साथ - Ramsons Perfumes की शुरुआत की।”


विचार सरल था: इत्र को सस्ता बनाने के लिए ताकि मध्यम आय वर्ग के लोग भी इस "लक्जरी" वस्तु का आनंद ले सकें।


शुरुआती दिनों में, Ramsons ने रिसेलिंग के लिए स्थानीय निर्माताओं से इत्र मंगवाया। 90 के दशक के मध्य में, फाउंडर ने एक इन-हाउस प्रोडक्शन यूनिट शुरू की।


देखते ही देखते 38 साल बीत गए, और Ramsons Perfumes अब ओमनीचैनल उपस्थिति के साथ 100 करोड़ रुपये के टर्नओवर वाला फैमिली बिजनेस है।


कंपनी एक ओमनीचैनल मॉडल में काम करती है - यह सामान्य व्यापार के माध्यम से ऑफ़लाइन और ऑनलाइन माध्यम में Amazon, Nykaa, BigBasket, और अन्य जैसे ईकॉमर्स पोर्टल पर मौजूद है।


संजीव का कहना है कि Ramsons Perfumes; Nykaa पर सबसे ज्यादा बिकने वाले ब्रांडों में से एक है।

ताइक्वांडो चैंपियन रूपा बेयोर की कहानी

ताइक्वांडो खिलाड़ी रूपा बेयोर ने हाल ही में तीन अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में से दो में पदक जीते हैं। इस साल की शुरुआत में, वह वर्ल्ड ताइक्वांडो (WT) के G2 इवेंट में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला एथलीट भी बनीं।

रूपा बेयोर

रूपा बेयोर का जन्म अरुणाचल प्रदेश के एक छोटे से गाँव सिप्पी में हुआ था, जो जिला मुख्यालय दापोरिजो से 14 किमी दूर स्थित है। दो तरफ पिसा हिल और बाटम-बेहू पहाड़ी और दूसरी तरफ सुबनसिरी के बीच स्थित, यह इलाका सिर्फ कुछ सौ गांवों की आबादी का घर है।


ताइक्वांडो चैंपियन ने इस साल की शुरुआत में ज़ाग्रेब में 8 वीं क्रोएशिया ओपन इंटरनेशनल ताइक्वांडो चैंपियनशिप में महिला सीनियर 1 पूमसे इवेंट में कांस्य जीता। इसके साथ ही वह विश्व ताइक्वांडो (WT) के जी 2 इवेंट में पदक जीतने वाली पहली महिला भारतीय एथलीट बन गईं।


अरुणाचल प्रदेश के एक छोटे से गाँव से आने वाली ताइक्वांडो चैंपियन अपनी शर्तों पर जीवन जीने वाली एक स्वतंत्र महिला हैं।


YourStory से बात करते हुए वह बताती हैं, “अपने गाँव के अन्य बच्चों की तरह, मैंने अपने बचपन का अधिकांश समय अपनी माँ के साथ खेती में बिताया। जब मैं छोटी थी तब मेरे पिता का देहांत हो गया था। एक सिंगल पैरेंट के रूप में, मेरी माँ ने हमें पालने के लिए बहुत मेहनत की। चीजें कठिन थीं, लेकिन मैंने इसे प्रभावित नहीं होने देने के लिए दृढ़ संकल्प किया था।”


एक ऐसे समुदाय से ताल्लुक रखते हुए जहां लड़कियों की शादी 18 साल की उम्र से पहले कर दी जाती है, रूपा की कहानी भी दृढ़ संकल्प और महत्वाकांक्षा के साथ रूढ़ियों को तोड़ने की कहानी है। उनके परिवार के निरंतर समर्थन ने सुनिश्चित किया है कि वह विश्व प्रसिद्ध ताइक्वांडो खिलाड़ी बनने के अपने सपने को जी रही हैं।


रूपा अपने अगले टूर्नामेंट की तैयारी कर रही है - जून में एशियाई पूमसे ताइक्वांडो चैंपियनशिप, उसके बाद जुलाई में कोरिया ओपन, स्वीडन ओपन और सितंबर में चीन में 19वें एशियाई खेल।

इंजीनियरों को इंडस्ट्री के लिए तैयार कर रहा है स्टार्टअप Protrainy

Protrainy, सिविल इंजीनियरों को कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री का प्रैक्टिकल नॉलेज हासिल करने में मदद करता है। कंस्ट्रक्शन के बारे में स्टार्टअप के पास 60 से अधिक कोर्स हैं, और 9 हजार से अधिक रजिस्टर्ड यूजर हैं।

Protrainy

कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में श्रमिकों और इंजीनियरों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है और यह आगे बढ़ने के लिए तैयार है, हर साल इंजीनियरिंग कॉलेजों से ग्रेजुएट होने वाले लाखों छात्रों को अभी भी नौकरी पाने में मुश्किल होती है - और यह सब प्रैक्टिकल स्किल की कमी के कारण होता है।


भुवनेश्वर के एक सिविल इंजीनियर बिस्वजीत शॉ उनमें से एक थे। कॉलेज के अपने प्री-फाइनल ईयर में, उन्होंने एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में इंटर्नशिप करने के लिए संघर्ष किया। जब उन्होंने अंततः एक कॉर्पोरेट के साथ काम करना शुरू किया, और इंडस्ट्री में कुछ समय बिताने के बाद उन्हें एहसास हुआ कि कंपनियां नए लोगों को हायर करना पसंद नहीं करती हैं क्योंकि उनके पास अनुभव और प्रैक्टिकल नॉलेज की कमी है।


बिस्वजीत YourStory को बताते हैं, "कॉलेज की एजुकेशन आपको नॉलेज देती है, लेकिन स्किल की अभी भी कमी है। यह सभी मसालों की तरह है, लेकिन आपको किसी को यह बताने की जरूरत है कि उन मसालों और कच्चे माल को पनीर-दो-प्याजा में कैसे बदला जाए।”


उन्होंने इंजीनियरों और उन लोगों के लिए एक अपस्किलिंग प्लेटफॉर्म शुरू करने का फैसला किया, जो कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री के बारे में प्रैक्टिकल नॉलेज/स्किल हासिल करना चाहते थे। बस, इसी तरह Protrainy की शुरुआत हुई।


Protrainy अपने ऑनलाइन एजुकेशन प्लेटफॉर्म के जरिए इंडस्ट्री के लिए तैयार कंस्ट्रक्शन इंजीनियरों और श्रमिकों को तैयार करने में मदद करता है, जहां वर्तमान में इसके 60 से अधिक कोर्स हैं। प्लेटफॉर्म का उद्देश्य कॉरपोरेट्स, शैक्षणिक संस्थानों और व्यक्तियों की मदद करना है।


बिस्वजीत, जिन्होंने 2019 में कंपनी की सह-स्थापना की और 2021 में इसे फुलटाइम करने के लिए स्विच किया। बाद में उनके भाई बिशाल शॉ भी जुड़ गए। आयुष शर्मा, जोकि पहले हिंदुजा ग्रुप में जॉब करते थे; और आयुष कुमार, जिन्होंने भुवनेश्वर में बतौर इंटर्न 1.5 साल काम किया।


इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स द्वारा पढ़ाए जाने वाले कोर्स, अंग्रेजी और अधिकांश प्रमुख स्थानीय भाषाओं में हैं, और या तो 15 से 30 दिन या तीन से छह महीने में पढ़ाए जाते हैं।


15-30 दिन के कोर्स की कीमत 1,500-3,000 रुपये प्रति यूनिट है, और Protrainy के बिजनेस का 95 प्रतिशत हिस्सा है, जबकि 3-6 महीने के कोर्स की कीमत 25,000 रुपये से 40,000 रुपये प्रति यूनिट है, जो इसके रेवेन्यू का 5 प्रतिशत है।