35,000 रुपये का निवेश कर इस महिला उद्यमी ने खड़ा किया 10 करोड़ रुपये का बिजनेस

35,000 रुपये का निवेश कर इस महिला उद्यमी ने खड़ा किया 10 करोड़ रुपये का बिजनेस

Monday September 30, 2019,

4 min Read

उत्तर प्रदेश के एक छोटे से शहर बुलंदशहर में पली-बढ़ीं, रचना बावा फैशन के प्रति गहरी समझ के लिए काफी लोकप्रिय रही हैं। वह सस्ते कपड़े खरीदती, अपने आउटफिट्स डिजाइन करती, और उन्हें स्थानीय दर्जी से सिलाई करवाती थीं। जल्द ही, लोगों ने यह नोटिस करना शुरू कर दिया कि उसने क्या पहना था और लोग उनकी स्टाइल की तारीफ करने लगे।


यह इस छोटे शहर की लड़की के लिए यह एक ऐसे सपने की शुरुआत थी जो एक दिन इसे फैशन व्यवसाय में बड़ी शख्सियत बना देगी।


k

रचना बावा, Anaya Collections की फाउंडर


रचना ने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (निफ्ट) से कंप्यूटर एडेड डिजाइन (सीएडी) में कोर्स किया, और इसके तुरंत बाद नई दिल्ली में एक एक्सपोर्ट हाउस में शामिल हो गईं।

ऐसे सीखा काम करने का तरीका

मिड नाइंटीज की बात है, उस समय रचना ने शुरुआत में 4,500 रुपये बतौर सैलरी मांगे। लेकिन एक्सपोर्ट हाउस चलाने वाले दंपति ने 4,000 रुपये सैलरी का वादा किया, और अच्छा परफॉर्म करने पर इसे बढ़ाने को कहा।


रचना कहती हैं,


“मैं अपनी नौकरी से खुश थी क्योंकि मैं बहुत तेजी से सीख रही था। जल्द ही, मैंने हर विभाग में काम करने के तरीके को सीख लिया और यहां तक कि मुझे खुद का एक केबिन भी दे दिया गया। एक बार, हम एक शो में भाग ले रहे थे, और मेरे बॉस को स्टाल का डिजाइन ठीक नहीं लगा। मैंने इसमें मदद की और हमने सर्वश्रेष्ठ डिजाइन के लिए पुरस्कार जीता। सबसे अच्छी बात यह थी कि मुझे तत्कालीन टेक्सटाइल मिनिस्टर से अवॉर्ड लेने के लिए कहा गया था, और यह सच में मेरे लिए एक बड़ी बात थी।"


लगभग चार से पांच वर्षों में, रचना कुछ नया करने की सोचने लगीं, और इसलिए वह एक छोटे से सेटअप में काम करने के लिए चली गईं जो स्कार्फ और स्टोल बेचता था। जल्द ही, उन्होंने फैसला किया कि उनके लिए यह वह समय है जब उन्हें खुद का कुछ शुरू करना चाहिए।





और इस प्रकार एक पीजी रूम में 'अनाया कलेक्शन' शुरू हुआ। रचना ने इसमें अपनी बचत से 35,000 रुपये का निवेश किया। उन्होंने कुछ कपड़े खरीदे और ठीक कढ़ाई और अन्य जटिल काम के अलावा अपनी डिजाइनों को संवारने के लिए कुछ कारीगर जोड़े।


वह याद करती हैं,


“मेरे पति, जिन्हें मैं उस समय डेट कर रही थो वो मेरे परिवार के दोस्त थे और उस समय मेरे लोकल गार्जियन भी थे। मैं और मेरा ऑफिस ऑर्डर की सप्लाई करने के लिए उनकी मारुति जेन इस्तेमाल करते थे। मेरे रूम में मेरे बेड बॉक्स को हमने अपने कपड़ों के लिए स्टोरेज स्पेस के रूप में इस्तेमाल किया था।”
k

भारत और दुनिया पर कब्जा करना

जल्द ही, रचना को ऑर्डर मिलने लगे और 2004 में अनाया को दिल्ली में एक कंपनी के रूप में पंजीकृत कराया गया। वह जल्द ही हेरिटेज और ईस्ट इंडिया कंपनी जैसे हाई-एंड बुटीक की सप्लाई करने लगीं।


वे कहती हैं,


“स्कार्फ रेशम और पश्मीना से बने थे, जो उस समय काफी लोकप्रिय थे। मैं उन्हें मोतियों, पंखों, लेस और अन्य सामानों के साथ अलंकृत करती हूं ताकि उन्हें बाजार में सबसे अलग रखा जा सके।”


रचना बताती हैं कि हर पीस 80 डॉलर से 400 डॉलर के बीच बिकता है। तीन साल के बाद, रचना ने अपने वर्कप्लेस के रूप में डिफेंस कॉलोनी में एक छोटा बेसमेंट किराए पर लिया। उन्होंने कई शहरों की यात्रा शुरू की, और जल्द ही उनके कॉन्टैक्ट वर्ड-ऑफ-माउथ से बढ़ते गए।


रचना को श्रीमती विजयाराजे सिंधिया (ग्वालियर शाही परिवार की) के लिए एक कस्टमाइज्ड दुपट्टा डिजाइन करना भी याद है। जल्द ही, उनका बिजनेस बढ़ गया, और ग्राहक, ऑफिस की जगह, और उनकी टीम भी बढ़ी जो अब 100 लोगों के पास है।





आज, अनाया कलेक्शन कनाडा और अमेरिका के अलावा यूके, यूरोप, जापान, कोरिया, हांगकांग और चीन में भी मौजूद है, 100 प्रतिशत एक्सपोर्ट ओरिएंटेड डिजाइन स्टूडियो के साथ बड़े ब्रांडों और डिपार्टमेंट स्टोरों को बेच रहा है।


रचना के पति भी उनके साथ काम करते हैं और बिजनेस के मार्केटिंग साइड को संभालते हैं।


वे कहती हैं,


“रास्ते में कई चुनौतियाँ आई हैं। जब मेरा छोटा बेटा केवल 12 दिन का था तो मुझे एक एग्जीबिशन के लिए ट्रैवल करना पड़ा। मेरे व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन को संतुलित करना आसान नहीं है। लेकिन मैं हर समय मेरे परिवार से मिले समर्थन के लिए शुक्रगुजार हूं।"


35,000 रुपये से, अनाया अब 10 करोड़ रुपये की कंपनी में बदल गई है, और इसे आगे ले जाने के लिए तैयार हैं।


वे कहती हैं,

“मैं हमेशा एक बड़ी डिजाइनर बनने की ख्वाहिश रखती हूं, और लगता है कि मेरा सर्वश्रेष्ठ आना अभी बाकी है। जब मेरे बच्चे बड़े हो जाएंगे, तो मेरी योजना संभवत: दिल्ली में रिटेल स्टोर खोलने की है और मेरे अपने शो की है।” 

Daily Capsule
Ashneer Grover launches Crickpe app
Read the full story