अब क्या होगा जब बिटकॉइन का लक्ष्य बहुत बढ़ गया है

अक्सर बाजार में होने वाले उतार-चढ़ावों का असर निवेश संबंधी निर्णयों पर पड़ता है, और जिस तरह से इसने अतिरिक्त बिटकॉइन निवेश के लिए चुनौती पेश की, बिटकॉइन की कीमत आसमान पर पहुँच गईं, इनकी कीमतें दोगुनी हो गईं.

अब क्या होगा जब बिटकॉइन का लक्ष्य बहुत बढ़ गया है

Wednesday November 22, 2023,

6 min Read

कम समय में ही, ऐसा लगता है कि दुनिया 'हमें बिटकॉइन की ज़रूरत क्यों है?' से 'क्रिप्टो के समर्थन में विनियम कब शुरू होंगे?' या 'कब आखिरकार ETF अस्तित्व में आ जाएगा?' में पहुँच गई है. यह वास्तव में खुशी और गम का मिश्रित पल है. लगभग 15 सालों से अस्तित्‍व में रहे सातोशी नाकामोटो की नई पद्धति को नई मान्यता मिलने से खुशनुमा माहौल है. हालाँकि, इस बात को लेकर भी थोड़ी सी चिंता है कि क्या कीमतें कम रहने पर अधिक बिटकॉइन इकट्ठा करना बुद्धिमानी भरा कदम होता. अक्सर बाजार में होने वाले उतार-चढ़ावों का असर निवेश संबंधी निर्णयों पर पड़ता है, और जिस तरह से इसने अतिरिक्त बिटकॉइन निवेश के लिए चुनौती पेश की, बिटकॉइन की कीमत आसमान पर पहुँच गईं, इनकी कीमतें दोगुनी हो गईं और ETFs की उम्मीद कर रहे संस्थागत निवेशकों की पृष्ठभूमि के विरूद्ध 'Uptober' अपेक्षाओं को मान्य बना दिया है. यह हमारे सामने महत्वपूर्ण सवाल पेश करता है: बिटकॉइन का भविष्य क्या है?

बढ़ती ब्याज दरों के संबंध में जेरोम पॉवेल की भविष्यवाणियाँ अंततः सच हो गई हैं और इस बात का विरोध करने वाले लोगों को अभी भी इस पर भरोसा नहीं हो रहा है. पिछले कुछ सप्‍ताह से, ज़्यादातर वित्तीय विशेषज्ञों ने इस संभावना को ख़ारिज किया है कि बढ़ती ब्याज दरों से अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ेगा. हालाँकि, अब जब स्थिति यह है, शेयर बाजार में गिरावट निश्चित रूप से दिखाई दे रही है, साथ ही कर्ज पर बढ़ते ब्याज के चलते बड़े बैंकों का पतन हो जाने की संभावना है, और परिणामस्वरूप डॉलर सूचकांक और ट्रेज़री प्रतिफल में कमी आ गई है. बीच में 'ecessio' के साथ R से शुरू होकर N पर समाप्त होने वाला नौ अक्षरों का यह शब्द, ऐसा लगता है कि वित्तीय वर्ष समाप्त होने से पहले ही शुरू हो जाएगा, जब तक कि कुछ कठोर नीतिगत हस्तक्षेप करके इसे रोका नहीं जाएगा.

परंपरागत रूप से, यह हमेशा से बिटकॉइन के लिए अनुकूल रहा है क्योंकि लोग व्यापक रूप से बिटकॉइन को मुद्रास्फीति के खिलाफ बचाव के रूप में देखते हैं. हालाँकि, शेयर बाजार की कीमतें नीचे जाने पर, हम डर का वह कारक नष्‍ट नहीं कर सकते हैं जो पैदा हो सकता है. निवेशक शेयर और क्रिप्टो बाजार दोनों से एक साथ बाहर निकलने पर सोच-विचार कर सकते हैं, जबकि वह अभी भी इससे कुछ लाभ प्राप्त कर सकते हैं. इससे वास्तव में, कीमतों में सुधार, जो शुरू हो गया है, पर असर पड़ सकता है.

सभी संकेतक बाजार में तेजी, विशेष रूप से बिटकॉइन में तेजी और साथ ही आल्‍टकॉइन्‍स में वृद्धि का इशारा कर रहे हैं. जहाँ HODLers निवेश करना जारी रख सकते हैं या अपना फंड बनाए रख सकते हैं, वहीं हम कुछ चिंतित मौजूदा निवेशकों को लाभ प्राप्त करते हुए भी देख सकते हैं. मौजूदा निवेशक कुछ समय से SBF की नाकामयाबी और बेयर मार्किट के प्रभाव से लड़खड़ा रहे हैं, और ऐसे में जबकि कीमतें बढ़ रही हैं तो वे बाहर निकलने का मौका प्राप्त कर सकते हैं. नया समर्थन स्तर 31000 डॉलर पर माना जा रहा है, जिसका मतलब है कि इस स्तर पर, आने वाले महीनों में खरीदारों को बाजार के साथ सहभागिता करते हुए देखा जा सकता है, जिससे बीते साल के दौरान गिरावट का सामना करने वाले एक्सचेंजों में ट्रेडिंग गतिविधि को बढ़ावा मिल सकता है.

हालाँकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कीमतों में बढ़ोतरी बिटकॉइन ETFs के पूर्वानुमान में चल रही है, जिसका Blackrock, VanEck, और GrayScale जैसे संस्थागत वित्तीय दिग्गजों द्वारा अनुरोध किया गया है. जब भी इसकी स्‍वीकृति मिल जाएगी, तो यह एक बड़ी जीत होगी. इस कदम से क्रिप्टो में बहुत अधिक मात्रा में पैसा आ सकता है.

लेकिन अगर यह इस वित्तीय तिमाही में होता है, तो बाजार का विकास धीमा पड़ जाएगा क्योंकि प्रतिभागी इस कदम से प्रभावित होंगे. इसका मतलब है कि अगर ETF को मंजूरी मिलने और बिटकॉइन हाल्विंग की अगली घटना के बीच बड़ा अंतराल रहता है, तो कीमतों में अगली उछाल के लिए बाजार को एक और प्रोत्साहन चाहिए होगा. अगर ETF प्रभावी होने के बाद प्रतिभागियों के लिए प्रोत्साहक प्रतीत होने वाला कोई मुख्य कारक नहीं होगा, तो कीमतों में कुछ गिरावट देखी जा सकती है, यहाँ तक कि कीमतें 31000 डॉलर के स्तर से भी नीचे जा सकती हैं. अनिवार्य रूप से, हाल्विंग की घटना से पहले पुनरुत्‍थान होगा.

वहीं दूसरी ओर, जहाँ BTC की कीमतों में नवीनतम उछाल के लिए Fed द्वारा समर्थित बिटकॉइन ETF की मंजूरी की उम्मीद कर रहे बाजार को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है, वहीं यह विशेष रूप से पूरे एशिया के बाजारों में बिटकॉइन की खरीद में उछाल आने के चलते हुआ है, जहाँ मेकर्स ने टोकन की कॉल ऑप्‍शन खरीदारी का रूख किया है. रिलेटिव स्ट्रेंथ इंडेक्स ने भी पिछले कुछ सप्‍ताह में अधिक खरीददारी की स्थितियों का अनुमान लगाया है. संस्थागत निवेशकों को जोर-शोर से बिटकॉइन के रक्षक के रूप में पेश किया जा रहा है क्योंकि उनके हस्तक्षेप ने बाजार की भावना को बढ़ावा दिया है और अक्सर कीमतों के संदर्भ में अद्भुत काम किया है.

लेकिन यह ध्यान रखना जरूरी है कि उनमें से कई निवेशक जो हेज फंड, क्रेडिट या इक्विटी में कारोबार करते हैं, अभी भी इस एसेट से जुड़े प्रतिष्ठा संबंधी और साथ ही वित्तीय जोखिमों के चलते क्रिप्टो में निवेश करने के लिए उत्‍सुक नहीं हो सकते हैं.

इसके अलावा, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि बाजार में अभी भी बड़े पैमाने पर लिक्विडिटी की कमी है और जहाँ जागरूकता कई गुना बढ़ी है, वहीं पर्याप्त लिक्विडिटी के बिना, स्वीकृति और भागीदारी सीमित है. अंत में, हमने कीमतों में भारी उछाल के बाद एकीकरण के चरण देखे हैं, जो बाजार को सुधार मोड में ले जाते हैं. अगर समर्थन स्तर 31 हजार डॉलर पर स्थिर नहीं होता है, तो BTC की कीमत 29 हजार डॉलर पर स्थिर हो सकती है और हम तब तक यह स्थिति बनी रहते हुए देख सकते हैं जब तक कि ETF को मंजूरी नहीं मिल जाती है या संभावित मंदी को देखते हुए शेयर बाजार या पारंपरिक मुद्रा कोष के संकटों से बचने के लिए नए उपयोगकर्ता क्रिप्टो में कदम नहीं रखते हैं.

(लेखक WazirX के वाइस-प्रेसीडेंट हैं. आलेख में व्यक्त विचार लेखक के हैं. YourStory का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है.)


Edited by रविकांत पारीक

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors