क्यों गूगल की इस पूर्व एंप्लाई और एडवर्टाइजमेंट एग्जीक्यूटिव ने शुरु किया कंटेंट मोनेटाइजेशन स्टार्टअप

By Sindhu Kashyaap
June 23, 2021, Updated on : Thu Jun 24 2021 06:38:57 GMT+0000
क्यों गूगल की इस पूर्व एंप्लाई और एडवर्टाइजमेंट एग्जीक्यूटिव ने शुरु किया कंटेंट मोनेटाइजेशन स्टार्टअप
कविता शेनॉय ने 2014 में आनंद गोपाल, अनिल करात और जितिन जॉर्ज के साथ मिलकर वोइरो (Voiro) की स्थापना की थी। रेवेन्यू मैनेजमेंट स्टार्टअप कंटेंट मोनेटाइजेशन के सेक्टर में काम करता है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

"बेंगलुरु स्थित यह स्टार्टअप कंटेंट कंपनियों को हाई क्वालिटी वर्क देने में सक्षम बनाता है और उन्हें "सही परिप्रेक्ष्य के महत्व" को समझने में मदद भी करता है। आज बाजार में तेजी से बढ़ते ओटीटी और वीडियो प्लेटफॉर्म के साथ, कई कंटेंट प्लेटफॉर्म को यह समझने की जरूरत है कि रेवेन्यू कैसे उत्पन्न किया जा सकता है।"

k

कविता शेनॉय ने विज्ञापन यानी एडवर्टाइजमेंट की दुनिया में कदम रखने से पहले - एक मिस्ट्री शॉपर, एक प्रोस्थेटिक मेकअप आर्टिस्ट और एक वीडियो एडिटर के रूप में भी काम किया था। हालांकि इन सबके केंद्र में जो एक बात थी वह मीडिया के प्रति उनका जुनून था।


कविता योरस्टोरी को बताती है,

"पूरी टीम और फर्म को अपने पैरों पर खड़ा करने वाले इस जुनून से अनजान होने से लेकर यहां तक पहुंचने तक, एक उद्यमी के रूप में मेरे लिए यह एक अविश्वसनीय अनुभव रहा है।"


पहले लोव लिंटास और फिर बाद में YouTube के साथ बतौर एडवरटाइजिंग एग्जीक्यूटिव के रूप में काम करने के दौरान उन्होंने देखा कि कई पब्लिशर्स अपने नेटवर्क टैलेंट और संसाधनों का उपयोग करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। इन 17 वर्षों के दौरान, कविता ने देखा कि मीडिया कंपनियों के पास रेफरल का इस्तेमाल करके विज्ञापन स्पॉट भरने का सिस्टम था, और पब्लिशर्स को भी इसे प्रभावी ढंग से मैनेज करना मुश्किल होता था। इस प्रकार, उन्होंने नए युग की तकनीकों के साथ इस अंडरसर्व्ड सेगमेंट से निपटने का फैसला किया।

Voiro की शुरुआत

कविता ने आनंद गोपाल, अनिल करात और जितिन जॉर्ज के साथ मिलकर 2014 में वोइरो शुरू किया। यह एक रेवेन्यू मैनेजमेंट स्टार्टअप है जिसे विशेष रूप से कंटेंट मोनेटाइजेशन स्पेस को एड्रेस करने के लिए शुरू किया गया था।


कविता कहती हैं,

"मीडिया संगठनों में, जब प्रक्रियाओं को मैन्युअल रूप से निष्पादित किया जाता है, तो कार्य दोहराए जाते हैं, जिससे उचित परिणाम उत्पन्न करना मुश्किल हो जाता है।"


बेंगलुरु स्थित यह स्टार्टअप कंटेंट कंपनियों को हाई क्वालिटी वर्क देने में सक्षम बनाता है और उन्हें "सही परिप्रेक्ष्य के महत्व" को समझने में मदद भी करता है। आज बाजार में तेजी से बढ़ते ओटीटी और वीडियो प्लेटफॉर्म के साथ, कई कंटेंट प्लेटफॉर्म को यह समझने की जरूरत है कि रेवेन्यू कैसे उत्पन्न किया जा सकता है।


असल में, पब्लिशर्स भी एडटेक स्पेस में इस गैप से और इस बात से भी अवगत थे कि कैसे टेक्नोलॉजी उनके काम करने के तरीके को बदलने में उनकी मदद कर सकती है। इसलिए, कंटेंट मालिकों और एग्रीगेटर्स के लिए अब रीच और रेवेन्यू उत्पन्न करने के लिए गैर-टीवी प्लेटफॉर्म की ओर देखना आम बात है। इस प्रकार, Voiro पब्लिशर्स के साथ साझेदारी करता है और उन्हें इंटरनल रेवेन्यू ऑपरेशन्स यानी आंतरिक राजस्व संचालन और उससे जुड़े डेटा मैनेजमेंट को सुचारू और स्केलेबल बनाने के लिए समाधान प्रदान करता है।

कंटेंट के साथ खेलना

कविता का कहना है कि वोइरो को इंटरनेट पर कंटेंट सैंपलिंग में पहले से ही एडवांटेज था। वह कहती हैं, "जब हमने इस कंपनी की शुरुआत की, तो हमने कंटेंट प्रोड्यूसर्स के पेन प्वाइंट को समझने और पर्दे के पीछे क्या चल रहा है, इसकी गहरी समझ हासिल करने के लिए कंटेंट प्रोड्यूस करना शुरू किया।"


वोइरो पब्लिशर्स और ओटीटी स्पेस में प्रोसेस और विभिन्न बुनियादी ढांचे को स्वचालित करता है और कंपनियों को इंडस्ट्री में अग्रणी ओटीटी प्लेयर्स में फैले डोमेन विशेषज्ञता के साथ, हमेशा बदलते कंटेंट की दुनिया के लिए तैयार होने में मदद करता है।


कविता कहती हैं, "हमारे सभी समाधान कंपनियों और पब्लिशर्स को कंपनी के लक्ष्यों के अनुरूप हाई क्वालिटी वर्क प्रदान करने में सक्षम बनाते हैं, और हमेशा की तरह, RoI वह मंत्र है जिस पर हर व्यवसाय का निर्माण होता है।"

उत्पत्ति

YouTube के साथ मीडिया मैनेजर के रूप में काम करते हुए, कविता एक पार्टनर मैनेजर के साथ एक स्थानीय बेंगलुरु टीवी चैनल में चली गईं। वह कहती हैं, "जल्द ही YouTube पर एड स्पेस (विज्ञापन) सभी के लिए सुलभ हो गया, और वीडियो की दुनिया हमेशा के लिए बदल गई।" ऐसे में जब टीवी इंडस्ट्री मर रही थी, तब टीम ने संसाधनों में निवेश किया और उन्हें विश्वास था कि YouTube उन्हें अपने क्षेत्र में एक पहचान बनाने में सक्षम करेगा। यह वोइरो की शुरुआत थी।


कविता आनंद को पहले से जानती थीं, जिन्होंने ग्राहकों के लिए चुनौतियों को हल करने के लिए सकारात्मक प्रभाव डालने के अपने जुनून को भी साझा किया। वह कहती हैं कि समस्या को सुलझाने का यह रवैया स्टार्टअप के संचालन का 'होली ग्रेल' है।

k

कविता कहती हैं,

“आनंद एक एक्सपर्ट डेटा साइंटिस्ट थे, जिनके पास मीडिया में सीमित अनुभव था, और वह मेरे साथ एडटेक की दुनिया को समझने आए थे। हम अब भी दिन में कम से कम 10 बार एक-दूसरे से बात करते हैं - क्योंकि अभी भी सीखने, करने और कुछ बनाने के लिए बहुत कुछ बाकी है।"


मार्च 2021 में, स्टार्टअप ने मेला वेंचर्स और अर्ली-स्टेज वीसी फंड और एंजेल प्लेटफॉर्म 1क्राउड के नेतृत्व में प्री-सीरीज ए राउंड में 1.8 मिलियन डॉलर जुटाए थे। 1Crowd ने 2019 में वोइरो में सीड राउंड में भी निवेश किया था। पिछले छह वर्षों में, प्लेटफॉर्म मीडिया क्षेत्र में पसंदीदा रेवेन्यू मैनेजमेंट पार्टनर बन गया है, जो मुख्य टेक्नोलॉजी स्टैक में अपना स्थान अर्जित कर रहा है। इसने प्रमुख मीडिया कंपनियों और पब्लिशर्स में मोनेटाइजेशन टीमों को संचालित किया है, जिसमें आईपीएल, ऑस्कर, बिग बॉस और फ्लिपकार्ट के बिग बिलियन डे जैसे मार्की लाइव इवेंट शामिल हैं।

गूगल डबलक्लिक

मुंबई युनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, कविता ने लोव लिंटास के साथ काम करना शुरू किया, जहां उन्होंने Google सहित देश के कुछ सबसे बड़े उपभोक्ता ब्रांडों को मैनेज किया। बाद में वह Google की YouTube टीम में शामिल हो गईं।


वह कहती हैं, "मेरे लिए एक और बड़ी कामयाबी ये थी मैं एक ऐसी कंपनी के साथ काम कर रही थी जिसने विज्ञापन जगत का चेहरा हमेशा के लिए बदल दिया - Google। मैंने भारत में डबलक्लिक यूट्यूब के इन-कंट्री सपोर्ट को लॉन्च करने का नेतृत्व किया और फिर इसे दक्षिण पूर्व एशिया में आगे बढ़ाया।" 


वह कहती हैं, "मेरा काम कम्प्लायंट लॉन्च और प्रोग्राम्स को डिलीवर करने के लिए एडवोकेसी और गवर्नेंस फ्रेमवर्क के माध्यम से Google मीडिया प्लेटफॉर्म पॉलिसी को ट्रांसलेट करना था। आईपीएल कार्यक्रम के निष्पादन के लिए मैं अकेले जिम्मेदार थी और यह पहचान मेरे लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ थी।”


Google के लिए बड़े विज्ञापनदाता कार्यक्रमों के लिए काम करते हुए, कविता ने महसूस किया कि डिजिटल पब्लिशर्स लगातार टेक्नोलॉजी के साथ पकड़ बना रहे थे। वे डेटा की खान पर बैठे थे और शायद इसका केवल 10 प्रतिशत ही इस्तेमाल कर रहे थे। टीम ने समस्याओं को निपटाने के लिए और स्केलेबल समाधान खोजने के बीच संतुलन बनाने के लिए अपना समय लिया, जिसमें रेजर-शार्प फोकस था और इस तरह रेवेन्यू में वृद्धि हुई थी।

चुनौतियाँ

एक और चुनौती सही प्रोडक्ट-मार्केट में फिट होना था क्योंकि एडटेक बाजार अत्यधिक अस्थिर है। कविता बताती हैं कि टीम को बाजार से आगे रहना था और ऐसे समाधान विकसित करने थे जो वास्तव में मीडिया के वर्कफ्लो में बदलाव ला सकें।


वह कहती हैं,

“हम इंडस्ट्री, परिवार और दोस्तों की सलाहों पर निर्भर थे। हमें बड़ी तस्वीर देखनी थी और अपने लक्ष्यों का पता लगाना था। यह समझना मुश्किल था कि कैसे निर्माण और विस्तार करना है, खासकर तब जब हम भारत में सबसे बड़े ओटीटी कंपनियों की सेवा कर रहे थे। हमें सचेत रूप से देखना था कि बाजार कैसे काम करता है और हमें अपने क्षितिज को कहां बड़ा करना है।”


एक और बड़ी चुनौती कंपनी के लिए निवेश बढ़ाना था। कविता का कहना है कि बूटस्ट्रैप्ड कंपनी होने या बाहरी निवेश प्राप्त करने के कई फायदे और नुकसान हैं।


वह आगे कहती हैं,

“हमारे सामने दो विकल्प थे। या तो हमें किनारे पर पड़े रहना और बूटस्ट्रैप्ड रहकर लगातार दबाव झेलना था, या निवेशकों के साथ ऐसे माहौल में काम करना था जो एडटेक संगठनों के अनुकूल नहीं थे। फंड जुटाना भी स्टार्टअप के लिए टेढ़ी खीर है।”


डैकास्ट के अनुसार, पिछले साल कुल वीडियो विज्ञापनों में 46 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जिसमें लाइव कंटेंट की मार्केट हिस्सेदारी दोगुनी हो गई। असल में, स्ट्रीमिंग सर्विसेज के लिए उपभोक्ता खर्च 2020 में करीब 17 अरब डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है।

महिला उद्यमियों को सलाह

Voiro अब मीडिया एनालिटिक्स और रेवेन्यू मैनेजमेंट में काम करने के लिए सबसे अच्छे स्थानों में से एक होने पर ध्यान केंद्रित कर रहा है, और हर महाद्वीप में एक मार्की ग्राहक के साथ, रेवेन्यू मैनेजमेंट स्पेस में पब्लिशर्स के लिए अग्रणी भागीदारों में से एक बनना चाहता है।


कविता कहती हैं, "दूसरे शब्दों में कहें, तो मैं चाहती हूं कि वोइरो ब्रांड को "बिजनेस इंटेलिजेंस की फेरारी" के रूप में देखा जाए।"


महिला उद्यमियों को सलाह देते हुए, कविता कहती हैं, "जब चीजें ठीक नहीं होती हैं, जब आपको हार मानने का मन करता है, और जब आप किसी ऐसी चीज का सामना करते हैं, जो आपको रोकना चाहती है, तो बस सांस लें और सही मौके पर चौका मारें!"


वह आगे कहती हैं, "इसने 17 से अधिक वर्षों तक मुझे प्रेरित किया है। समस्या जो भी हो, हमेशा लंबे खेल के बारे में सोचें। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने अपना प्रमोशन, जॉब, लोग, विश्वास, पैसा, या वह सब कुछ खो दिया है जो मायने रखता है। बस मौके पर चौका मारें और आपको कोई रास्ता मिल जाएगा।” 


वह महिलाओं को "पूछते रहने" के लिए भी प्रोत्साहित करती है।


वह कहती हैं, "उस प्रमोशन, वेतन या छुट्टी के लिए पूछें जिसका आप इंतजार कर रहे हैं। हम जो चाहते हैं उसके बारे में मुखर होने और उसके पीछे जाने के लिए खुद पर निर्भर हैं। लगातार, फ्लेक्सिबल रहें और जब तक आपको अपना हक नहीं मिल जाता तब तक हार न मानें।"


Edited by Ranjana Tripathi