Brands of India: DPIIT के एडिशनल सेक्रेटरी ने ग्रामीण आबादी को सशक्त बनाने के लिए लोकलाइज्ड डिजिटल इनोवेशंस के लिए स्टार्टअप्स से किया आग्रह

YourStory की Brands of India इवेंट में उद्घाटन भाषण देते हुए, DPIIT के एडिशनल सेक्रेटरी अनिल अग्रवाल ने भारतीय आंत्रप्रेन्योर्स और स्टार्टअप्स से लोकलाइज्ड डिजिटल इनोवेशंस के साथ आने और ग्रामीण आबादी तक पहुंचने के लिए विजुअल/वॉयस ओटीपी बनाने का आग्रह किया।

Brands of India: DPIIT के एडिशनल सेक्रेटरी ने ग्रामीण आबादी को सशक्त बनाने के लिए लोकलाइज्ड डिजिटल इनोवेशंस के लिए स्टार्टअप्स से किया आग्रह

Friday September 17, 2021,

6 min Read

भारत सरकार के Department for Promotion of Industry and Internal Trade (DPIIT) के एडिशनल सेक्रेटरी अनिल अग्रवाल के मुख्य भाषण के साथ YourStory की Brands of India लॉन्च इवेंट का उद्घाटन 17 सितंबर को शुरू हुआ, जहां अनिल अग्रवाल ने भारतीय आंत्रप्रेन्योर्स और स्टार्टअप्स से भारत की ग्रामीण आबादी को सशक्त बनाने के लिए डिजिटल सेवाओं में लोकलाइज्ड इनोवेशन करने के लिए और अधिक नई चीजों पर काम करने का आह्वान किया।

YourStory's inaugural Brands of India launch event

पिछले कुछ वर्षों में भारत के बढ़े हुए डिजिटाइजेशन पर बोलते हुए, घरेलू ब्रांड्स की क्षमता को गहरा और व्यापक बनाने के लिए, अग्रवाल ने कहा,


"अब हम उन क्षेत्रों तक पहुँच रहे हैं जहाँ सड़क मार्ग से नहीं पहुँचा जा सकता है, जो कि इंटरनेट के माध्यम से संभव हुआ है। कुछ स्थानों पर फिजिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमी हो सकती है, लेकिन हमारा डिजिटल इन्फ्रास्ट्रक्चर उन क्षेत्रों में जा रहा है। उत्तर के आंत्रप्रेन्योर्स दक्षिण में किसानों और व्यापारियों को माल की आपूर्ति कर रहे हैं। यह Bharat Net [भारत सरकार द्वारा शुरू की गई दुनिया की सबसे बड़ी ग्रामीण ब्रॉडबैंड परियोजना] और आंत्रप्रेन्योर्स की महत्वाकांक्षा है जो हमारी ग्रामीण आबादी को सशक्त बना रही है।"


YourStory की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ बातचीत में अग्रवाल ने महामारी के पिछले 15-18 महीनों में घरेलू उपभोक्ताओं को भारतीय ब्रांड्स द्वारा पेश किए गए प्रोडक्ट्स और सर्विसेज पर प्रकाश डाला।


उन्होंने कहा, "भारतीय ब्रांड्स के बारे में बात करने के लिए इससे बेहतर समय नहीं हो सकता है। उन्होंने उन नागरिकों की सेवा करने के तरीके को बदल दिया है जो कंटेनमेंट जोन में हैं। जिस तरह के डिजिटल प्रमाण पत्र हम गरीब से गरीब व्यक्ति को जारी कर रहे हैं। देश आज दुनिया के लिए एक मॉडल है। अब, हम उन्हें वैश्विक स्तर पर ले जाना चाहते हैं, और भारतीय ब्रांड्स को यूएस, ईयू और दक्षिण पूर्व एशियाई बाजारों पर कब्जा करते हुए देखना चाहते हैं।"

YourStory's Brands of India event, DPIIT Additional Secretary Anil Agrawal

लोकलाइज्ड डिजिटाइजेशन की जरूरत

भारत में आज 650 मिलियन से अधिक इंटरनेट यूजर्स हैं, जो अगले दो से तीन वर्षों में 900 मिलियन तक पहुंचने का अनुमान है। भले ही देश दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा इंटरनेट बाजार है, लेकिन अधिकांश डिजिटाइजेशन अंग्रेजी में हुआ है।


अग्रवाल ने कहा, "लेकिन भारतीय आबादी के केवल 10 प्रतिशत लोग ही अंग्रेजी समझते हैं। अगर ब्रांड्स को ग्रामीण आबादी को पूरा करना है, तो उन्हें उनकी भाषा में ग्राहकों की सेवा करने की जरूरत है।" "भारत में 13 लिपियां और 22 आधिकारिक भाषाएं हैं। सरकार क्षेत्रीय भाषाओं में डिजिटाइजेशन को बढ़ावा देने के लिए बड़े कदम उठा रही है।"


एडिशनल सेक्रेटरी ने लोकलाइज्ड नेविगेशन टेक्नोलॉजी के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने कहा, "हमें अपनी मैपिंग के लिए विदेशी जीपीएस सिस्टम पर निर्भर क्यों रहना चाहिए?" "हमारे पास पहले से ही हमारे अपने NaviMaps हैं और हमारे सभी मोबाइल फोन को उस सिस्टम पर काम करने चाहिए। हमें भारतीय स्टार्टअप्स को मैपिंग और ग्रामीण ग्राहकों तक पहुंचने के लिए Navi GPS का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करना होगा। और यह सब उनकी भाषा में होना चाहिए।"


जबकि क्षेत्रीय भाषा इंटरफेस को सक्षम करना सरकार का एक प्रमुख लक्ष्य है, अग्रवाल भारत की ग्रामीण और गैर-साक्षर आबादी के लिए टेक्नोलॉजी के निर्माण के महत्वपूर्ण महत्व पर भी प्रकाश डालते हैं।


उन्होंने कहा, "भारत में निरक्षरता की दर बहुत बड़ी है। यदि आप अपने ब्रांड को ग्रामीण इलाकों में ले जाना चाहते हैं, तो आपको अपने सिस्टम को अंतिम छोर तक के ग्राहकों के लिए डिजाइन करना होगा, जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है। एक साधारण 2G-बेस्ड इनोवेशन का उदाहरण लें, जो कि OTP है। इसने पिछले कुछ वर्षों में इतने सारे डिजिटल ट्रांजैक्शन को सशक्त बनाया है। तो, क्या आपके पास उस आबादी तक पहुंचने के लिए वॉयस ओटीपी या visual OTP हो सकता है, जो पढ़ नहीं सकती है?


"मेरे पास सभी जवाब नहीं हैं। मैं इसे आंत्रप्रेन्योर्स के सामने समाधान के साथ आने के लिए रख रहा हूं," उन्होंने कहा।

YourStory's Brands of India

देश भर में क्षमता निर्माण

अग्रवाल ने कहा कि जनवरी 2016 में शुरू की गई Startup Policy के साथ, और अन्य सरकारी पहलों और आंत्रप्रेन्योर्स की बढ़ती महत्वाकांक्षाओं के साथ, पिछले कुछ वर्षों में पूरे भारत में "जबरदस्त क्षमता निर्माण" हुआ है।


"जब हमने Startup Policy की घोषणा की, तो सरकार में बहुत से लोग नहीं जानते थे कि "स्टार्टअप" क्या है। लेकिन पिछले पांच वर्षों में हमने जो हासिल किया है, वह चौंका देने वाला है। आज भारत में 57,000 से अधिक स्टार्टअप हैं। फरवरी 2020 में, हमने लक्षद्वीप से एक स्टार्टअप रजिस्टर किया। 30 राज्यों में से प्रत्येक स्टार्टअप रैंकिंग फ्रेमवर्क में भाग ले रहा है। हम यंग आंत्रप्रेन्योर्स को सफल बनाने का प्रयास कर रहे हैं।"


जबकि एक्सपर्ट्स का मानना ​​है कि D2C भारतीय ब्रांड्स के लिए 100 अरब डॉलर का अवसर हो सकता है, एडिशनल सेक्रेटरी का विचार है कि घरेलू व्यवसायों को वास्तव में सफल होने के लिए, उन्हें "गुणवत्ता" और "विश्वसनीयता" पर ध्यान देना होगा।


उन्होंने समझाते हुए बताया, "हम ब्रांड्स को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल साधनों की तलाश कर रहे हैं और ई-कॉमर्स पॉलिसी बनाने के लिए एडवांस्ड स्टेज में हैं। हम एक ऐसी व्यवस्था के साथ आएंगे जो स्टार्टअप के लिए अनुकूल होगी। डिजिटल कॉमर्स के लिए एक ओपन नेटवर्क होगा। लेकिन जहां तक ​​​​किसी प्रोडक्ट या सर्विस की विश्वसनीयता का संबंध है, आंत्रप्रेन्योर को इसे बनाए रखना होगा।"


अग्रवाल ने स्वतंत्रता दिवस पर आंत्रप्रेन्योर्स को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्पष्ट आह्वान को दोहराते हुए अपना उद्घाटन भाषण समाप्त किया।


उन्होंने कहा, "यही समय है सही समय। मैं सिर्फ आंत्रप्रेन्योर्स से कहूंगा कि अगर अभी नहीं तो कब? अगर आप नहीं तो कौन? अपनी आकांक्षाओं को पंख दीजिए।"


भारत की D2C अर्थव्यवस्था के विकास को गति देने के लिए YourStory की Brands of India एक पहल है। यह पहल अगले तीन वर्षों में साहसी आंत्रप्रेन्योर्स की खोज, निर्माण और भारत में अतिरिक्त 500 ब्रांड बनाने में मदद करने के लिए ब्रांड बिल्डर्स, D2C स्टार्टअप्स, इन्वेस्टर्स, कॉरपोरेट्स और पॉलिसी मेकर्स सहित D2C इकोसिस्टम के स्टैकहोल्डर्स को एक साथ लाएगी।


इस पहल और D2C इकोसिस्टम के बारे में और अधिक जानने के लिए, brandsofindia.yourstory.com पर विजिट करें।


YourStory की Brands of India पहल से जुड़ने के लिए यहां रजिस्टर करें।




Edited by Ranjana Tripathi

Daily Capsule
TechSparks arrives in Mumbai!
Read the full story