95% गिरने के बाद अब रोज लग रहा अपर सर्किट, अनिल अंबानी की इस कंपनी पर क्यों टूट पड़े हैं निवेशक

By Anuj Maurya
January 11, 2023, Updated on : Wed Jan 11 2023 06:58:50 GMT+0000
95% गिरने के बाद अब रोज लग रहा अपर सर्किट, अनिल अंबानी की इस कंपनी पर क्यों टूट पड़े हैं निवेशक
पिछले 5 सालों में अनिल अंबानी की रिलायंस कैपिटल के शेयर करीब 95 फीसदी तक टूटे हैं. अब इस अचानक से निवेशक इस पर टूट पड़े हैं. शेयर में हर रोज अपर सर्किट लग रहा है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अनिल अंबानी (Anil Ambani) की कर्ज में डूबी कंपनी रिलायंस कैपिटल लिमिटेड (Reliance Capital Ltd.) के बारे में कौन नहीं जानता. ये वही कंपनी है, जिस पर भारी कर्ज होने की वजह से निवेशकों ने इससे दूसरी बनानी शुरू कर दी थी. इस शेयर देखते ही देखते 95 फीसदी से भी अधिक गिर गया, लेकिन अब एक बार निवेशक इसके शेयरों पर टूट पड़े हैं. नया साल अनिल अंबानी की इस कंपनी के लिए बहुत ही शानदार साबित हो रहा है. इस साल हर दिन कंपनी के शेयर में अपर सर्किट (Upper Circuit) लग रहा है. सवाल ये है कि आखिर ऐसा क्या हो गया कि निवेशक इस शेयर पर टूट पड़े हैं?

पहले हुआ भारी नुकसान, अब तगड़ा मुनाफा

अगर रिलायंस कैपिटल के शेयरों का पिछले 5 सालों का इतिहास देखें तो पता चलता है कि कंपनी के शेयर करीब 95 फीसदी तक गिरे हैं. करीब 5 साल पहले कंपनी का शेयर लगभग 216 रुपये के लेवल पर था. हालांकि, इस साल के 7 कारोबारी सत्रों में हर दिन अपर सर्किट लगा है, जिसके चलते इन 7 दिनों में ही कंपनी के शेयर की कीमत में करीब 33 फीसदी का इजाफा हुआ है.

कितने रुपये का है कंपनी का शेयर?

अगर आज यानी बुधवार, 11 जनवरी की बात करें तो कंपनी का शेयर 11.70 रुपये के लेवल पर है. 2 जनवरी को कंपनी का शेयर 8.85 रुपये के लेवल पर बंद हुआ था. उसके बाद से ही इस कंपनी के शेयर में आए दिन अपर सर्किट लग रहा है.

क्यों लग रहा है हर रोज अपर सर्किट?

इस कंपनी के शेयर में लगातार अपर सर्किट लगने की एक बड़ी वजह है इसकी दिवालिया प्रक्रिया. इसके तहत पहला दौर पूरा हो चुका है, लेकिन कर्जदाता उस नीलामी से मिली राशि से संतुष्ट नहीं हैं. ऐसे में दूसरे दौर की नीलामी की बात चल रही है. पहले दौर में अहमदाबाद के टोरेंट ग्रुप ने 8640 करोड़ रुपये की सबसे बड़ी बोली लगाई थी. वहीं हिंदुजा ग्रुप ने 8110 करोड़ रुपये की बोली लगाई है. अब दूसरे दौर की नीलामी की बात हो रही है, लेकिन टोरेंट ग्रुप इसके खिलाफ कोर्ट जा पहुंचा है.

मुकेश अंबानी के साथ निकल रहा कनेक्शन

अगर दूसरे दौर की नीलामी होती है तो इस बार नीलामी प्रक्रिया में पीरामल-कोस्मिया और ओकट्री के भी शामिल होने की खबरें हैं. बता दें कि पीरामल लाइफ साइंस लिमिटेड के डायरेक्टर आनंद पीरामल मुकेश अंबानी के दामाद हैं. ऐसे में मुमकिन है कि शेयरों की तेजी की एक बड़ी वजह मुकेश अंबानी के साथ का ये कनेक्शन भी हो.