JioMart ने क्यों बंद कर दी अपनी क्विक डिलीवरी सर्विस 'Express', कर्मचारियों का क्या?

रिलायंस रिटेल के एक प्रवक्ता ने ईटी के साथ इस ख़बर की पुष्टि की. प्रवक्ता ने कहा कि JioMart Express केवल चुनिंदा उपयोगकर्ताओं के लिए एक पायलट था.

JioMart ने क्यों बंद कर दी अपनी क्विक डिलीवरी सर्विस 'Express', कर्मचारियों का क्या?

Wednesday February 15, 2023,

3 min Read

रिलायंस रिटेल (Reliance Retail) के JioMart ने JioMart Express को बंद कर दिया है. क्विक कॉमर्स ग्रोसरी डिलीवरी सर्विस को पिछले साल मार्च में शुरू किया गया था. ईटी ने मामले से अवगत लोगों के हवाले से इसकी जानकारी दी.

यूजर अब Google Play Store से JioMart Express ऐप डाउनलोड नहीं कर सकते, और इसकी वेबसाइट भी निष्क्रिय है. इसके बजाय, यह यूजर को व्हाट्सएप पर JioMart को आज़माने का निर्देश दे रही है जहाँ JioMart Express के उलट डिलीवरी में कम से कम कुछ घंटे या अगले दिन लग रहे हैं. JioMart Express 90 मिनट में ग्रोसरी डिलीवर करता था.

इसका मतलब है कि क्विक सर्विस डिलीवरी अब JioMart पर उपलब्ध नहीं है.

व्हाट्सएप के जरिए JioMart ऑर्डर Meta Inc और Reliance के Jio प्लेटफॉर्म के बीच साझेदारी का हिस्सा है.

JioMart Express को नवी मुंबई में लॉन्च किया गया था और मुंबई स्थित समूह की इसे लगभग 200 शहरों में ले जाने की योजना थी.

why-did-mukesh-ambani-reliance-retail-jiomart-stop-its-quick-delivery-service-jiomart-express-quick-commerce-grocery-delivery

ईटी ने सूत्रों के हवाले से कहा, “वे (JioMart) इस तरह के भारी-भरकम व्यवसाय में नहीं रहना चाहते हैं. पिछले साल प्रचार के बीच, उन्होंने एक्सप्रेस डिलीवरी के साथ भी प्रयोग किया, लेकिन यह जारी नहीं रहेगा.”

रिलायंस रिटेल के एक प्रवक्ता ने ईटी के साथ इस ख़बर की पुष्टि की. प्रवक्ता ने कहा कि JioMart Express केवल चुनिंदा उपयोगकर्ताओं के लिए एक पायलट था.

ईटी के मुताबिक, कंपनी ने एक बयान में कहा, “किराने में रिलायंस रिटेल का डिजिटल कॉमर्स बहुआयामी बना हुआ है. किराना स्टोर के साथ अधिक-पहुंच वाला नया कॉमर्स मॉडल, JioMart वर्तमान में 350 से अधिक शहरों में मौजूद है. WhatsApp पर JioMart और 35 से अधिक शहरों में MilkBasket सब्सक्रिप्शन सेवाएं ऐसी पहल हैं जिनका विविध उपभोक्ता आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विस्तार किया जा रहा है. ”

स्टार्टअप्स के लिए चल रही फंडिंग विंटर की वजह से क्विक कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स का कैश-ग्लोइंग बिजनेस मॉडल निवेशकों की जांच के दायरे में आ गया है.

Swiggyस्विगी के Instamart, Zomato के Blinkit, Zepto, Bigbasket के BB Now जैसे मौजूदा खिलाड़ी लगातार औसत ऑर्डर मूल्य बढ़ाने या यहां तक कि उपभोक्ताओं को प्रत्येक ऑर्डर पर लागत में कटौती करने के लिए लंबी डिलीवरी समयसीमा में शामिल करने की कोशिश कर रहे हैं.

क्विक कॉमर्स स्टार्टअप Dunzo में भी रिलायंस रिटेल सबसे बड़ा निवेशक है. ईटी ने जनवरी में रिपोर्ट दी थी कि Dunzo में प्लान किए जा रहे नए फंडिंग राउंड में रिलायंस रिटेल अपेक्षाकृत छोटा चेक लिख सकता है. Dunzo ने पिछले महीने अपने लगभग 3% कर्मचारियों को निकाल दिया और पिछले साल बढ़ती परिचालन लागत पर लगाम लगाने के लिए महत्वपूर्ण बदलाव किए.

JioMart की Express सर्विस के लिए Dunzo के डिलीवरी बेड़े का उपयोग करने की योजना थी. मामले की जानकारी रखने वाले एक शख्स ने कहा, 'Dunzo पर JioMart Express के बहुत कम ऑर्डर आए.'

Zomato के स्वामित्व वाले Blinkit ने तिमाही-दर-तिमाही में औसत ऑर्डर वैल्यू को तीसरी तिमाही में 568 रुपये से घटाकर 553 रुपये कर दिया, लेकिन हर दूसरे प्रमुख मीट्रिक - कुल ऑर्डर, औसत मासिक लेन-देन करने वाले ग्राहक, और औसत सकल ऑर्डर मूल्य प्रति दिन प्रति डार्क स्टोर - बढ़ा हुआ है.

यहां तक कि 15-30 मिनट की डिलीवरी के चरम प्रचार के बीच, फ्लिपकार्ट (Flipkart) और अमेज़ॅन (Amazon) काफी हद तक क्विक डिलीवरी से दूर रहे हैं.

जैसा कि कई और स्टार्टअप्स ने अपनी सर्विस बंद करने या कारोबार बंद करने पर कर्मचारियों की छंटनी की/उन्हें नौकरी से निकाल दिया, JioMart के Express सर्विस बंद करने के बाद ये सवाल उठता है कि इसके कर्मचारियों का क्या?