आखिर ब्रिटेन में क्यों प्रति 7 में से 1 व्यक्ति खाना नहीं खा रहा है? आकड़ें कुछ और ही कह रहे हैं

By Rajat Pandey
October 21, 2022, Updated on : Fri Oct 21 2022 03:09:21 GMT+0000
आखिर ब्रिटेन में क्यों प्रति 7 में से 1 व्यक्ति खाना नहीं खा रहा है? आकड़ें कुछ और ही कह रहे हैं
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

ब्रिटेन (Britain) में 3000 से अधिक लोगों पर किए गए सर्वेक्षण के आधार पर, यह देखा गया कि जीवन यापन की कीमतों में वृद्धि के कारण परिवार कम भोजन कर रहे हैं.


Trades Union Congress (TUC) द्वारा जारी नए पोलिंग आंकड़ों के अनुसार, ब्रिटेन (Britain) में सात में से एक व्यक्ति भोजन छोड़ रहा है या भोजन के बिना रह रहा है.


ओपिनियम (Opinium) के एक एमआरपी (MRP) पोल के आंकड़ों से पता चलता है कि आधे से अधिक ब्रिटिश लोग जीवन यापन की लागत में हीटिंग, गर्म पानी और बिजली पर कटौती कर रहे हैं, और 12 में से एक ऐसे भी हैं जो अपना घरेलू बिल का भुगतान तक नही कर पा रहे हैं.

सात में से एक व्यक्ति भोजन छोड़ रहा

10%  महंगाई दर के चलते, पोलिंग में पाया गया कि सात में से एक व्यक्ति भोजन छोड़ रहा है, लेकिन देश भर के लगभग 50 क्षेत्रों में यह पांच में से एक व्यक्ति तक पहुंच गया है.


यह पता चलता है कि ब्रिटेन का Birmingham Ladywood 29% पर बिना भोजन के रहने वाले लोगों की सबसे अधिक संख्या वाला क्षेत्र है, इसके बाद Dundee West  27%, ग्लासगो 24% और Rhondda 24% है.


यूके में रह रहे या उसके बाहर रह रहे लोगों के लिए भोजन छोड़ने वाले लोगों का अनुपात 14%, जबकि लगभग 44% लोगों का कहना है कि उन्हें खाने के खर्च में कटौती करनी पड़ रही है.

 

न्यूनतम मजदूरी बढ़ाना है जरुरी 

 TUC का कहना है कि जीवन यापन की लागत पर निष्कर्ष पूरे ब्रिटेन में परिवारों के सामने आने वाले दबावों का "स्टार्क रिमाइंडर" है. यह सरकार को महंगाई दर के अनुरूप सार्वभौमिक ऋण, लाभ और पेंशन को बढ़ाने, महंगाई दर के अनुरूप सार्वजनिक क्षेत्र के वेतन में वृद्धि करने और न्यूनतम मजदूरी को जल्द से जल्द £ 15 (लगभग 1390 रुपए) प्रति घंटे तक बढ़ाने की योजना पर टिके रहने का आह्वान करता है.


इसमें कहा गया है कि सर्वेक्षण से पता चलता है कि ब्रिटेन में 10 में से लगभग सात लोग न्यूनतम वेतन बढ़ाकर £15 प्रति घंटा करने के समर्थन में हैं.

बिल बढ़ रहे हैं, लेकिन मजदूरी घट रही

TUC के जनरल सेक्रेटरी Frances O’Grady ने कहा कि "खाद्य और ऊर्जा बिल बढ़ रहे हैं, लेकिन वास्तविक मजदूरी घट रही है. जब तक हमें पूरी अर्थव्यवस्था में वेतन वृद्धि नहीं मिलती और महंगाई दर के अनुरूप लाभ में वृद्धि सुनिश्चित नहीं होती है. हम गरीबी के विक्टोरियन स्तरों की ओर बढ़ने का जोखिम उठाते हैं.


“घरों को इस संकट से निकालने में मदद करने के लिए रूढ़िवादियों (Conservatives) को यूनियनों के साथ काम करना चाहिए. लेकिन वे कामकाजी लोगों के लिए बेहतर वेतन और शर्तें हासिल करना कठिन बनाना चाहते हैं.


एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा: "सरकार काम का भुगतान करने के लिए दृढ़ है और अप्रैल में हमने राष्ट्रीय जीवनयापन वेतन को बढ़ाकर 9.50 पाउंड (लगभग 883 रुपए) कर दिया, जो 2016 में इसकी शुरुआत के बाद से अब तक की सबसे बड़ी वृद्धि है.